उन्नाव गैंगरेप पीड़िता के पिता की मौत के मामले में 4 मार्च को आएगा फैसला
Unnao News in Hindi

उन्नाव गैंगरेप पीड़िता के पिता की मौत के मामले में 4 मार्च को आएगा फैसला
इस मामले में विधायक कुलदीप सिंह सेंगर मुख्य आरोपी है. (फाइल फोटो)

उन्नाव गैंगरेप (Unnao Gangrape) पीड़िता के पिता की हिरासत में मौत के मामले में दिल्ली की तीस हजारी कोर्ट (Tis Hazari Court) अब 4 मार्च को अपना फैसला सुनाएगी. मामले में कुलदीप सिंह सेंगर (Kuldeep Singh Sengar) मुख्य आरोपी है.

  • News18Hindi
  • Last Updated: February 29, 2020, 1:37 PM IST
  • Share this:
नई दिल्ली. उन्नाव गैंगरेप (Unnao Gangrape) पीड़िता के पिता की हिरासत में मौत के मामले में दिल्ली की तीस हजारी कोर्ट (Tis Hazari Court) 4 मार्च को फैसला सुनाएगी. आपको बता दें कि पूर्व विधायक कुलदीप सिंह सेंगर (Kuldeep Singh Sengar) समेत 11 लोग इस हत्या के मामले में आरोपी हैं. पूर्व विधायक सेंगर को उन्नाव रेप केस मामले में ही सजा सुनाई गई है.

मुकदमा वापसी का बनाया दबाव
आपको बता दें कि पूर्व विधायक के भाई अतुल सिंह पर उन्नाव गैंगरेप पीड़िता के पिता को मारपीट करने और मुकदमा वापसी का दबाव बनाने का आरोप था. आरोपियों ने पीड़िता के पिता की पुलिस के सामने बेरहमी से पिटाई की थी. आरोपी अतुल सिंह ने अपने गुर्गों के साथ पीड़िता के गांव पहुंचकर इस घटना को अंजाम दिया था. इसके बाद विधायक पक्ष की तरफ से टिंकू सिंह ने मारपीट और आर्म्स एक्ट में मुकदमा लिखवाकर पीड़िता के पिता को ही जेल भिजवा दिया गया था.





जानिए कब-कब क्या-क्या हुआ?
4 जून 2017 को माखी थाना क्षेत्र के गांव से किशोरी को गांव के ही शुभम और उसका साथी कानपुर के चौबेपुर निवासी अवधेश तिवारी अगवा कर ले गए. पीड़िता की मां ने माखी थाने में तहरीर दी, जिसमें विधायक कुलदीप सिंह सेंगर पर पड़ोस की एक महिला के जरिए बहाने से घर बुलाकर रेप करने और इसके बाद उसके गुर्गों द्वारा गैंगरेप करने का आरोप लगाया. पुलिस ने रिपोर्ट दर्ज नहीं की.

11 जून 2017 को पीड़िता ने अदालत की शरण ली. कोर्ट के आदेश पर अवधेश तिवारी, शुभम तिवारी व अन्य के खिलाफ मुकदमा दर्ज किया गया. लेकिन इसमें विधायक कुलदीप सिंह और आरोपी महिला का नाम नहीं था.

मुकदमा वापस नहीं लेने पर पुलिस के सामने की थी पिता की पिटाई


अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज

corona virus btn
corona virus btn
Loading