होम /न्यूज /उत्तर प्रदेश /गांव के मेले में बिछड़ गया था जिलाजीत, हाथ के 'गोदना' और फेसबुक ने 26 साल बाद परिवार से कराया मिलन

गांव के मेले में बिछड़ गया था जिलाजीत, हाथ के 'गोदना' और फेसबुक ने 26 साल बाद परिवार से कराया मिलन

गांव के मेले में खोया हुआ एक मूक-बधिर युवक हाथ पर बने टैटू की बदौलत 26 साल बाद अपने परिवार से मिला. (Facebook Photo)

गांव के मेले में खोया हुआ एक मूक-बधिर युवक हाथ पर बने टैटू की बदौलत 26 साल बाद अपने परिवार से मिला. (Facebook Photo)

आजमगढ़ से 260 किमी पश्चिम रायबरेली के हटवा गांव में एक नाई की दुकान पर, ग्राम प्रधान दिलीप सिंह ने एक बूढ़े व्यक्ति को ...अधिक पढ़ें

आजमगढ़: गांव के मेले में खोया हुआ एक मूक-बधिर युवक हाथ पर बने टैटू की बदौलत 26 साल बाद अपने परिवार से मिला. सोशल मीडिया के कारण जिलाजीत सिंह मौर्य के लिए सुखद अंत, या यूं कहें कि एक नई शुरुआत संभव हुई. टाइम्स ऑफ इंडिया की रिपोर्ट के मुताबिक, आजमगढ़ के गोठान गांव के एक संपन्न किसान परिवार का सबसे छोटा बेटा जिलाजीत 1 जून 1996 को लापता हो गया था. जिलाजीत के भांजे चंद्रशेखर मौर्य (46) ने कहा, तब मामा 35 साल के थे. पिता सोहन मौर्य और 2 अन्य भाइयों ने जिलाजीत की तलाश शुरू की. 1991 में उनकी मां का देहांत हो गया था.

चंद्रशेखर ने कहा, ‘वह मानसिक रूप से दूसरों की तरह सतर्क भी नहीं थे. मेरे पिता और मामाओं ने आसपास के जिलों का दौरा किया, लेकिन उनका कोई पता नहीं चला. हमने तीर्थ स्थलों का दौरा किया, गरीबों को भिक्षा दी, अनुष्ठान किए, लेकिन सब व्यर्थ रहा.’ जिलाजीत के पिता की 2011 में मृत्यु हो गई. परिवार धीरे-धीरे इस दुख को भूल गया. यह मान लिया कि अब ​जिलाजीत वापस नहीं आएगा. चंद्रशेखर को अपने किसी सहयोगी से एक दिन जिलाजीत के टैटू वाले हाथ की फेसबुक फोटो मिली.

VIDEO: पहली बार बर्फ देखते ही खुशी से उछलने लगा रेगिस्तान का जहाज, नाच-नाच कर सर्दी एंजॉय करता दिखा ऊंट

आपके शहर से (आजमगढ़)

आजमगढ़
आजमगढ़

आजमगढ़ से 260 किमी पश्चिम रायबरेली के हटवा गांव में एक नाई की दुकान पर, ग्राम प्रधान दिलीप सिंह ने एक बूढ़े व्यक्ति को बुरी हालत में देखा, जो बोल या सुन नहीं सकता था. बुजुर्ग के ठिकाने का सुराग, उसके हाथ पर एक ‘गोदना’ (प्राकृतिक रंग का उपयोग करके बना टैटू) से मिला, जिसमें उसका नाम और पता था लिखा था, जो काफी फीका पड़ गया था. लेकिन ‘मौर्य’ और ‘आजमगढ़’ शब्द अभी भी सुपाठ्य थे. प्रधान दिलीप सिंह बुजुर्ग को अपने घर ले गए, उसके टैटू वाले हाथ की तस्वीर खींची और उसे फेसबुक पर पोस्ट कर दिया.

एक दिन फेसबुक पर पोस्ट की गई यह तस्वीर चंद्रशेखर के सहयोगी के ध्यान में आई. चंद्रशेखर ने कहा, ’13 दिसंबर को एक साथी शिक्षक ने मुझे अमेठी के शिवेंद्र सिंह द्वारा फेसबुक पर पोस्ट की गई एक बुजुर्ग व्यक्ति की तस्वीर भेजी, जिसके हाथ पर कुछ गुदा था और फीका पड़ गया था.’ चंद्रशेखर ने शिवेंद्र को एफबी मेसेंजर पर संदेश भेजा, जो ग्राम प्रधान दिलीप सिंह का पुत्र है. टीओआई ने शिवेंद्र के हवाले से लिखा, ‘मेरे पिता बुजुर्ग को घर ले आए, उन्हें खाना खिलाया और डॉक्टर को बुलाया. फिर, हमने उनके परिवार के सदस्यों की तलाश शुरू की.’

न्यूड बीच पर फोटो खिंचवा रही मॉडल के पोज़ पुलिस को लग गए आपत्तिजनक! लिया ऐसा एक्शन कि उड़े महिला के होश

जिलाजीत के भाइयों द्वारा उसकी पहचान की पुष्टि करने के बाद, चंद्रशेखर और उसका छोटा भाई मंगलवार को रायबरेली के हटवा ग्राम प्रधान दिलीप सिंह के घर पहुंचे और अपने मामा को वापस ले आए. जिलाजीत की वापसी परिवार के लिए किसी त्योहार से कम नहीं थी. उसके दोनों भाई खुशी से नाचने लगे और ग्रामीणों में खीर बांटी. शायद कोई भी उस दर्द और परेशानी को नहीं समझ पाएगा, जिससे जिलाजीत करीब ढाई दशक तक गुजरे. वह संवाद नहीं कर सकते थे. न ही सुन सकते थे.

Tags: Trending news, Trending news in hindi, Weird news

विज्ञापन

टॉप स्टोरीज

अधिक पढ़ें