चन्दौली: 1.5 करोड़ की प्रतिबधित फेंसिड्रिल दवाई के साथ ट्रक चालक गिरफ्तार, बिहार के औरंगाबाद में होनी थी सप्लाई

न्दौली में 1.5 करोड़ की प्रतिबधित फेंसिड्रिल दवाई के साथ पुलिस ने ट्रक चालक को गिरफ्तार किया है.

न्दौली में 1.5 करोड़ की प्रतिबधित फेंसिड्रिल दवाई के साथ पुलिस ने ट्रक चालक को गिरफ्तार किया है.

चंदौली में क्राइम ब्रांच (Crime Branc) और पुलिस (Police) ने संयुक्त कार्रवाई करते हुये करीब 1.5 करोड़ रुपए की अवैध नशीली फेंसिडिल सिरप बरामद की है. इस खेप के साथ पुलिस ने 1 ट्रक ड्राइवर (Truck driver) को गिरफ्तार किया है.

  • News18Hindi
  • Last Updated: February 28, 2021, 5:05 PM IST
  • Share this:
चंदौली. यूपी (UP) के चन्दौली में क्राइम ब्रांच (Crime Branc) और सदर कोतवाली पुलिस (Police) ने संयुक्त कार्रवाई करते हुये एक लगभग 1.5करोड़ रुपए की अवैध नशीली फेंसिडिल सिरप बरामद की है. नशे की इस बड़ी खेप के साथ पुलिस ने 1 ट्रक ड्राइवर को गोरफ्तार किया है. दरअसल नशे के कारोबार में फेंसिडिल सिरप के अपने ग्राहक हैं और इसकी डिमांड उन जगहों में ज्यादा है जहां पर शराब पर पाबंदी है या गरीब तबके के लोग रहते हैं.

इस बड़ी कार्रवाई में क्राइम ब्रांच को हत्थे  17 हजार से ज्यादा  फेंसेडिल की शीशियां हाथ लगीं हैं, जिनकी बाजार में अनुमानित कीमत लगभग 50 लाख रुपए है. पुलिस अधीक्षक के अनुसार ब्लैक मार्किट में यह तीन गुने रेट पर बिकती है, जिसको देखते हुए बरामद सिरप की कीमत 1.5 करोड़ से ज्यादा बताई जा रही है. इस दवाओं को बेहद शातिराना तरीके से एक ट्रक में लोड कर उसके ऊपर क्रॉकरी लाद दी गई थी. मुखबिर की सूचना पर क्राइम ब्रांच ने ट्रक को रोककर जब तलाशी ली तो सारा मामला सामने आया है.

पुलिस ट्रक ड्राइवर को हिरासत में लेकर पूछताछ कर रही है. ड्राइवर ने बताया कि इस दवा की खेप को बिहार के ओरंगबाद जिले में पहुंचाना था, जिसके बाद नशे की ये बड़ी खेप बिहार, पश्चिम बंगाल और पूर्वोत्तर के राज्यों में सप्लाई होनी थी. इससे पहले वाराणसी एसटीएफ ने भी भारी मात्रा में इस ब्रांड की दवाओं को बरामद किया था. माना जा रहा है बिहार और पूर्वोत्तर राज्यों में एक गिरोह द्वारा उत्तर प्रदेश के विभिन्न जिलों से मादक पदार्थों एवं दवाओं की तस्करी की जा रही है. जहां इन दवाओं का उपयोग नशा करने के लिये किया जा रहा है.

चंदौली: यात्रियों से भरी बस अनियंत्रित होकर खड़े ट्रक से टकराई, ड्राइवर की मौत
पक्षिम बंगाल में चुनाव प्रस्तावित है और माना जा रहा है कि दवाई के रूप में नशे की इस खेप को औरंगाबाद के साथ साथ पक्षिम बंगाल और  नार्थईस्ट के राज्यों को सप्लाई किया जाना था. गिरफ्तार आरोपी ने पूछताछ में बताया की इस दवा का उपयोग नशे के रूप में किया जाता है जिसे वह लेकर बिहार के औरंगाबाद जा रहा था. पूरे मामले में पुलिस ने ट्रक ड्राइवर से पूछताछ के आधार पर पुलिस इसके मुख्यारोपी की तलाश में जुट गई है. साथ ही ट्रक ड्राइवर के खिलाफ गंभीर धाराओं के तहत मुकदमा दर्ज कर उसे जेल भेज दिया है. बता दें कि प. बंगाल एवं पूर्वाेत्तर राज्यों में नशा करने वाले लोग इसका प्रयोग नशीले पदार्थ के रूप में करते हैं और यह सिरप वहां पर ऊंचे दामों में बिकता है.
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज