उन्नाव रेप पीड़िता एक्सीडेंट: प्रियंका गांधी ने यूपी के नेताओं को दिया ये आदेश

उन्नाव रेप पीड़िता के सड़क दुर्घटना के बाद प्रियंका गांधी ने यूपी के कांग्रेस नेताओं का प्रतिनिधिमंडल हॉस्पिटल भेजा.

Ranjeeta Jha | News18 Uttar Pradesh
Updated: July 29, 2019, 8:51 PM IST
उन्नाव रेप पीड़िता एक्सीडेंट: प्रियंका गांधी ने यूपी के नेताओं को दिया ये आदेश
कांग्रेस महासचिव प्रियंका गांधी ने प्रदेश के नेताओं को खास आदेश दिया है.
Ranjeeta Jha
Ranjeeta Jha | News18 Uttar Pradesh
Updated: July 29, 2019, 8:51 PM IST
उन्नाव रेप मामला एक बार फिर सुर्खियों में है. रेप पीड़िता सड़क हादसे में गंभीर रूप से घायल हो गई, तो इस हादसे में पीड़िता की चाची और उनके एक अन्य रिश्तेदार की मौत हो गई है. जबकि उनके वकील की भी हालत नाजुक है. वहीं, इस हादसे की आहट दिल्ली तक पहुंच चुकी है और कांग्रेस इसको लेकर हमलावर हो गई है.

दुर्घटना के तुरंत बाद कांग्रेस महासचिव प्रियंका गांधी ने प्रदेश नेताओं के प्रतिनिधमंडल को हॉस्पिटल का दौरा करने को कहा, जिसमें प्रतापगढ़ से कांग्रेस विधायक आराधना मिश्रा, रायबरेली सदर विधायक अदिति सिंह, पूर्व विधायक और महिला कांग्रेस के नेत्री शामिल थी.

आराधना मिश्रा ने न्यूज़ 18 से फोन पर बात करते हुए कहा,' जब आज हम सभी नेता ट्रोमा सेंटर पहुंचे तो पीड़िता का ईलाज कर रहे डॉक्टर के समूह ने बताया कि उसे (पीड़िता) आज वेंटिलेटर पर रखा गया है, जिस कारण उसे देखने की अनुमति नहींं मिली, लेकिन वो स्टेबल है. हालांकि उनके वकील की हालत नाजुक बनी हुई है.'

डॉक्‍टरों ने दिया ये आश्‍वासन

डॉक्टरों ने ये भी आश्वासन दिया कि पीड़िता को बेस्ट ट्रीटमेंट देने की कोशिश की जा रही है. वही, आराधना मिश्रा ने बताया कि दुर्घटना में कई बातें संदेह पैदा करती हैं, जिसका जिक्र वो प्रियंका गांधी को भेजने वाली रिपोर्ट में भी करेंगी.

कांग्रेस के प्रदेश नेताओं का प्रतिनिधिमंडल पीड़ि‍ता से हॉस्पिटल में मिलते हुए.


सड़क दुर्घटना में संदेह पैदा करने वाली बातें
Loading...

दुर्घटना के वक्त पीड़िता या उसके परिवार के किसी भी सदस्य के साथ सुरक्षाकर्मी नहीं थे. स्थानीय प्रशासन का कहना है कि परिवार ने सुरक्षाकर्मी की ज़रूरत नहीं ऐसा कहा था, लेकिन सवाल ये है कि जो परिवार लगातार मीडिया और प्रशासन से सुरक्षा की गुहार लगा रहा था, जान का खतरा बता रहा था वो सुरक्षाकर्मी क्यों नहीं लिया? यही नहीं, पीड़िता की दुर्घटना में शामिल जो ट्रक था उसका नंबर काले रंग से पेंट किया हुआ था. दलील ये दी जा रही है कि ट्रैफिक पुलिस के अवैध कमीशन से बचने के लिए ड्राइवर ने ऐसा किया था. जबकि दुर्घटना करने वाला ट्रक रॉन्‍ग साइड से आया था. इस पर सवाल ये बनता है कि क्या ये कोई सुनियोजित साजिश थी?

प्रियंका गांधी को सौंपी जाने वाली रिपोर्ट में सरकार से मांग
>> पीड़ित परिवार को मुआवजा दे प्रदेश सरकार.

>> पीड़िता के साथ हुई दुर्घटना में कई बातें संदिग्ध जान पड़ती है, ऐसे में रेप मामले की जांच सीबीआई कर रही है. इस दुर्घटना की भी जांच सीबीआई को सौंपी जाए.

>> रेप पीड़िता वेंटिलेटर पर है, ऐसे में उसके बेहतर चिकित्सा के लिए प्रदेश से बाहर भी कराने को लेकर सरकार फैसला ले.

लंबी लड़ाई के बाद मिली सफलता, लेकिन...

गौरतलब है कि उन्नाव गैंगरेप केस में पीड़िता को न्याय के लिए लंबी लड़ाई लड़नी पड़ी है. काफी शिकायतों के बाद भी पुलिस मामले को टरकाने में जुटी रही. पीड़िता के परिवार को जान से मारने की धमकियां मिलने लगीं. इस बीच, पीड़िता के पिता की पुलिस हिरासत में मौत हो गई. इसके बाद पीड़िता द्वारा मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ के लखनऊ स्थित सरकारी आवास के बाहर आत्मदाह की कोशिश किए जाने के बाद यह मामला उछला. इसके बाद सीएम की सख्ती पर पुलिस ने कार्रवाई तेज की. भाजपा विधायक सेंगर गिरफ्तार हुए और हाई कोर्ट की सख्ती पर सीबीआई ने जांच तेज कर दी है.

बहरहाल, उन्नाव रेप कांड की पीड़िता, परिजन समेत रायबरेली में रविवार को हादसे का शिकार हो गई. कार और ट्रक की टक्कर में पीड़िता की चाची और मौसी की मौत हो गई, जबकि हादसे में वकील महेंद्र सिंह चौहान और रेप पीड़िता की हालत गंभीर है.

ये भी पढ़ें--

हादसे के बाद सामने आया उन्नाव रेप पीड़िता का गनर, सुनाई ये चौंकाने वाली कहानी

उन्नाव रेप कांड: ट्रक-कार की भिड़ंत में चाची और मौसी की मौत, पीड़िता की हालत गंभीर

 

News18 Hindi पर सबसे पहले Hindi News पढ़ने के लिए हमें यूट्यूब, फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करें. देखिए उन्नाव से जुड़ी लेटेस्ट खबरें.

First published: July 29, 2019, 8:29 PM IST
Loading...
पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर
Loading...