Assembly Banner 2021

OMG! चार लड़कों के साथ घर से भागी लड़की शादी को लेकर हो गई कन्‍फ्यूज, जानिए फिर कैसे लिया फैसला

अंबेडकरनगर में एक लड़की चार लड़कों के साथ भाग गई, जिसके बाद पंचायत ने उसके लिए दूल्हा चुना. (प्रतीकात्मक फोटो)

अंबेडकरनगर में एक लड़की चार लड़कों के साथ भाग गई, जिसके बाद पंचायत ने उसके लिए दूल्हा चुना. (प्रतीकात्मक फोटो)

यूपी(UP) के अंबेडकरनग (Ambedkaranagar) नगर में पंचायत ने पर्ची डालकर एक लड़की के लिए दूल्हा चुना. ये लड़की चार लड़कों के साथ घर भाग गयी थी और पकड़े जाने के बाद तय नहीं कर पा रही थी कि किस से शादी (Marrige) की जाए.

  • Share this:
अंबेडकरनगर. यूपी (Uttar Pradesh) के अंबेडकरनग नगर (Ambedkar Nagar) से एक हैरतअंगेज मामला सामने आया है, जिसको सुनकार आपके होश उड़ जाएंगे.जो बात हम आपको बताने जा रहे हैं उस पर कोई यकीन करने के लिए जल्द तैयार नहीं होगा, मगर क्या करें हकीकत तो यही है. अंबेडकरनगर में एक लड़की शादी करने के लिए चार लड़कों के साथ भाग गई, लेकिन बाद में वह खुद कन्फ्यूज हो गई कि आखिर शादी किस लड़के से की जाएं. आखिरकार लड़के के लिए दूल्हा चुनने के लिए पंचायत बैठी और पर्ची डालकर फैसला करना पड़ा.

मामला कोतवाली टांडा के अजीमनगर थाना इलाके का है. यहां पर इस समस्या को हल करने के लिए बाकायदा पंचायत बैठी और पर्ची डालकर फैसला किया गया. सभी चार युवक पांच दिन पहले इस लड़की को उसके घर से भागकर ले गए थे. आरोपियों ने दो दिन तो युवती को अपनी रिश्तेदारी में छिपाकर रखा, लेकिन छानबीन में वे लोग पकड़े गए. युवती के परिजन आरोपियों के खिलाफ मुकदमे की तैयारी करने लगे, लेकिन पंचायत ने शादी करने का प्रस्ताव रख दिया. जब लड़की से पूछा गया कि वह किस लड़के से शादी करेगा तो वह तय नहीं कर पा रही था कि कौन से लड़का शादी केलिए सही होगा. इस पर पंचायत बैठी और पर्ची डालकर लड़की के लिए दूल्हा चुना गया.

लड़के भी नहीं थे तैयार



मामले में पेंच तो तब फंस गया जब लड़की को भगाने वाले कोई भी युवक उससे शादी के लिए तैयार नहीं हो रहा था. मामले का कोई हल न निकलने पर पंचों ने तीन दिन तक बंद कमरे में इस बात पर चर्चा की कि आखिर अब क्या किया जा सकता है. काफी सोच-विचार के बाद पंचायत ने तय किया कि अब लड़की से शादी कौन करेगा इसका फैसला पर्ची डालकर ही किया जा सकता है.
निर्दोष होते हुए भी विष्णु तिवारी ने रेप और हरिजन एक्ट के मुकदमे में काटी 20 साल की सजा, रिहा होने के बाद कही ये बात

ऐसे हुआ फैसला

चारों युवकों के नाम की पर्ची डाली गई और जो नाम निकला उसी पर समझौता हो गया. पंचायत के दौरान चारों युवकों के नाम पर्ची पर लिखने के बाद उसे कटोरी में रख दिया गया. इस दौरान पंचों ने एक छोटे बच्चे से एक पर्ची को उठाने के लिए कहा. बच्चे के पर्ची उठाते ही तीन दिन से चल रहा विवाद सुलझ गया और युवती की शादी उसी युवक के साथ तय हो गई जिसका नाम पर्ची में निकला.
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज