अपना शहर चुनें

States

Happy Christmas Day 2020: काशी के इस चर्च में हर शाम गूंजती है हर-हर महादेव की आवाज, दीवारों पर लिखे हैं गीता के श्लोक

वाराणसी के इस चर्च की दीवारों पर गीता का संदेश लिखा है.
वाराणसी के इस चर्च की दीवारों पर गीता का संदेश लिखा है.

आज क्रिसमस (Christmas) है. इस मौके पर हम आपको बनारस (Banaras) के एक अनोखे चर्च (Church) के बारे में बता रहे हैं. इस चर्च की निर्माण शैली उसकी वास्तु (Architectural) कला सब मंदिर (Temple) से मिलती है. इस चर्च में रोज शाम को हर-हर महादेव का जयघोष गूंजता है.

  • News18Hindi
  • Last Updated: December 25, 2020, 6:24 PM IST
  • Share this:
वाराणसी. देश की सांस्कृतिक राजधानी और प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी (PM Narendra Modi) के संसदीय क्षेत्र वाराणसी (Varanasi) में गंगा-जमुनी तहजीब की अनोखी मिसाल देखने को मिलती है. यहां एक चर्च (Church) ऐसा है, जो सर्व-धर्म समभाव का संदेश देता है. वाराणसी में दुनिया का एक ऐसा चर्च है, जहां रोज शाम को गीता के श्लोकों (Shlokas of Geeta) की गूंज सुनाई देती है. इस चर्च की दीवारों पर गीता के श्लोक लिखे हुए हैं.

कैंटोनमेंट स्थित सेंट मैरी कैथेड्रेल चर्च की दीवारों पर बाइबिल के संदेश के साथ ही श्रीमद्भागवत गीता के श्लोक पीतल की धातु से बने अक्षरों में उकेरे गए हैं. चर्च के अंदर दीवारों पर हर तरफ इन श्लोकों को देखा और पढ़ा जा सकता है.

अष्टकोणीय वास्तुकला की अनोखी मिसाल
सेंट मैरी कैथेड्रेल अष्टकोणीय वास्तुकला की अनोखी मिसाल है. भारतीय संस्कृति को ध्यान में रखते हुए इसका निर्माण कराया गया है. चर्च का निचला हिस्सा अष्टकमल के फूल के आकार का है. जाने-माने आर्किटेक्ट कृष्ण मेनन और ज्योति शाही ने इसकी डिजाइन तैयार की थी.
गोवर्धन का प्रसिद्ध मंदिर बना जंग का मैदान, पुजारियों में जमकर चले लात-घूंसे



हर-हर महादेव की गूंजती है आवाज
गिरजाघर के फादर विजय शांति राज ने मीडिया को बताया कि चर्च में सभी धर्मों के लोग प्रार्थना के लिए आते हैं. रविवार को प्रार्थना के बाद हर-हर महादेव के जयघोष भी यहां गूंजते हैं. यहां आने वाले लोग मानते हैं कि ये चर्च ईसा मसीह के उस संदेश को दर्शाता है, जिसमें उन्होंने ईश्वर को एक बताया है.

क्रिसमस पर दिखती है अलग रंगत
क्रिसमस पर वाराणसी के इस चर्च को खास तरीके से सजाया जाता है. क्रिसमस के दिन इस रंगत को देखने के लिए शहर भर से लोग यहां आते हैं. यहां पर आधे किलोमीटर के इलाके में मेले जैसा माहौल रहता है.
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज