अपना शहर चुनें

States

उन्नाव गैंगरेप केस में कुलदीप सिंह सेंगर को दोषी करार दिए जाने पर मुख्य गवाह के भाई ने कही ये बात

फैसले के बाद कुलदीप सिंह सेंगर के आवास पर सुरक्षा तैनात
फैसले के बाद कुलदीप सिंह सेंगर के आवास पर सुरक्षा तैनात

Unnao Gangrape Case Verdict: इस मामले में मुख्य गवाह और सड़क हादसे में घायल घायल वकील महेंद्र सिंह के भाई देवेंद्र सिंह ने कहा कि पीड़िता के परिवार को न्याय मिला है.

  • Share this:
उन्नाव. बांगरमऊ से विधायक कुलदीप सिंह सेंगर (MLA Kuldeep Singh Sengar) को रेप और अपहरण (Rape and Kidnapping Case) के मामले में दिल्ली की तीस हजारी कोर्ट (Tis Hazari Court) द्वारा दोषी करार दिए जाने पर पीड़ित पक्ष की तरफ से पहली प्रतिक्रिया आयी है. आरोपी विधायक कुलदीप सिंह सेंगर पर रेप व अपहरण मामले में कोर्ट से दोष सिद्ध होने के बाद पीड़ित पक्ष में खुशी का माहौल है. इस मामले में मुख्य गवाह और सड़क हादसे में घायल घायल वकील महेंद्र सिंह के भाई देवेंद्र सिंह ने कहा कि पीड़िता के परिवार को न्याय मिला है. वहीं एहतियात के तौर पर पुलिस ने विधायक के आवास के बाहर सुरक्षा तैनात कर दी है.

उन्होंने कहा कि माननीय न्यायालय के फैसले से हम लोग सहमत हैं. देवेंद्र सिंह ने कहा कि कोर्ट से सजा पर जब फैसला आएगा तब ही परिवार को पूरा न्याय मिलेगा. वहीं शशि सिंह के बरी होने पर उन्होंने किसी भी तरह की टिप्पणी करने से इनकार कर दिया है.

भाई की तबीयत अभी भी नाजुक



उधर भाई की तबीयत पर बोलते हुए देवेंद्र सिंह ने एम्स प्रशासन पर भी आरोप लगाया. उन्होंने कहा कि उनके भाई को अभी भी होश नहीं आया है. लेकिन एम्स प्रशासन ने उन्हें आईसीयू से निकालकर जनरल वार्ड में शिफ्ट कर दिया है. इतना ही नहीं भाई को घर ले जाने के बात कही जा रही है, जबकि उन्हें होश नहीं आया है और वह कोमा में हैं. बता दें इसी साल 28 जुलाई को रायबरेली में हुए एक सड़क हादसे में पीड़िता और वकील महेंद्र सिंह गंभीर रूप से घायल हो गए थे. इस हादसे में पीड़िता की मौसी और चाची की मौत हो गई थी.
कुलदीप सिंह सेंगर को 19 को सुनाई जाएगी सजा

बता दें तीस हजारी कोर्ट द्वारा दोषी करार दिए जाने के बाद कुलदीप सिंह सेंगर को सजा पर सुनवाई 19 दिसम्बर को होगी. कोर्ट ने उन्हें रेप और अपहरण के मामले में दोषी पाया है. कुलदीप सिंह सेंगर पाक्सो एक्ट के तहत भी दोषी पाए गए हैं, लिहाजा उन्हें न्यूनतम 10 साल और अधिकतम उम्रकैद की सजा हो सकती है.

(इनपुट: अनुज गुप्ता)

ये भी पढ़ें:

उन्नाव गैंगरेप : उठतीं अर्थियां और अस्पताल में मौत जंग, कब-कब क्या-क्या हुआ?

उन्नाव की 'निर्भया' ने ऐसे लड़ी MLA कुलदीप सिंह सेंगर के खिलाफ न्याय की लड़ाई
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज