यूपी में उफान पर गंगा नदी, उन्नाव में 100 से ज्यादा गांवों पर बाढ़ का संकट, कई जगह घुसा पानी
Unnao News in Hindi

यूपी में उफान पर गंगा नदी, उन्नाव में 100 से ज्यादा गांवों पर बाढ़ का संकट, कई जगह घुसा पानी
उन्नाव में गंगा में जलस्तर का जायजा लेते अफसर

उन्नाव (Unnao) में गंगा नदी का जल स्तर बढ़ने से कई इलाकों में बाढ़ का पानी घुस गया है. करीब 100 से ज्यादा गांव बाढ़ के संकट से जूझ रहे हैं. वहीं प्रशासन का दावा है कि वह राहत बचाव कार्य के लिए तैयार है.

  • Share this:
उन्नाव. उत्तर प्रदेश के उन्नाव (Unnao) में गंगा नदी (Ganga River) उफान पर है. उन्नाव में पिछले 24 घंटे में 1 मीटर से अधिक जलस्तर बढ़ा है. गंगा नदी का जलस्तर चेतावनी बिंदु पर पहुंचने से तटवर्ती क्षेत्रों में बाढ़ का पानी घुसने लगा है. जिससे जनपद के 100 से अधिक गांव बाढ़ (Flood) के मुहाने पर खड़े हैं और लोगों की रातों की नींद उड़ी हुई हैं. वहीं गंगाघट नगर पालिका परिषद के रिहायशी इलाकों में पानी भरने के साथ ही लोगों का घरों से पलायन शुरू हो गया है.

पहाड़ों पर हुई बारिश का कहर अब मैदानी क्षेत्रों को झेलना पड़ रहा है. दो साल पहले आईं बाढ़ के निशान आज भी गंगा के किनारे बसे गांव में देखे जा सकते हैं, ऐसे में बाढ़ की स्थिति में लोगों को बड़ी चुनौती से जूझना ही पड़ेगा. हालांकि जिले के अधिकारी दावा भले ही मुकम्मल व्यवस्था का कर रहे हैं. फिलहाल जिला प्रशासन का दावा है कि बाढ़ आने की स्थित पर हम पूरी तरीके से अलर्ट हैं, बाढ़ चौकियों के साथ ही बाढ़ राहत केंद्र चिन्हित कर तैयारी कर ली गई है.

एक मीटर जलस्तर और बढ़ा तो आफत



उन्नाव जिले में 6 तहसीलें इसमें से करीब 3 लाख की आबादी गंगा नदी के किनारे पर बसती है. गंगा में उफान आने पर इन लोगों की जिंदगी को तहस नहस हो जाती है. एक बार फिर उन्नाव में गंगा नदी 112 मीटर के चेतावनी बिंदु को छूने लगी है और गंगा नदी का जल स्तर चेतावनी बिंदु 112 मीटर पहुंच गया है. इसी तरह जलस्तर बढ़ने पर गंगा जल्द ही खतरे के निशान 113 मीटर के करीब पहुंच सकती है, जो तबाही का कारण बन सकता है.
ये तहसील हैं प्रभावित

फिलहाल जनपद में बांगरमऊ, सफीपुर, सदर तहसील, बीघापुर तहसील में बाढ़ का खतरा मंडरा रहा है. इन चारों तहसील के 100 से अधिक गांव व मोहल्ले पानी की चपेट में आ चुके हैं. वहीं सदर तहसील की गंगाघाट नगर पालिका परिषद के मोहल्ला चंप्पा पुरवा, राजीव नगर खंती, कंचन नगर में गंगा नदी का पानी कटान होने से घुस हो चुका है.

कई जगह पलायन शुरू

कई परिवारों ने पलायन कर अपने सगे संबंधियों के घर को आश्रय स्थल बना लिया है. गंगा का जलस्तर बढ़ने के साथ ही जनपद में 2018 की तरह बाढ़ का खतरा देख लोगों की रात की नींद उड़ी हुई है. वहीं 2018 में आईं बाढ़ का सीएम योगी आदित्यनाथ ने बीघापुर तहसील का हवाई सर्वेक्षण भी किया था.

बता दें कि आज भी पूर्व में आईं बाढ़ से सड़के व पुलिया टूटी पड़ी है और प्रशासन इनका मरम्मत नहीं करा सका है. हालांकि जिला प्रशासन का दावा है कि 47 बाढ़ चौकीयो के अलावा बाढ़ राहत केंद्र बना लिए गए हैं. गंगा के जलस्तर पर बराबर नजर रखी जा रही है. लोगों की सुरक्षा को लेकर प्रशासन पूरी तरीके से अलर्ट पर है.

जिलाधिकारी बोले- किसी तरह की दिक्कत नहीं होने देंगे

डीएम रवींद्र कुमार ने बाढ़ का निरीक्षण करने के बाद कहा कि गंगा का जलस्तर बढ़ा है. बाढ़ चौकियों के साथ ही बाढ़ राहत केंद्र तैयार है. टीम लागातर बाढ़ पर नजर रख रही है, जो बाढ़ राहत केंद्र तैयार किए गए हैं, उनमें कोरोना का भी ख्याल रखा गया है. किसी को भी कोई दिक्कत नहीं होने दी जाएगी.
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज

corona virus btn
corona virus btn
Loading