अपना शहर चुनें

States

VIDEO: उन्नाव में अधिकारियों पर भड़के श्रम मंत्री स्वामी प्रसाद मौर्य, बोले- शर्म के मारे...

उन्नाव में कार्यक्रम के दौरान श्रम मंत्री स्वामी प्रसाद मौर्य
उन्नाव में कार्यक्रम के दौरान श्रम मंत्री स्वामी प्रसाद मौर्य

यूपी के श्रम मंत्री स्वामी प्रसाद मौर्य ने उन्नाव (Unnao) में कार्यक्रम के दौरान अपने ही विभाग के अधिकारियों की कारस्तानियों को उजागर कर दिया. मंत्री ने कहा कि निर्देश देने के बाद भी उन्नाव में प्रगति कछुआ गति रही इसीलिए उन्नाव 10 सबसे कमजोर जिलों में आता है.

  • Share this:
उन्नाव: उत्तर पदेश के उन्नाव (Unnao) में अपने ही विभाग के कार्यक्रम में अधिकारियों और कर्मचारियों पर श्रम मंत्री स्वामी प्रसाद मौर्य (Swami Prasad Maurya) भड़क गए. मंच से श्रम मंत्री स्वामी प्रसाद मौर्य ने अपने ही विभाग की कमियों को उजागर किया और उन्नाव के अधिकारियों पर कसौटी में खरे नहीं उतरने की बात कही. मंत्री ने कहा कि निर्देश देने के बाद भी उन्नाव में प्रगति कछुआ गति रही. मैं इसका संज्ञान ले रहा हूं, कि सारे के सारे सहायक श्रमायुक्त उन्नाव में समय नहीं देते. इसीलिए उन्नाव यूपी में सबसे 10 सबसे कमजोर जिलों में आता है. स्वामी प्रसाद मौर्य ने यहां तक कह डाला कि आप लोगों को शर्म के मारे खुद अपनी नौकरी से इस्तीफा दे देना चाहिए.

कसौटी पर खरे नहीं उतरे अधिकारी और कर्मचारी

उन्नाव में श्रम विभाग ने क्लासिक लॉन में एक कार्यक्रम आयोजित किया, जिसमें श्रम मंत्री स्वामी प्रसाद मौर्य ने शिरकत की. इस दौरान श्रम मंत्री स्वामी प्रसाद मौर्य अपनी सरकार की उपलब्धियों को गिनाते रहे लेकिन भाषण के बीच में ही अपने ही विभाग के अधिकारियों और कर्मचारियों पर भड़क उठे. मंच से सीधा श्रम विभाग के कर्मियों को टारगेट करते हुए उन पर गंभीर आरोप लगाए. स्वामी प्रसाद मौर्य ने कहा की श्रम विभाग मे इसी प्रकार 16-17 कल्याणकारी योजनाओं के साथ हम काम कर रहे हैं, लेकिन उन्नाव के जो अधिकारी और कर्मचारी हैं, वो इस कसौटी मे खरे नहीं उतरे.




बार-बार निर्देश के बाद भी प्रगति कछुआ गति

मंत्री ने कहा कि बार-बार निर्देश देने के बावजूद भी उन्नाव में प्रगति कछुआ गति रही है. मैं इसका संज्ञान ले रहा हूं. ये सारे के सारे सहायक श्रमायुक्त से लेकर के हमारे जो यहां पर एलयू हैं, कानपुर से आते हैं. सारा समय कानपुर मे बिताते हैं और उन्नाव में समय नहीं देते हैं. इसी वजह से उन्नाव उत्तर प्रदेश के 10 सबसे कमजोर जिलों में आता है. मंत्री ने कहा कि आप लोगों को शर्म के मारे अपना नौकरी से इस्तीफा दे देना चाहिए. इतने काहिल और गलत सोच के लोग हैं कि बार-बार निर्देश के बाद भी इनके सर पर जूं नही रेंगती. मंत्री ने कहा कि मैंने इसमे संज्ञान ले लिया है और मैं इन सब पर कठोर से कठोर कार्रवाई भी करूंगा.
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज