लाइव टीवी

उन्नाव गैंगरेप: कोर्ट ने Apple से घटना के दिन सेंगर की लोकेशन बताने को कहा

भाषा
Updated: September 25, 2019, 11:51 PM IST
उन्नाव गैंगरेप: कोर्ट ने Apple से घटना के दिन सेंगर की लोकेशन बताने को कहा
उन्नाव गैंगरेप मामले में दिल्ली की अदालत ने प्रौद्योगिकी कंपनी एप्पल को भाजपा के निष्कासित विधायक कुलदीप सिंह सेंगर के उस दिन के ठिकाने की जानकारी देने का बुधवार को निर्देश दिया, जिस दिन उन्होंने 17 वर्षीय लड़की से कथित तौर पर बलात्कार किया था.

उन्नाव गैंगरेप (Unnao Gangrape) मामले में दिल्ली की अदालत ने प्रौद्योगिकी कंपनी एप्पल (Apple) को विधायक कुलदीप सिंह सेंगर (Kuldeep Singh Sengar) के उस दिन के ठिकाने की जानकारी देने का बुधवार को निर्देश दिया, जिस दिन उन्होंने 17 वर्षीय लड़की से कथित तौर पर बलात्कार (Rape) किया था.

  • भाषा
  • Last Updated: September 25, 2019, 11:51 PM IST
  • Share this:
नई दिल्ली. उन्नाव गैंगरेप (Unnao Gangrape) मामले में दिल्ली की अदालत ने प्रौद्योगिकी कंपनी एप्पल (Apple) को भाजपा के निष्कासित विधायक कुलदीप सिंह सेंगर (Kuldeep Singh Sengar) के उस दिन के ठिकाने की जानकारी देने का बुधवार को निर्देश दिया, जिस दिन उन्होंने 17 वर्षीय लड़की से कथित तौर पर बलात्कार (Rape) किया था. मामले से जुड़े एक वकील ने बताया कि बंद कमरे में सुनवाई कर रहे जिला न्यायाधीश धर्मेश शर्मा ने आईफोन निर्माता कंपनी को 28 सितंबर तक जवाब देने के लिए कहा है. उसी दिन वह मामले पर अगली सुनवाई करेंगे.

इस बीच, अदालत ने उन्नाव दुष्कर्म पीड़िता के पिता की हत्या से संबंधित मामले में सीआईएसएफ के एक अधिकारी का बयान रिकॉर्ड किया. ऐसा आरोप है कि सेंगर ने महिला से 2017 में बलात्कार किया था, जब वह नाबालिग थी. अदालत ने बलात्कार मामले में विधायक के खिलाफ आरोप भी तय किए थे. दुष्कर्म पीड़िता के पिता को पुलिस ने शस्त्र कानून के तहत एक मामले में तीन अप्रैल 2018 को गिरफ्तार किया था. उनकी छह दिन बाद न्यायिक हिरासत में मौत हो गई थी.

आरोपी विधायक और अन्य के खिलाफ तय हो चुका है आरोप
उन्नाव रेप केस मामले में पीड़िता के पिता को झूठे आर्म्स केस में फंसाने और पुलिस हिरासत में उनकी मौत के मामले में बाहुबली विधायक कुलदीप सिंह सेंगर समेत अन्य के खिलाफ तीस हजारी कोर्ट ने आरोप तय कर दिए हैं. कोर्ट ने हाल ही में सुनवाई करते हुए प्रथमदृष्टया पाया कि मामले में बड़ी साजिश रची गई है. कोर्ट के मुताबिक, पुलिस मौके पर पहुंची थी, लेकिन उसने कोई हस्तक्षेप नहीं किया. साथ ही पोस्टमॉर्टम रिपोर्ट के मुताबिक पीड़िता के पिता के शरीर पर 14 गंभीर चोट के निशान पाए गए थे.

सुप्रीम कोर्ट ने सभी 5 केस दिल्ली किए थे ट्रांसफर
बता दें कि सुप्रीम कोर्ट पिछले दिनों इस मामले से जुड़े सभी पांचों केस उत्तर प्रदेश से बाहर दिल्ली ट्रांसफर कर दिए थे. शीर्ष अदालत ने इस मामले की रोजाना सुनवाई के आदेश दिए थे. सुप्रीम कोर्ट की ओर से अपॉइंट जज इन सभी पांच केसों की सुनवाई करेंगे. ट्रायल 45 दिन के अंदर पूरा करना होगा. चीफ जस्टिस ऑफ इंडिया (सीजेआई) रंजन गोगोई ने कहा कि हम पीड़िता के लिए अंतरिम मदद की अपील भी स्वीकार करते हैं. साथ ही उत्तर प्रदेश सरकार को ये आदेश दिया जाता है कि वो पीड़िता के परिवार को अंतरिम मदद के तौर पर 25 लाख रुपए की सहायता राशि दे. बाद में जरूरत के हिसाब से आर्थिक मदद की राशि बुलाई जा सकती है.

ये भी पढ़ें - 
Loading...

चिन्मयानंद से रंगदारी मांगने के मामले में रेप पीड़िता की जमानत अर्जी खारिज

प्रेम में बाधा बनने पर नाबालिग बहन ने प्रेमी के साथ मिलकर भाई की हत्या की

News18 Hindi पर सबसे पहले Hindi News पढ़ने के लिए हमें यूट्यूब, फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करें. देखिए उन्नाव से जुड़ी लेटेस्ट खबरें.

First published: September 25, 2019, 11:37 PM IST
Loading...
पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर
Loading...