अपना शहर चुनें

States

उन्नाव: BJP का झंडा लगाकर गो तस्करी करने वाले गिरोह के 13 सदस्य गिरफ्तार

पुलिस के हत्थे चढ़े शातिर गो तस्कर.
पुलिस के हत्थे चढ़े शातिर गो तस्कर.

उन्नाव के हसनगंज कोतवाली पुलिस (UP Police) को उस वक्त बड़ी सफलता हाथ लगी, जब एक दो नहीं बल्की 13 गोतस्कर पुलिस के हत्थे चढ़े हैं.

  • Share this:
उन्नाव. हसनगंज पुलिस (Police) को बुधवार को एक बड़ी सफलता हाथ लगी. काफी लंबे समय से पुलिस के लिए चुनौती बने अंतर्जनपदीय गोतस्कर (Cow Smugglers) का एक बड़ा गिरोह पुलिस के हत्थे चढ़ा. शातिर गोतस्कर लग्जरी गाड़ियों से घटना को अंजाम दे रहे थे. यही नहीं पुलिस की गिरफ्त से बचने के लिए गिरोह वाहनों पर बकायदा बीजेपी के झंडे का भी इस्तेमाल कर रहे थे. उनके पास से पुलिस ने तीन लग्जरी वाहनों के साथ ही तीन बाइक व अवैध तमंचे भी बरामद किए. उधर, एसपी ने खुलासा करने वाली टीम को 15 हजार रुपये का नगद इनाम देने की घोषणा की है.

उन्नाव के हसनगंज कोतवाली पुलिस को उस वक्त बड़ी सफलता हाथ लगी जब एक दो नहीं, बल्की 13 गोतस्कर पुलिस के हत्थे चढ़ गए. यह गिरोह सीतापुर, रायबरेली, बाराबंकी, हरदोई आदि जनपदों में घटनाओं को अंजाम दे चुका है. बता दें कि हसनगंज कोतवाली क्षेत्र के अलावा जिले के अन्य कोतवाली क्षेत्र में बीते कुछ महीने से गोतस्करों का बड़ा गिरोह सक्रिय था. गोतस्करों की गिरफ्तारी के लिए पुलिस अधिकारी बीते कई दिनों से मुखबिर व सर्विलांस की मदद से उनकी तलाश कर रहे थे. सोमवार देर रात हसनगंज कोतवाली पुलिस स्वाट टीम ने संयुक्त रूप से घेराबंदी कर 13 गोतस्करों को गिरफ्तार कर लिया. इनके पास से एक होंडा सिटी कार में गो मांस भी बरामद किया गया. इसके अलावा एक वर्ना कार, एक स्कार्पियो, तीन बाइक, तीन अवैध तमंचे और जिंदा कारतूस बरामद किए हैं.

बचने के लिए करते थे बीजेपी के झंडे का इस्तेमाल



पुलिस के मुताबिक, शातिर गोतस्कर पुलिस से बचने के लिए वाहनों पर बाकायदा बीजेपी के झंडे का भी प्रयोग कर रहे थे. फिलहाल पुलिस ने सभी को गिरफ्तार कर जेल भेज दिया है. आरोपियों पर जिले के कई थानों समेत लखनऊ, बाराबंकी और सीतापुर में भी गम्भीर धाराओं में मुकदमे दर्ज हैं.
गो तस्करी खुलासे पर बोले एएसपी

एएसपी विनोद कुमार पांडेय ने प्रेस कॉन्फ्रेंस कर पकड़े गए 13 गो तस्करों का खुलासा किया. साथ ही बताया कि पकड़े गए आरोपी शातिर अपराधी हैं, जो जनपद के अलावा गैर जनपदों में भी गोकशी की घटनाओं को अंजाम दे रहे थे. अभी भी गिरोह के कुछ सदस्य फरार हैं, जिनकी गिरफ्तारी के प्रयास किए जा रहे हैं.

ये भी पढ़ें:

संकट में रायबरेली से MLA अदिति सिंह, विधायकी ख़त्म करने के लिए नोटिस

कमलेश तिवारी हत्याकांड: फरार चल रहे अशफाक और मोइनुद्दीन गुजरात में गिरफ्तार
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज