सुल्तानपुर: हत्या मामले में 2 सगे भाइयों समेत 6 लोगों को उम्रकैद

इस मामले में किशोर आरोपी की पत्रावली विचारण के लिए किशोर न्यायालय के सुपुर्द कर दी गई थी, जिसका ट्रायल वहीं पर चल रहा है.

News18 Uttar Pradesh
Updated: June 21, 2018, 9:09 PM IST
सुल्तानपुर: हत्या मामले में 2 सगे भाइयों समेत 6 लोगों को उम्रकैद
फाइल फोटो
News18 Uttar Pradesh
Updated: June 21, 2018, 9:09 PM IST
सुल्तानपुर में जमीनी विवाद में हुई हत्या के मामले में गैंगस्टर एक्ट की अदालत ने दो सगे भाईयों समेत छह आरोपियों को दोषी ठहराते हुए उन्हें आजीवन कारावास की सजा सुनाई है. साथ ही 69 हजार रुपए का अर्थदण्ड भी लगाया है. बताते चलें कि जयसिंहपुर कोतवाली क्षेत्र के आयुबपुर गांव में पुरानी आबादी की जमींन की रंजिश को लेकर 4 सितम्बर 2007 को यह घटना हुई थी.

उस दिन गांव के ही आरोपी गोवर्धन उसके भाई छेदी, अवध नरायन, दीपू, लल्लन उर्फ लाल जी, नन्हकऊ उर्फ चन्द्र भूषण, सोनू उर्फ ज्ञानेन्द्र, टेढू उर्फ विजय निवास और एक किशोर आरोपी लाठी-डंडों से लैस होकर सुनियोजित ढंग से वादी विपिन वर्मा के राइस मिल पर पहुंचे. यहां उन्होंने विपिन, उसके बाबा रामरूप, पिता भानु प्रकाश और भाई विवेक पर हमला बोल दिया. हमले में विपिन समेत अन्य को गम्भीर चोंटे आईं. वहीं चोटों की वजह से विवेक की मौके पर ही मौत हो गई. बीच-बचाव में आए पवन को भी काफी चोंटे आईं.

यह भी पढ़ें: थाने में हुआ विवाह, पुलिस वालों ने दिया वर-वधू को आशीर्वाद

इस मामले में सभी आरोपियों के खिलाफ हत्या समेत कई धाराओं में एफआईआर दर्ज हुई थी. आरोपियों के खिलाफ गैंगस्टर की भी कार्रवाई की गई थी. तफ्तीश पूरी कर मामले के विवेचक ने सभी लोगों के खिलाफ गैंगस्टर कोर्ट, फैजाबाद में आरोप पत्र दाखिल किया था. इस पर अदालत ने संज्ञान लिया और आरोपियों के खिलाफ विचारण की प्रक्रिया शुरू हुई. बाद में मामला सुल्तानपुर जिले में गैंगस्टर कोर्ट गठित होने पर सुनवाई के लिए ट्रांसफर कर दिया गया.

यह भी पढ़ें: पुलिस के सामने दम तोड़ती रही महिला, अस्पताल पहुंचाने की नहीं उठाई ज़हमत

इस मामले में किशोर आरोपी की पत्रावली विचारण के लिए किशोर न्यायालय के सुपुर्द कर दी गई थी, जिसका विचारण वहीं पर चल रहा है. शेष आरोपियों के खिलाफ स्पेशल जज गैंगस्टर एक्ट की अदालत में विचारण चला. विचारण के दौरान आरोपी अवध नरायन व लल्लन उर्फ लालजी की मृत्यु हो चुकी है. मामले में 10 गवाहों एवं अन्य साक्ष्यों को पेश किया गया. वहीं बचाव पक्ष ने 5 गवाहों एवं अन्य तर्कों को अदालत के समक्ष रखा. दोनों पक्षों को सुनने के बदा स्पेशल जज गैंगस्टर एक्ट उदयभान सिंह ने सभी 6 आरोपियों को दोषी ठहराते हुए आजीवन कारावास और 69 हजार रुपए अर्थदण्ड की सजा सुनाई.

ये भी पढ़ें- सुल्तानपुर के श्रम विभाग में 40 लाख रुपए का घोटाला

सुलतानपुर का नाम रोशन करने वाले मजरूह सुल्तानपुरी अपने ही शहर में अजनबी हो गए...

International Yoga Day: तस्वीरों में देखिए सीएम योगी आदित्यनाथ और उनके मंत्रियों के आसन
पूरी ख़बर पढ़ें
अगली ख़बर