Home /News /uttar-pradesh /

UP Chunav: हस्तिनापुर विधानसभा सीट पर दिलचस्प हुआ मुकाबला, सपा ने पूर्व विधायक योगेश वर्मा को दिया टिकट

UP Chunav: हस्तिनापुर विधानसभा सीट पर दिलचस्प हुआ मुकाबला, सपा ने पूर्व विधायक योगेश वर्मा को दिया टिकट

योगेश वर्मा 2007 में बसपा के टिकट पर हस्तिनापुर से विधायक बने थे. (फाइल फोटो)

योगेश वर्मा 2007 में बसपा के टिकट पर हस्तिनापुर से विधायक बने थे. (फाइल फोटो)

Uttar Pradesh Assembly Elections 2022: उत्तर प्रदेश के मेरठ की हस्तिनापुर विधानसभा सीट (Hatinapur Assembly Seat) पर समाजवादी पार्टी (Samajwadi Party) ने पूर्व विधायक योगेश वर्मा (Yogeshh Verma) को टिकट दिया है. हस्तिनापुर सीट पर 1 लाख मुस्लिम, 63 हजार दलित, 56 हजार गुर्जर, 26 हजार जाट, 13 हजार सिख, 10 हजार यादव हैं. भाजपा से यहां मंत्री दिनेश खटीक चुनाव लड़ रहे हैं. ऐसे में गठबंधन ने योगेश वर्मा को टिकट देकर यहां बड़ा दांव खेला है.

अधिक पढ़ें ...

मेरठ. उत्तर प्रदेश के मेरठ की हस्तिनापुर विधानसभा सीट (Hatinapur Assembly Seat) पर समाजवादी पार्टी (Samajwadi Party) ने प्रत्याशी घोषित कर दिया है. सपा ने पूर्व विधायक योगेश वर्मा (Yogeshh Verma) को टिकट दिया है. योगेश वर्मा की पत्नी सुनीता वर्मा मेरठ नगर निगम की महापौर हैं. योगेश 2007 में बसपा के टिकट पर यहां से जीते थे. अब पूर्व विधायक योगेश वर्मा सपा की नैया पर सवार हैं. कुछ महीने पहले ही उन्होंने समाजवादी पार्टी ज्वाइन की थी.

हस्तिनापुर सीट पर 1 लाख मुस्लिम, 63 हजार दलित, 56 हजार गुर्जर, 26 हजार जाट, 13 हजार सिख, 10 हजार यादव हैं. भाजपा से यहां मंत्री दिनेश खटीक चुनाव लड़ रहे हैं. ऐसे में गठबंधन ने योगेश वर्मा को टिकट देकर यहां बड़ा दांव खेला है.

बसपा के टिकट पर बने थे विधायक
योगेश वर्मा 2007 में बसपा के टिकट पर हस्तिनापुर से विधायक बने थे. तब यूपी में मायावती मुख्यमंत्री बनी थीं. वहीं 2012 में बसपा ने आखिरी समय में उनका टिकट काट दिया था, जिसके बाद वर्मा पीस पार्टी से चुनाव लड़े और हार गए थे. इसके बाद 2017 के चुनाव में वह सपा के नेता प्रभुदयाल वाल्मीकि से चुनाव हार गए थे.

ये भी पढ़ें- हरक सिंह रावत को बीजेपी ने क्यों किया बर्खास्त? जानें Inside Story

लोकसभा का चुनाव भी लड़ा
योगेश वर्मा बुलंदशहर से भी लोकसभा चुनाव लड़ चुके हैं. लोकसभा चुनाव 2019 के कुछ महीने बाद उन्हें और उनकी महापौर पत्नी को बसपा ने निष्काषित किया था. कुछ महीनों पहले वो और उनकी पत्नी सुनीता वर्मा सपा में शामिल हुए थे.

ये भी पढ़ें- यूपी विधानसभा चुनाव से जुड़े तमाम बड़े अपडेट्स यहां पढ़ें…

गौरतलब है कि एससी-एसटी एक्ट के संशोधन के विरोध में 2 अप्रैल 2018 को मेरठ में हिंसा हुई थी. यहां हजारों की भीड़ ने पहले आगजनी कर तोड़फोड़ की थी. प्रशासन व पुलिस के अधिकारियों ने योगेश वर्मा को इस मामले में तब जेल भेजा था.

Tags: Meerut news, Samajwadi party, Uttar Pradesh Assembly Elections, Uttar Pradesh Elections

विज्ञापन
विज्ञापन

राशिभविष्य

मेष

वृषभ

मिथुन

कर्क

सिंह

कन्या

तुला

वृश्चिक

धनु

मकर

कुंभ

मीन

प्रश्न पूछ सकते हैं या अपनी कुंडली बनवा सकते हैं ।
और भी पढ़ें
विज्ञापन

टॉप स्टोरीज

अधिक पढ़ें

अगली ख़बर