नहीं आई एंबुलेंस तो बारह साल का पोता बीमार दादी को ठेले पर ले गया अस्पताल

पडोसियों ने एंबुलेंस बुलाने का प्रयास किया लेकिन एंबुलेंस नहीं आयी . छोटू दादी को ठेले पर लेकर विक्रमजोत सामुदायिक स्वास्थ्य केन्द्र ले गया जो गांव से तीन किलोमीटर दूर है. अनारा देवी का इस समय इलाज चल रहा है.

भाषा
Updated: June 23, 2018, 11:47 PM IST
नहीं आई एंबुलेंस तो बारह साल का पोता बीमार दादी को ठेले पर ले गया अस्पताल
प्रतीकात्मक फोटो
भाषा
Updated: June 23, 2018, 11:47 PM IST
एंबुलेंस नहीं मिलने पर 12 साल के एक लड़के द्वारा अपनी बीमार दादी को ठेले से सामुदायिक स्वास्थ्य केन्द्र ले जाने का मामला सामने आया है. यह घटना बस्ती जिले की है और अब जिला प्रशासन ने पूरे प्रकरण की जांच के आदेश दिये हैं.

कमालपुर गांव की 85 वर्षीय अनारा देवी  की तबियत शुक्रवार दोपहर अचानक खराब हो गयी. उस समय 12 वर्षीय छोटू घर पर अकेला था . पडोसियों ने एंबुलेंस बुलाने का प्रयास किया लेकिन एंबुलेंस नहीं आयी . छोटू दादी को ठेले पर लेकर विक्रमजोत सामुदायिक स्वास्थ्य केन्द्र ले गया जो गांव से तीन किलोमीटर दूर है. अनारा देवी का इस समय इलाज चल रहा है.

ये भी पढ़ें: VIDEO : बस्ती में ट्रैक्टर पलटने से 3 मजदूर की मौत,6 लोग घायल

संपर्क किये जाने पर कार्यवाहक जिलाधिकारी अरविन्द पाण्डेय ने कहा कि घटना का संज्ञान लेते हुए जिले के मुख्य चिकित्साधिकारी से जांच को कहा गया है. दो दिन में रिपोर्ट मिल जाएगी और दोषियों पर कडी कार्रवाई होगी. छोटू ने कहा कि दादी दर्द से कराह रही थी और उनकी हालत लगातार बिगड रही थी. एंबुलेंस का कुछ देर तक इंतजार करने के बाद 'मैंने दादी को ठेले से ही ले जाने का फैसला किया.'

अनारा देवी के बेटे  अशोक कुमार ने कहा 'मेरी वित्तीय स्थिति अच्छी नहीं है और मैं अपनी मां को अच्छा इलाज नहीं कर पा रहा हूं.' पेशे से मजदूर अशोक ने कहा, 'जब मैं घर नहीं था तो मेरा बेटा मां को सीएचसी ले गया. अब डॉक्टर मुझसे कुछ टेस्ट बाहर से कराने के लिए कहा है.  मैं इसके लिए धन की व्यवस्था करने की कोशिश कर रहा हूं.'
पूरी ख़बर पढ़ें
अगली ख़बर