अपना शहर चुनें

States

Unnao Case: डॉक्‍टरों को किशोरियों को जहर देने का शक, पोस्‍टमॉर्टम रिपोर्ट से साजिश के खुलासे की उम्‍मीद

उन्नाव केस: पुलिस ने मामले के खुलासे के लिए कई टीमें लगाई हैं.
उन्नाव केस: पुलिस ने मामले के खुलासे के लिए कई टीमें लगाई हैं.

Unnao Case: उन्नाव के SP आनंद कुलकर्णी का कहना है कि दो बच्चियों की मौत और एक के घायल होने क मामले की विस्तृत जांच की जा रही है. मामले में पोस्टमॉर्टम रिपोर्ट का इंतजार है. इससे कई खुलासे होने की उम्मीद है.

  • News18Hindi
  • Last Updated: February 18, 2021, 7:56 PM IST
  • Share this:
उन्नाव: उत्तर प्रदेश के उन्नाव में दो किशोरियों की मौत (Death) और एक के गंभीर रूप से घायल होने की घटना के बाद हड़कंप मचा हुआ है. एक तरफ विपक्ष हमलावर है, वहीं मामले में डीजीपी (DGP) ने सख्त रुख अपनाते हुए एडीजी जोन और आईजी से विस्तृत रिपोर्ट तलब कर ली है. इस बीच, उन्नाव के एसपी आनंद कुलकर्णी (SP Anand Kulkarni) ने कहा कि घटना की जांच की जा रही है. एफएसएल (FSL) की टीम को बुलाया जा रहा है. घटनास्थल का रीक्रिएशन कराया जाएगा.

एसपी ने कहा कि डॉक्टर्स द्वारा सस्पेक्टेड पॉइजनिंग की बात कही जा रही है, उसकी भी जांच हो रही है. एसपी ने साथ ही कहा कि परिवार के बयान के आधार पर भी जांच की जा रही है. पोस्‍टमॉर्टम रिपोर्ट आने के बाद कई चीजों का खुलासा होगा. उन्होंने कहा कि हम हर बिंदु पर जांच कर रहे हैं. वह चाहे डॉक्टर का बयान हो या फिर परिवार का.





कानपुर के रिजेंसी हॉस्पिटल के जनसम्पर्क अधिकारी परमजीत अरोड़ा ने बताया है कि उन्नाव से आई पीड़िता की हालत अभी भी नाजुक बनी हुई है. उसे वेंटिलेटर पर रखा गया है. डॉ. रश्मि कपूर के साथ 6 डॉक्टरों का पैनल पीड़िता के इलाज में जुटा है. पीआईसी और एनआईएस की टीम लगातार निगरानी कर रही है. पीड़िता की हालत अभी भी नाजुक बनी हुई है. उन्होंने कहा कि शरीर पर उसके कोई चोट के निशान नहीं मिले हैं. अभी तक सस्पेक्टेड प्‍वॉइजनिंग का मामला लग रहा है.
बता दें घटना में मृत दो बच्चियों के शव का पोस्मॉर्टम तीन डॉक्टरों का पैनल कर रहा है. इस दौरान वीडियोग्राफी भी करवाई जा रही है. इस बीच परिजनों ने सीबीआई जांच की मांग कर दी है. बच्चियों की भाभी ने न्यूज 18 से बातचीत में कहा कि उन्हें अपने परिवार की सुरक्षा को लेकर खतरा है. वह चाहती हैं कि पूरे मामले की सीबीआई जांच की जाए.

प्रियंका गांधी ने की यह मांग
उधर प्रदेश के सभी प्रमुख विपक्षी दल योगी सरकार पर हमलावर हैं. कांग्रेस महासचिव प्रियंका गांधी ने कहा है कि उन्नाव की घटना दिल दहला देने वाली है. लड़कियों के परिवार की बात सुनना एवं तीसरी बच्ची को तुरंत अच्छा इलाज मिलना चाहिए. साथ ही उन्होंने पूरे मामले में जांच-पड़ताल एवं न्याय की प्रक्रिया को बेहद जरूरी बताया है.

योगी सरकार पर हमलावर सपा
वहीं समाजवादी पार्टी के प्रवक्ता और सुनील सिंह साजन कहा कि उन्नाव की घटना ने एक बार फिर से हम सब को शर्मसार कर दिया है. अब ये बात साफ हो गई है कि पिछड़े-दलित की बेटियां सुरक्षित नहीं हैं. उत्तर प्रदेश में जंगलराज है. उत्तर प्रदेश में कोई भी किसी बहू-बेटी की इज्जत और अज़मत लूट ले रहा है और पुलिस मूकदर्शक बनी है. उन्होंने आरोप लगाया है कि उन्नाव पुलिस पूरे घटनाक्रम को दबाना चाहती है. जिस तरह से दो बेटियों की डेड बॉडी को लेकर उन्नाव पुलिस व्यवहार कर रही है, उसे प्रदेश की कानून व्यवस्था की हालत अपने आप साफ हो जा रही है. उन्होंने मांग की कि एक अलग पैनल बनाकर पूरे मामले का पोस्टमार्टम होना चाहिए और अलग टीम से पूरे मामले की जांच करवाई जाए.

ये है पूरा मामला
दरअसल उन्नाव के असोहा थाना क्षेत्र के अंतर्गत ग्राम पंचायत पाठकपुर के मजरे बबुरहा में लगभग दोपहर बाद 3 बजे के करीब कोमल पुत्री संतोष पासी उम्र 16 वर्ष, काजल पुत्री सूरजपाल पासी उम्र लगभग 13 वर्ष, रोशनी पुत्री सूर्य बली उम्र लगभग 17 वर्ष बबुरहा नाला के पास खेत में पशुओं के लिए हरा चारा लेने गई थी. देर शाम तक घर नहीं लौटीं. परिजन लड़कियों को खोजने के लिए निकले. परिजनों के मुताबिक खेत में तीनों लड़कियां कपड़े से बंधी मरणासन्न हालत में मिलीं. तीनों किशोरियों को परिजनों ने सामुदायिक स्वास्थ्य केंद्र असोहा ले गए, जहां पर डॉक्टरों ने कोमल उम्र 16 वर्ष व काजल उम्र लगभग 13 वर्ष को मृत घोषित कर दिया. वहीं रोशनी को जिला अस्पताल रेफर कर दिया गया, जहां उसकी हालत गंभीर देखते हुए डॉक्टरों ने रोशनी को कानपुर के हैलट अस्पताल के लिए रेफर कर दिया.

इनपुट: अमित गंजू/कानपुर
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज