उन्नाव रेप पीड़िता के साथ सड़क हादसा, जानिए इस केस में कब क्या हुआ

2017 में सामने आए उन्नाव रेप केस में हर कुछ महीने के बाद हलचल होते रहती है. आइए जानते हैं, इस केस में कब क्या हुआ...

News18 Uttar Pradesh
Updated: July 29, 2019, 2:23 PM IST
उन्नाव रेप पीड़िता के साथ सड़क हादसा, जानिए इस केस में कब क्या हुआ
उन्नाव रेप केस का आरोपी बीजेपी विधायक कुलदीप सेंगर (File Photo)
News18 Uttar Pradesh
Updated: July 29, 2019, 2:23 PM IST
उन्नाव का बहुचर्चित रेप मामला एक बार फिर से चर्चा में है. इस केस की मुख्य गवाह और पीड़िता के साथ रविवार को भीषण सड़क हादसा हुआ था. रॉन्ग साइड से आ रहे एक ट्रक ने पीड़िता की कार को टक्कर मार दी थी. इस हादसे में रेप पीड़िता की चाची और मौसी की मौके पर ही मौत हो गई, जबकि पीड़िता एवं केस के वकील जिंदगी और मौत से जूझ रहे हैं. रेप पीड़िता तो फिलहाल लाइफ सपोर्ट सिस्टम पर है. इस रेप केस में बीजेपी के स्थानीय विधायक कुलदीप सेंगर आरोपी हैं और फिलहाल सीतापुर जेल में बंद हैं.

2017 में सामने आए इस मामले में हर कुछ महीने के बाद हलचल होते रहती है. आइए जानते हैं, इस केस में कब क्या हुआ...

4 जून 2017- यह मामला दो साल पूर्व सामने आया था जब 17 वर्षीय पीड़िता ने आरोप लगाया कि बीजेपी विधायक कुलदीप सेंगर ने उसके साथ घर पर बलात्कार किया. पीड़िता अपने पड़ोसी के साथ नौकरी दिलाने में मदद के लिए विधायक के घर गई थी.

11 जून 2017- विधायक पर आरोप लगाने के एक सप्ताह बाद पीड़िता गायब हो गई. परिजनों ने पुलिस में गुमशुदगी की रिपोर्ट दर्ज करवाई.

20 जून 2017- पीड़िता उत्तर प्रदेश के औरैया के एक गांव में मिली. उसे अगले दिन उन्नाव लाया गया.

22 जून 2017- मामले में पुलिस ने पीड़िता को कोर्ट में पेश किया और पीड़िता का बयान दर्ज हुआ. बाद में पीड़िता ने कहा कि उसे बयान में विधायक का नाम लेने से पुलिस से रोक दिया.

3 जुलाई 2017- 10 दिन बाद पीड़िता को उसके परिवारवालों को सौंप दिया गया. बाद में पीड़िता दिल्ली चली गई. इसी दौरान उसने मुख्यमंत्री कार्यालय और पुलिस अफसरों को शिकायत भेजी और विधायक कुलदीप सेंगर के खिलाफ केस दर्ज करने की मांग की.
Loading...

24 फरवरी 2018- मामले में पीड़िता की मां जूडिशल मजिस्ट्रेट कोर्ट पहुंची और एफआईआर दर्ज करने की मांग की.

3 अप्रैल 2018- पीड़िता की मां की अर्जी पर सुनवाई हुई. इसी दिन विधायक के लोगों ने पीड़िता के पिता को पीटा और बाद में उन्हें पुलिस को सौंप दिया गया.

5 अप्रैल 2018- मेडिकल जांच के बाद लड़की के पिता को जेल भेज दिया गया.

8 अप्रैल 2018- पीड़िता ने विधायक के खिलाफ प्राथमिकी दर्ज करने की मांग के साथ लखनऊ पहुंची और मुख्यमंत्री आवास के सामने इसी मांग के साथ आत्मदाह की कोशिश की.

9 अप्रैल 2018- जेल में पीड़िता के पिता की मौत हो गई. मामले में 6 पुलिस वालों को सस्पेंड कर दिया गया. लड़की के पिता से मारपीट के आरोप में 4 लोग गिरफ्तार हुए. सभी विधायक कुलदीप सेंगर के आदमी थे. अगल दिन पोस्टमार्टम रिपोर्ट में खुलासा हुआ कि पिता के शरीर पर निशान पर 14 चोट के निशान थे.

11 अप्रैल 2018- उत्तर प्रदेश सरकार ने केस को सीबीआई को सौंपने का आदेश दिया. इसके अगले दिन पुलिस ने विधायक कुलदीप सेंगर को नाबालिग से रेप का आरोपी बनाया.

13 अप्रैल 2018- विधायक कुलदीप सेंगर को सीबीईऊ ने पूछताछ के लिए हिरासत में ले लिया और इलाहाबाद हाईकोर्ट के आदेश पर उसे गिरफ्तार कर लिया गया.

11 जुलाई 2018- सीबीआई ने चार्जशीट दाखिल की. इसमें विधायक कुलदीप सेंगर का नाम था.

13 जुलाई 2018- पुलिस ने दूसरी चार्जशीट फाइल की. इसमें कुलदीप सेंगर, उसके भाई और तीन पुलिसकर्मी समेत 5 लोगों को नाम शामिल था.

23 अगस्त 2018- उन्‍नाव रेप केस में सीबीआई के मुख्‍य गवाह यूनुस की संदिग्ध मौत.

ये भी पढ़ें-

उन्नाव रेप पीड़िता के साथ हुए सड़क हादसे में साजिश! पुती थी ट्रक की नंबर प्लेट

UP: जय श्री राम न कहने पर जिंदा जलाया, पुलिस बोली- विरोधाभासी बयान दे रहा पीड़ित

News18 Hindi पर सबसे पहले Hindi News पढ़ने के लिए हमें यूट्यूब, फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करें. देखिए उन्नाव से जुड़ी लेटेस्ट खबरें.

First published: July 29, 2019, 2:09 PM IST
Loading...
पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर
Loading...