उन्नाव रेप पीड़िता के साथ हादसे पर पीएल पुनिया ने उठाए सवाल

रायबरेली के गुरबख्श गंज इलाके में रविवार को उन्नाव रेप पीड़िता की गाड़ी और ट्रक की भिड़ंत होने पर उसकी चाची, मौसी और चालक की मौत हो गई.

News18 Uttar Pradesh
Updated: July 29, 2019, 3:41 PM IST
उन्नाव रेप पीड़िता के साथ हादसे पर पीएल पुनिया ने उठाए सवाल
पीएल पूनिया
News18 Uttar Pradesh
Updated: July 29, 2019, 3:41 PM IST
लोकसभा चुनाव में मिली हार के बाद मुद्दों की तलाश में बैठ विपक्ष को सोनभद्र नरसंहार के बाद एक और मुद्दा मिल गया है. रविवार दोपहर रायबरेली हाईवे पर उन्नाव रेप पीड़िता के कार की एक्सीडेंट पर सियासत गरमा गई है. वहीं, कांग्रेस के राज्यसभा सांसद पीएल पुनिया ने उन्नाव रेप पीड़िता के साथ हुए सड़क दुर्घटना को सुनियोजित साजिश बताया. बता दें कि रायबरेली के गुरबख्श गंज इलाके में रविवार को उन्नाव रेप पीड़िता की गाड़ी और ट्रक की भिड़ंत होने पर उसकी चाची, मौसी और चालक की मौत हो गई.

न्यूज18 से बात करते हुए कांग्रेस नेता ने कहा कि वकील और परिवार की सुरक्षा नहीं थी. जिस ट्रक से हादसा हुआ उसका नंबर नहीं था. यूपी सरकार बीजेपी विधायक को बचाने का काम कर रही है.

शशि थरूर के प्रियंका गांधी को राष्ट्रीय अध्यक्ष बनाये जाने के सुझाव पर पीएल पुनिया ने कहा कि राष्ट्रीय अध्यक्ष पर अंतिम फैसला कांग्रेस कार्य समिति (सीडबल्यूसी) करेगी. इससे पहले इस मामले में कोई बेवजह टिप्पणी न दे.

अखिलेश यादव ने की सीबीआई जांच की मांग

उन्नाव रेप पीड़िता के साथ हादसे को लेकर सपा नेता अखिलेश यादव ने भी हत्या की आशंका जताई. सपा नेता ने रेप पीड़िता के साथ घटी इस घटना की जांच सीबीआई से कराने की मांग की है. उन्होंने कहा कि सीबीआई की जांच से ही इस हादसे से पर्दा उठ सकेगा.

प्रियंका ने सरकार से पूछे सवाल
प्रियंका गांधी ने लिखा उन्नाव रेप पीड़िता के साथ सड़क दुर्घटना का हादसा चौंकाने वाला है. इस केस में चल रही सीबीआई जांच कहां तक पहुंची? आरोपी विधायक अभी तक बीजेपी में क्यों हैं? पीड़िता और गवाहों की सुरक्षा में ढिलाई क्यों?
Loading...

मायावती ने बताया हत्या की साजिश
बसपा सुप्रीमो मायावती ने भी ट्वीट कर कहा, "उन्नाव रेप पीड़िता के कार की रायबरेली में कल ट्रक से टक्कर प्रथम दृष्टया उसे जान से मारने का षडयंत्र लगता है, जिसमें उसकी चाची और मौसी की मौत हो गई तथा वह स्वंय व उसके वकील गंभीर रूप से घायल हैं. सुप्रीम कोर्ट को इसका संझान लेकर दोषियों पर सख्त कार्रवाई सुनिश्चित करनी चाहिए."

(इनपुट- रंजीता झा)

ये भी पढ़ें-

कानपुर में जय श्रीराम न बोलने पर पीटने की कहानी गुरुग्राम की तरह झूठी साबित हुई

मुस्लिम ने पढ़ी रामायण-गीता तो मुसलमानों ने कर दी पिटाई
First published: July 29, 2019, 1:45 PM IST
Loading...
पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर
Loading...