सुल्तानपुरः गंगा दशहरा पर ऐतिहासिक धोपाप धाम मेले की तैयारी पूरी

हर वर्ष गंगा दशहरा को लम्भुआ कोतवाली के गंगा गोमती के तट पर बने धोपाप धाम मेले में काफी भीड़ जुटती है. माना जाता है कि यहां स्नान करने मात्र से ही सारे पाप धुल जाते हैं


Updated: May 23, 2018, 3:32 PM IST

Updated: May 23, 2018, 3:32 PM IST
हर वर्ष गंगा दशहरा के मौके पर सुल्तानपुर जिले में आयोजित होने वाले ऐतिहासिक धोपाप धाम मेले की तैयारियां लगभग पूरी कर ली गई हैं. बुधवार को मौके पर पहुंचे प्रशासनिक अधिकारियों ने मेले की तैयारियों का जायजा लिया और मेला स्थल पर पेयजल, मेलार्थियों की सुरक्षा, विश्रामस्थल और आवागमन के रास्ते का मुआवना भी किया.

निरीक्षण के दौरान अधिकारियों ने नदी किनारे बैरीकेटिंग कराने के निर्देश भी दिए और पूरे दिन एक नाव पर गोताखोरों की ड्यूटी लगाने के भी निर्देश दिए ताकि स्नान-ध्यान के दौरान किसी भी आकस्मिक घटना से बचा जा सके. मेले में भारी सुरक्षा बल भी तैनात किया गया है और प्रशासनिक अधिकारियों को मेले के दौरान पूरी निगाह लगाए रखने के भी निर्देश दिए गए हैं.

गौरतलब है हर वर्ष गंगा दशहरा को लम्भुआ कोतवाली के गंगा गोमती के तट पर बने धोपाप धाम मेले में काफी भीड़ जुटती है. माना जाता है कि यहां स्नान करने मात्र से ही सारे पाप धुल जाते हैं.



मान्यता है कि रावण वध के बाद अयोध्या लौटते समय भगवान राम को ब्राहमण वध करने का पाप बता कर मुनियों ने अपने पाप धोने को कहा था. लिहाजा भगवान राम ने यहीं पर स्नान करके अपने पाप धुले थे, तब से यही मान्यता चली आई है. कहा जाता है सूबे के विभिन्न इलाकों से आकर लोग स्नान करके अपने पाप धुलते हैं साथ ही गौदान, मुंडन जैसे संस्कार भी करते हैं.
Loading...
पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर
Loading...