मुसीबत: दुबई से लौटे युवक को गर्भवती पत्नी सहित परिजनों ने घर से निकाला, शादी से नहीं हैं खुश
Badaun News in Hindi

मुसीबत: दुबई से लौटे युवक को गर्भवती पत्नी सहित परिजनों ने घर से निकाला, शादी से नहीं हैं खुश
पुलिस को आपबीती सुनाता पीड़ित युवक.

बदायूं (Badaun) जिले में एक परिवार ने दुबई (Dubai) से बेरोजगार होकर लौटे अपने बेटे (Son) और बहू (daughter-in-law) को घर से निकाल (Homeless) दिया है. बहू आठ महीने की गर्भवती है. ऐसे में बेटे ने पुलिस (Police) से मदद की गुहार लगाई है.

  • News18Hindi
  • Last Updated: September 10, 2020, 12:02 PM IST
  • Share this:
 बदायूं. कोरोना (corona) काल मं जहां एक युवक की नौकरी (Job) चली गई वहीं लौटकर घर आने पर घर वाले ही पराए हो गये. युवक को घर वालों ने अपने घर के अंदर तक नहीं आने दिया. दरअसल बदायूं (Badaun) जिले के मोहम्मद नईम दुबई में काम करते थे. कोरोना काल में किसी वजह से उनकी नौकरी (Job) चली गई तो नईम अपने घर बदायूं लौटे, लेकिन यहां पर उनके घर वालों ने उनको घर से ही निकाल दिया. नईम के पास फिलहाल रहने के लिए कोई घर नहीं है इसलिए वो दर-दर की ठोकर खाने के लिए मजबूर हैं.

सऊदी अरब में ड्राइवर की नौकरी करने वाले नईम को उनके घर वाले इस बात की सजा दे रहे हैं कि नईम ने अपनी पसंद की शादी की थी. इस बात को लेकर उसके घर वाले खफा हैं. अपने बेटे और बहू को घर से निकाल दिया. वहीं कोरोना के कारण लॉकडाउन के चलते नईम की दुबई में नौकरी चली गई, जिसके कारण उसको भारत लौटना पड़ा. लेकिन यहां घर वालों ने उसे अपने घर में रखने की बजाय घर से ही निकाल दिया. नईम ने इस मामले की शिकायत पुलिस से की है. उसने बताया कि उसकी पत्नी आठ महीने की गर्भवती है ऐसे में दर-दर भटकना उसके लिए खतरनाक है. नईम का कहना है कि वह सऊदी अरब से लाखों रुपया कमा कर अपने घर वालों के खातों में भेजता रहा है, लेकिन जब मुसीबत का दौर आया तो उन्हीं घर वालों ने उसे बेघर कर दिया.

खुशखबरी! UP से दिल्‍ली के लिए रोडवेज बस शुरू, राजस्‍थान और हरियाणा के लिए कल से बहाल होंगी सेवाएं



क्या है पूरा मामला
दरसल यह पूरा मामला कोतवाली थाना क्षेत्र के मोहल्ला मौलवी टोला के नईमुद्दीन का है. जिन्होंने गुरुवार को अपनी व्यथा पत्नी के साथ मिलकर एसपी सिटी को सुनाई. दरअसल नईम काफी सालों से सऊदी अरब में ड्राइवर की नौकरी करता था. 2016 में उसने अपनी पसंद से शादी की जिसमें उसके घर वालों की भी रजामंदी थी. शादी के 2 माह बाद वह वापस सऊदी अरब अपने काम पर लौट गया. इस दौरान उसकी पत्नी उसके घरवालों के साथ रहती थी. नईम जितना पैसा वहां कमाता था वह सब अपने घरवालों के खाते में भारत भेजता था. नईम का कहना है कि उसने लगभग 10 लाख रुपया अपने पिता और बहनों के खाते में सऊदी अरब से ट्रांसफर किया है. जिसकी रसीद उसके पास मौजूद है.

लॉकडाउन से पहले जब नईम वापस हिंदुस्तान लौटा तो वह सोचता था कि अपने घर वालों के साथ अब इत्मीनान से रहेगा, लेकिन यहां आकर तो जैसे उसकी दुनिया ही उजड़ गई, उसके घर वालों ने साफ-साफ कह दिया कि वह अब घर में नहीं रह सकता. इस समय ना तो नईम के पास नौकरी है ना ही रहने का ठिकाना. ऊपर से उसकी पत्नी प्रेग्नेंट है. जब यह पूरा मामला एसपी सिटी प्रवीण सिंह चौहान के संज्ञान में आया तो उन्होंने तत्काल पीड़ित परिवार के प्रति सहानुभूति दिखाते हुए सदर कोतवाली पुलिस को निर्देश दिए कि वह तत्काल नईम के परिजनों को बुलाकर मामले की जांच पड़ताल करें और मामले का निस्तारण करवाएं.
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज