अपना शहर चुनें

States

उन्नाव: घना कोहरा बना मुसीबत, आगरा-लखनऊ एक्सप्रेस-वे में टकराई बस और कार, 12 लोग घायल

उन्नाव में कोहरे के कारण बस और कार की भिड़ंत (ANI)
उन्नाव में कोहरे के कारण बस और कार की भिड़ंत (ANI)

हादसा (Accident) इतना जबरदस्त था कि टक्कर के बाद तीन अन्य वाहन भी बस (Bus) से टकराते चले गए. फिलहाल घायलों (Injured) को इलाज के लिये लखनऊ के ट्रॉमा सेंटर (Lucknow Trauma Centre) में भेज दिया गया है.

  • Share this:
उन्नाव: उत्तर भारत में दिन-ब-दिन बढ़ती सर्दी अब कहर भरपा रही है. एक ओर लुढ़कता पारा मुश्किलें बढ़ा रहा है, तो वहीं घना कोहरा (Fog) सड़क दुर्घटनाओं (Road Accidents) का कारण बन रहा है. ऐसा ही एक वाक्या अल सुबह आगरा-लखनऊ एक्सप्रेस-वे (Agra-Lucknow Express-way) पर देखने को मिला. यहां घने कोहरे और कम दृश्यता के कारण एक बस और कार में भिड़ंत हो गई, जिसमें करीब 12 लोग घायल हुए. हादसा इतना जबरदस्त था कि टक्कर के बाद तीन अन्य वाहन भी बस से टकराते चले गए. फिलहाल घायलों को इलाज (Treatment) के लिये लखनऊ के ट्रॉमा सेंटर में भेज दिया गया है.



राजस्थान में टकराए थे 30 वाहन
सर्दी के इस मौसम में कोहरे के कारण रोजाना ऐसे हादसे होते रहते हैं. खासकर दिल्ली, उत्तर प्रदेश, पंजाब, हरियाणा और राजस्थान में. हाल ही में घने कोहरे और तेज रफ्तार के चलते जयपुर-दिल्ली हाईवे (Jaipur-Delhhi Highway) पर एक के बाद एक 30 वाहन आपस में टकरा (Crash) गए. यह हादसा राजस्थान के अलवर (Alwar) जिले के बहरोड थाना इलाके में दुघेड़ा के पास हुआ. हादसे के बाद हाईवे पर कोहराम मच गया और चीख पुकार सुनकर आसपास के लोग मदद को पहुंचे. सूचना के बाद मौके पर बहरोड़, नीमराणा और शाहजहांपुर थाना पुलिस के साथ एनएचएआई की टीम भी मौके पर पहुंची. पुलिस और एनएचएआई के अधिकारियों ने घायलों को एम्बुलेंस की मदद से बहरोड़ के अस्पताल में भर्ती कराया है. घायलों को ग्रामीणों की मदद से बाहर निकाला गया ओर उसके बाद क्रेन मंगवा कर वाहनों को सड़क से हटाया गया.



पिछले तीन सालों से बढ़ रही ऐसी घटनाएं
कोहरे और धुंध की वजह से दुर्घटनाएं भी पिछले तीन सालों में लगातार बढ़ी हैं. रोड ट्रांसपोर्टेशन मिनिस्ट्री के अनुसार 2014 में 16 लोगों की कोहरे की वजह से सड़क दुर्घटना में मौत हुई तो 2015 में ये 21, जबकि 2016 में बढ़कर 25 से ज्यादा हो गया. दिल्ली, यूपी, पश्चिम बंगाल और हरियाणा में ही आधे से ज्यादा दुर्घटनाएं और मौतें हुईं. ये सभी रिपोर्टेड मामले हैं यानी वही मामले हैं, जिनपर कोई पुलिस कार्रवाई हुई. मौतों के अलावा गंभीर दुर्घटनाएं इन आंकड़ों में शामिल नहीं हैं.

ये भी पढ़ें: जयपुर-दिल्ली हाईवे पर बड़ा हादसा, कोहरे में 30 गाड़ियां टकराई, 20 से अधिक घायल
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज