हमीरपुर पहुंचीं उमा भारती बोलीं- यमुना किनारे कुटिया बनाकर रहूंगी, गरीबों की भलाई के लिए करूंगी काम

हमीरपुर पहुंची बीजेपी की वरिष्ठ नेता उमा भारती.
हमीरपुर पहुंची बीजेपी की वरिष्ठ नेता उमा भारती.

एक समारोह में हमीरपुर (Hamirpur) पहुंचीं उमा भारती (Uma Bharti) ने कहा कि गरीबों के हित में चल रही योजनाओं की देखरेख के लिए वो यमुना नदी (Yamuna River) के किनारे कुटिया बनाकर रहेंगी और योजनाओं के काम का जायजा लेंगी.

  • News18Hindi
  • Last Updated: November 1, 2020, 1:14 PM IST
  • Share this:
हमीरपुर. बीजेपी(BJP) की वरिष्ठ नेता उमा भारती (Uma Bharti) आज हमीरपुर पहुंची और विकास कार्यों का जायजा लिया. यहां पर उमा भारती ने कहा कि मैं बुंदेलखंड के यमुना किनारे कुटिया बना रहूंगी और यहां से बुंदेलखंड (Bundelkhand) की ग

रीबी को दूर करने के लिए केंद्र और राज्य सरकार द्वारा जारी योजनाओं की सही से निगरानी करूंगी. हमीरपुर में उमाभारती आज संत जयवीर सिंह को श्रद्धांजलि आर्पित की.

हमीरपुर जिले के मेरापुर स्थित संत जयवीर सिंह के श्रद्धांजलि समारोह में शामिल होने पहुंची भाजपा की फायर ब्रांड नेता और मध्य प्रदेश की पूर्व मुख्यमंत्री उमाभारती ने कहा कि वो बुंदेलखंड में केंद्र और राज्य सरकार के द्वारा गरीबी को दूर करने के लिए संचालित योजनाओं की सही तरीके से निगरानी करने के लिए यहीं यमुना के किनारे कुटिया बनाकर रहेंगी, जिससे कि वो समय पर सभी योजनाओं को पूरा करा सकें.



उन्होंने कहा था कि कई तरह के अभाव के कारण सरकारी योजनाएं पूरी होने में अधिक समय लग जाता है, इसलिए समय पर इन योजनाओं को पूरा कराना बहुत जरूरी है. इससे गरीब लोगों को लाभ होगा. साथ ही उन्होंने योगी के कथन लव जिहाद करने वालों का राम नाम सत्य का समर्थन किया, इसके बाद वह निजी कार्यक्रम में शामिल होने के लिए रवाना हो गईं. उमा भारती ने संत के आश्रम पहुँचकर संत जयवीर सिंह को श्रद्धांजलि अर्पित की.
चुनाव बिहार में, तो फिर यूपी के अफसरों की क्यों उड़ी है नींद? जानिए वजह

ग्वालियर में गायों को कराया भोजन

बता दें कि 31 अक्टूबर को ग्वालियर पूर्व और ग्वालियर विधानसभा क्षेत्र में भाजपा प्रत्याशियों के समर्थन में रोड शो करने के बाद शरद पूर्णिमा की रात पूजन करने के बाद पूर्व मुख्यमंत्री उमा भारती लालटिपारा गोशाला पहुंचीं. गोशाला में उन्होंने गायों को भोजन कराया, इसके बाद अपने गनमैनों एवं रात्रिकालीन गो शाला में कार्य कर रहे गो सेवकों एवं संत ऋृषभानंद के साथ बैठकर एक बजे तक भजन किये. इसके बाद वे रात्रि में वहां से रवाना हो गईं.
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज