होम /न्यूज /उत्तर प्रदेश /

VIDEO: जब बेटे को गोद में लेकर अचानक ट्रेन के सामने खड़ा हो गया पिता, फ‍िर जो हुआ वह अजीब है

VIDEO: जब बेटे को गोद में लेकर अचानक ट्रेन के सामने खड़ा हो गया पिता, फ‍िर जो हुआ वह अजीब है

उन्नाव: बेटे की बीमारी ठीक करने को ट्रेन के आगे खड़ा हो गया पिता

उन्नाव: बेटे की बीमारी ठीक करने को ट्रेन के आगे खड़ा हो गया पिता

UP Unnao Train News: यूपी के उन्नाव में उस वक्त हड़कंप मच गया, जब एक पिता अपने बेटे को गोद में लेकर ट्रेन के सामने जा खड़ा हो गया. इसके बाद अफरा-तफरी मच गई. ड्राइवर को कुछ देर के लिए ट्रेन रोकनी पड़ गई और पिता की डिमांड भी पूरी करनी पड़ी. जानिए आखिर क्या है पूरा माजरा.

अधिक पढ़ें ...

हाइलाइट्स

उन्नाव में यह पिता हॉर्न से अपने बच्चे का बहरापन दूर करना चाहता था.
पिता हॉर्न बजवाने को लेकर जिद पर अड़ा रहा.
इस वजह से करीब पांच मिनट तक ट्रेन रुकी रही.

उन्नाव: उत्तर प्रदेश के उन्नाव में बच्चे के बहरेपन को दूर करने के लिए टोकका करने का एक हैरान करने वाला मामला सामने आया है. दरअसल, अपने नन्हे बेटे की बीमारी को ठीक करने के लिए एक पिता सामने से आ रही ट्रेन के सामने खड़ा हो गया. इस घटना के बाद चारों तरफ अफरा-तफरी मच गई. जब ट्रेन रोककर ड्राइवर ने बच्चे के पिता को ट्रैक से हटाने की कोशिश की तो सारा माजरा समझ में आ गया.

दरअसल, उन्नाव जिले के गंजमुरादाबाद में एक पिता अपने बच्चे को लेकर कानपुर-बालामऊ पैसेंजर ट्रेन के आगे खड़ा हो गया. इससे अफरा-तफरी मच गई. बताया गया कि बेटे को गोद में लेकर हॉर्न सुनवाने के लिए पिता ट्रेन के सामने खड़ा हुआ था. इसके बाद ड्राइवर ने ट्रेन रोक कर पिता को ट्रैक से हटाने की कोशिश की, मगर बेटे को हॉर्न सुनवाए बिना पिता न हटने की जिद पर अड़ा रहा.

इसके बाद मजबूरन ड्राइवर ने हॉर्न बजा कर पिता की इच्छा की पूरी. बताया जा रहा है कि इस चक्कर में करीब पांच मिनट तक ट्रेन रुकी रही. जब ड्राइवर ने हॉर्न बजाकर पिता की इच्छा पूरी कर दी तब जाकर गोद में बेटे को लिए पिता ट्रैक से हटा. इस पूरी वाकये को देखने के लिए आसपास लोगों की भीड़ इकट्ठा हो गई. बताया गया कि सुनने में अक्षम बेटे को सही करने के लिए पिता ने जोखिम में जान डाली थी.

बता दें कि यह घटना कोतवाली बांगरमऊ के गंजमुरादाबाद हाल्ट के पास सुबह की है. बताया गया कि बच्चा सुन नहीं पा रहा था, इसी वजह से पिता ने इस टोटके का सहारा लिया. पिता को लगा कि अगर ट्रेन के हॉर्न बार-बार बजाए जाएं तो शायद उसके बच्चे का बहरापन दूर हो जाएगा और वह सुनने लगेगा.

Tags: Unnao News, Uttar pradesh news

अगली ख़बर