• Home
  • »
  • News
  • »
  • uttar-pradesh
  • »
  • Noida News: Fastag की दो लेन से ‘यमुना एक्सप्रेस-वे’ पर और बढ़ी वाहन चालकों की मुसीबत

Noida News: Fastag की दो लेन से ‘यमुना एक्सप्रेस-वे’ पर और बढ़ी वाहन चालकों की मुसीबत

यमुना एक्सप्रेस-वे के टोल पर फास्टैग सर्विस शुरु होने के बाद परेशानी और बढ़ गई हैं. फाइल फोटो

New Problems At Toll Plaza: वाहनों (Vehicle) की लम्बी-लम्बी लाइन लग रही हैं. सबसे ज्यादा परेशानी जेवर टोल प्लाजा (Jewar Toll Plaza) पर हो रही है.

  • Share this:
    नोएडा. यमुना एक्सप्रेस-वे (Yamuna Expressway) पर फास्टैग के 7 दिन चले ट्रॉयल के बाद इसे स्थायी रूप से लागू कर दिया गया है, लेकिन फास्टैग लागू होने के बाद वाहन चालकों की मुसीबत कम होने के बजाए और बढ़ गई हैं. टोल प्लाजा (Toll Plaza) की लेन में पहले के मुकाबले और ज्यादा वक्त तक अपनी बारी का इंतजार करना पड़ रहा है. यह परेशानी सिर्फ बिना फास्टैग (Fastag) वालों की ही नहीं है. एक टोल प्लाजा पर फास्टैग की सिर्फ दो लेन होने के चलते फास्टैग वालों को भी परेशानी का सामना करना पड़ रहा है. वाहनों की लम्बी-लम्बी लाइन लग रही हैं. सबसे ज्यादा परेशानी जेवर टोल प्लाजा (Jewar Toll Plaza) पर हो रही है.

    गौरतलब रहे कि 15 जून से यमुना एक्सप्रेस-वे पर फास्टैग का ट्रॉयल किया गया था. यह ट्रॉयल करीब 7 दिन तक चला था. इसके बाद यमुना एक्सप्रेस-वे को संचालित करने वाली कंपनी जेपी इंफ्राटेक ने फास्टैग को मंजूरी दे दी.

    यमुना एक्सप्रेस वे पर दो लेन से हुई है फास्टैग की शुरुआत
    जेपी इंफ्राटेक के अफसरों के मुताबिक ‘यमुना एक्सप्रेस वे’ पर फास्टैग सर्विस के ट्रायल की शुरुआत टोल प्लाजा की दो लेन से हुई थी. ट्रॉयल के दौरान किसी भी तरह की परेशानी सामने न आने पर उसी लेन को फास्टैग के लिए निर्धारित कर दिया गया है, लेकिन बाद में जरूरत के हिसाब से इन्हें बढ़ाया जाएगा. कोरोना-लॉकडाउन का अभी भी एक्सप्रेस-वे पर असर देखने को मिल रहा है.

    अभी ट्रेफिक कम है, तो ये हाल है
    अभी एक्सप्रेस-वे पर ट्रैफिक कम है. जबकि कोरोना-लॉकडाउन से पहले के दिनों में आंकड़ों के मुताबिक एक्सप्रेस-वे से हर रोज करीब 40 हजार वाहन गुजरते थे. इसमे दो पहिया और हल्के चार पहिया से लेकर भारी वाहन भी शामिल हैं.

    ग्रेटर नोएडा के हर गांव और सेक्टर में बनेगा स्टेडियम और खेल का मैदान, 100 करोड़ रुपये होंगे खर्च

    अभी एक्सप्रेस-वे पर ट्रैफिक कम है. जबकि कोरोना-लॉकडाउन से पहले के दिनों में आंकड़ों के मुताबिक एक्सप्रेस-वे से हर रोज करीब 40 हजार वाहन गुजरते थे. इसमे दो पहिया और हल्के चार पहिया से लेकर भारी वाहन भी शामिल हैं.

    यमुना एक्सप्रेस-वे पर देरी से शुरू हुई है फास्टैग सर्विस
    जानकारों की मानें तो एनएचएआई (NHAI) देशभर में टोल प्लाजा पर फास्टैग सर्विस अनिवार्य कर चुका है. मौजूदा वक्त में देश के लगभग सभी टोल प्लाजा पर फास्टैग सर्विस से ही टोल वसूला जा रहा है. वहीं दूसरी ओर प्राइवेट कंपनी जेपी इंफ्राटेक द्वारा एक्सप्रेस-वे पर अब कुछ दिन पहले ही फास्टैग सर्विस शुरु की गई है. इसकी सबसे बड़ी वजह इसका प्राइवेट होना बताया जा रहा है.

    पढ़ें Hindi News ऑनलाइन और देखें Live TV News18 हिंदी की वेबसाइट पर. जानिए देश-विदेश और अपने प्रदेश, बॉलीवुड, खेल जगत, बिज़नेस से जुड़ी News in Hindi.

    विज्ञापन
    विज्ञापन

    विज्ञापन

    टॉप स्टोरीज