सुल्तानपुर: सरेराह चार लोगों को मौत के घाट उतारने वाले लईक को सजा-ए-मौत

मुख्य अभियुक्त लईक अहमद को कोर्ट ने सुनाई फांसी की सजा

मुख्य अभियुक्त लईक अहमद को कोर्ट ने सुनाई फांसी की सजा

Sultanpur News: कोर्ट ने लंबी सुनवाई के बाद गत शनिवार को साक्ष्यों का अवलोकन करने के बाद दोनों अभियुक्तों लईक अहमद और मोहम्मद उमर को हत्या व जानलेवा हमले का दोषी मानते हुए फैसला सुरक्षित रख लिया था.

  • News18Hindi
  • Last Updated: March 10, 2021, 9:01 AM IST
  • Share this:
सुल्तानपुर. 7 अक्टूबर 2015 को चांदा थाना क्षेत्र के कोइरीपुर नगर पंचायत के शास्त्रीनगर में एक ही परिवार के चार लोगों की निर्मम हत्याकांड (Murder Case) में सुल्तानपुर (Sultanpur) फ़ास्ट ट्रैक कोर्ट (Fast Track Court) की जज पूनम सिंह ने एक आरोपी को फांसी तो दूसरे को उम्र कैद की सजा सुनाई है. लईक अहमद और मोहम्मद उमर धारदार हथियार से एक ही परिवार के जावेद मोईनुद्दीन, जौहर और गौहर की सरेराह हत्या कर दी थी.

कोर्ट ने लंबी सुनवाई के बाद गत शनिवार को साक्ष्यों का अवलोकन करने के बाद दोनों अभियुक्तों लईक अहमद और मोहम्मद उमर को हत्या व जानलेवा हमले का दोषी मानते हुए फैसला सुरक्षित रख लिया था. मंगलवार को फ़ास्ट ट्रैक कोर्ट की जज पूनम सिंह ने अपना फैसला सुनाया. इसमें मुख्य अभियुक्त लईक अहमद को फांसी तो मोहम्मद उमर को उम्र कैद की सजा सुनाई गई. साथ ही कोर्ट ने दोनों के ऊपर 17-17 हजार का जुर्माना भी लगाया है. बता दें कोर्ट ने कोर्ट ने सह अभियुक्त लल्लू को साक्ष्य के अभाव में बरी कर दिया था.

सुनवाई के दौरान 10 गवाह कोर्ट में हुए पेश 

गौरतलब है कि पुलिस ने इस मामले में सरफुद्दीन की तहरीर पर आरोपी मो. उमर व लईक अहमद के खिलाफ हत्या का मुकदमा दर्ज किया था. मामले की विवेचना पूरी कर 23 जनवरी 2016 को पुलिस ने आरोपी मो. उमर व लईक अहमद के साथ ही लल्लू के खिलाफ भी हत्या व जानलेवा हमले के अभियोग में चार्जशीट दाखिल की थी. मुकदमे की सुनवाई के दौरान अभियोजन पक्ष की ओर से पैरवी कर रहे एडीजीसी क्रिमिनल मनोज कुमार दुबे ने घटना को साबित करने के लिए 10 गवाहों को कोर्ट में पेश किया.
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज