उन्नाव कांड की कहानी: जानिए कैसे खत्म होता गया 'माखी गांव' का ये किसान परिवार

इस बीच उन्होंने कहा,"कुलदीप सिंह सेंगर ने मेरे पूरे परिवार को खत्म कर दिया... अब सिर्फ मैं बचा हूं. लेकिन मैं लड़ूंगा और उसे सजा दिलाउंगा." ये बात कहते हुए उनकी आखों में दुख और गुस्सा दोनों ही था.

News18 Uttar Pradesh
Updated: August 2, 2019, 10:40 AM IST
उन्नाव कांड की कहानी: जानिए कैसे खत्म होता गया 'माखी गांव' का ये किसान परिवार
जानिए कैसे खत्म होता गया 'माखी गांव' का ये किसान परिवार
News18 Uttar Pradesh
Updated: August 2, 2019, 10:40 AM IST
उन्नाव रेप मामला एक बार फिर माखी गांव सुर्खियों में है. दरअसल एक वक्त था जब उन्नाव गैंगरेप पीड़िता की जिंदगी भी खुशहाल थी. पिता और चाचा एक साधारण किसान थे और खेतीबाड़ी करके अपना जीवन यापन करते थे. फिर इस खुशहाली को बाहुबली की नजर लग गई. पीड़िता के चाचा ने एक दिन प्रधानी का चुनाव लड़ने का फैसला कर लिया. शायद ये बात बाहुबली और उसके साथियों को पसंद नहीं आई. इसके बाद जो हुआ उसे दुनिया ने देखा.

पीड़िता के पिता की मौत

सबसे पहले पीड़िता के पिता ने दम तोड़ा. चाचा को कई तरह के मामलों में जेल जाना पड़ा. किसानी खत्म होती रही और जोड़े हुए पैसे पैरवी में खत्म होते रहे. विधायक तो गिरफ्तार होकर जेल चले गए लेकिन उनके समर्थक आकर समझौते और केस वापस लेने का दवाब बनाते रहे. सरकार ने पुलिस सुरक्षा तो दे दी लेकिन इस सुरक्षा में भी परिवार के मन में असुरक्षा का भाव बढ़ता रहा. हाल ये था कि एक साल में 33 बार पुलिस को शिकायत कर जान का खतरा बताना पड़ा.

चाचा पहुंचे माखी गांव
चाचा पहुंचे माखी गांव


चाची और मौसी की मौत

पीड़िता की चाची और मौसी की मौत हो गई. पीड़िता और उसका वकील वेंटीलेटर पर है. कोई नहीं जानता कि वे लोग अस्पताल से लौट भी पाएंगे या नहीं. पूरा परिवार आखिर किस चीज की सजा भगत रहा है? पीड़ित की मां जिसके पास ना तो कोई जानकारी है और ना ही पैसा या फिर पीड़ित का चाचा जो अपने भाई, पत्नी और साली को खो चुका है और खुद जेल की सलाखों के पीछे है? वहीं 12 घंटे की पैरोल पर जेल से लाए गए बलात्कार पीड़िता के चाचा ने अपनी पत्नी का अंतिम संस्कार किया.

‘मेरा पूरा परिवार साफ करा दिया'- पीड़ित चाचा
Loading...

इसी बीच मीडिया को देखते ही पीड़िता के चाचा ने कहा, ‘मेरा पूरा परिवार साफ करा दिया. बस हम ही हम रह गए हैं. मेरे ऊपर नाजायज मुकदमे लगाए गए हैं. विधायक कुलदीप सिंह सेंगर ने सब कुछ कराया है. मेरे पास सारे साक्ष्‍य हैं.' इस बीच उन्होंने कहा,"कुलदीप सिंह सेंगर ने मेरे पूरे परिवार को खत्म कर दिया... अब सिर्फ मैं बचा हूं. लेकिन मैं लड़ूंगा और उसे सजा दिलाउंगा." ये बात कहते हुए उनकी आखों में दुख और गुस्सा दोनों ही था.

गांव में पसरा सन्नाठा
गांव में पसरा सन्नाठा


 वेंटीलेटर पर पीड़ित युवती

बता दें कि रायबरेली से उन्नाव लौट रही पीड़ित युवती के कार को बेकाबू ट्रक ने टक्कर मार दी थी. इस दुर्घटना में पीड़िता की मौसी और चाची की मौत हो गई थी. जबकि पीड़ित लड़की और उसका वकील गंभीर रूप से घायल हो गए थे. इन दोनों का इलाज लखनऊ के केजीएमयू ट्रामा सेंटर में चल रहा है. पीड़िता और उसका वकील अभी भी वेंटीलेटर पर है और उनकी हालत नाजुक बनी हुई है.

सुप्रीम कोर्ट के फैसले से खुश
आज तक की रिपोर्ट के अनुसार पीड़िता की मां ने कहा कि वो सुप्रीम कोर्ट के दिए फैसले से खुश हैं. उन्होंने कहा कि अब हम लखनऊ में ही रहेंगे और यहीं पर बेटी का इलाज करवाएंगे. यदि यहां के डॉक्टर जवाब दे देते हैं तो हम दिल्ली जाने के बारे में सोचेंगे. फिलहाल सुप्रीम कोर्ट ने जिस तरह से मामले में दखल दिया है उससे हमें उम्मीद दिखी है. अब हमें न्याय मिलेगा.

ये भी पढ़ें:

प्यार में मिला धोखा तो बैंक कैशियर प्रेमिका ने रची मौत की साजिश...

उन्नाव गैंगरेप केस: ट्रक के ड्राइवर और क्लीनर की आज होगी CBI कोर्ट में पेशी

उन्नाव रेप पीड़िता के चाचा को रायबरेली जेल से तिहाड़ शिफ्ट करने पर सुनवाई

 
First published: August 2, 2019, 10:40 AM IST
Loading...
पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर
Loading...