होम /न्यूज /उत्तर प्रदेश /

UP Chunav 2022: यूपी में बीजेपी का सफाया तय, बन गई है 1977 जैसी इंदिरा विरोधी लहर- प्रो. रामगोपाल यादव

UP Chunav 2022: यूपी में बीजेपी का सफाया तय, बन गई है 1977 जैसी इंदिरा विरोधी लहर- प्रो. रामगोपाल यादव

प्रोफेसर रामगोपाल यादव ने इटावा में न्यूज18 से खास बातचीत में उत्तर प्रदेश के विधानसभा चुनावों को लेकर खुलकर बात की.

प्रोफेसर रामगोपाल यादव ने इटावा में न्यूज18 से खास बातचीत में उत्तर प्रदेश के विधानसभा चुनावों को लेकर खुलकर बात की.

समाजवादी पार्टी (Samajwadi Party) के राष्ट्रीय महासचिव प्रोफेसर रामगोपाल यादव (Ramgopal Yadav) को समाजवादी पार्टी की रीढ कहा जाता है. कई राजनीतिक टीकाकार प्रोफेसर रामगोपाल यादव को अखिलेश यादव का चाणक्य भी कहते हैं. प्रोफेसर रामगोपाल यादव ने इटावा में न्यूज18 से खास बातचीत में उत्तर प्रदेश के विधानसभा चुनावों (UP Assembly Elections 2022) को लेकर खुलकर बात की.

अधिक पढ़ें ...

इटावा. समाजवादी पार्टी (Samajwadi Party) के राष्ट्रीय महासचिव प्रोफेसर रामगोपाल यादव (Ramgopal Yadav) को समाजवादी पार्टी की रीढ कहा जाता है. कई राजनीतिक टीकाकार प्रोफेसर रामगोपाल यादव को अखिलेश यादव का चाणक्य भी कहते हैं. प्रोफेसर रामगोपाल यादव ने इटावा में न्यूज18 से खास बातचीत में उत्तर प्रदेश के विधानसभा चुनावों (UP Assembly Elections 2022) को लेकर खुलकर बात की. यादव बताते हैं कि और उत्तर प्रदेश में बीजेपी के खिलाफ इस समय वर्ष 1977 जैसी स्थिति बनती दिख रही है. वह कहते हैं उस समय जैसे पूरे उत्तर भारत से कांग्रेस को साफ कर दिया, वैसे ही अब बीजेपी की स्थिति होने वाली है.

रामगोपाल यादव कहते हैं, ‘भारतीय जनता पार्टी के लोगों ने ऐसा आतंक पैदा कर दिया था कि पहले लोग बोल नहीं रहे थे, लेकिन जैसे-जैसे चुनाव करीब आया लोगों का भय निकलता गया और अब लोगो ने बोलना शुरू कर दिया है.’ उन्होंने कहा कि पहले अखिलेश की बातों पर लोगों को यकीन नहीं हो रहा था, लेकिन जब अखिलेश की सभाओं में भारी जनसैलाब देखने को मिला तो उससे साफ हो रहा है कि अखिलेश की 400 सीटें हासिल करने वाली बात सच साबित होगी. इसेक साथ ही उन्होंने दावा किया कि सपा को हर वर्ग-हर जाति का वोट मिलता हुआ दिख रहा है.

सपा के राष्ट्रीय महासचिव ने कहा कि सत्ताधारी दल के लोगों की यह आदत बनी हुई है. जब से यह सत्ता में आए हैं, जिसने भी अपना मुंह भाजपा के खिलाफ खोला, उसे ईडी और सीबीआई की जांच के नाम पर डराना धमकाना शुरू कर देते हैं.

ये भी पढ़ें- यूपी चुनाव से पहले EVM हैकिंग को लेकर ‘चुनाव आयोग का पत्र’ हुआ वायरल, हरकत में आई पुलिस

‘राम मंदिर के कभी विरोधी नहीं थे’
वहीं बीजेपी द्वारा चुनाव प्रचार में राम मंदिर निर्माण का मुद्दा जोर-शोर से उठाने को लेकर रामगोपाल यादव कहते हैं, ‘इस देश की जनता मूर्ख नहीं है. सब इस बात को जानते हैं कि सुप्रीम कोर्ट के आदेश पर राम मंदिर का निर्माण किया जा रहा है. सुप्रीम कोर्ट का फैसला आने के बाद देश के किसी भी व्यक्ति ने राम मंदिर निर्माण का विरोध नहीं किया. विरोध तो छोड़िए एक भी शब्द नहीं बोला है. वह कहते हैं, ‘हम लोग कब राम मंदिर के विरोधी थे, लेकिन अदालत के आदेशों का पालन करवाना हम सबकी बड़ी जिम्मेदारी है.

ये भी पढ़ें- अखिलेश की स्पेलिंग बताने में ही फूलने लगा सपा प्रत्याशी का दम, Video हुआ वायरल

समाजवादी पार्टी को बीजेपी द्वारा गुंडों की पार्टी बताए जाने पर रामगोपाल यादव कहते हैं कि यह दुर्भाग्य है कि जिनके खिलाफ तमाम मुकदमे कायम हैं. वे लोग दूसरों को गुंडा पार्टी कहते हैं. उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री, उत्तर प्रदेश के उप मुख्यमंत्री रोजाना सपा को गुंडा पार्टी कहते हैं, उनकी क्रिमिनल हिस्ट्री ट्वीट की थी. वह कहते हैं, ‘इनका जब नामिनेशन पेपर भरा जाता है तो क्रिमिनल हिस्ट्री को दिखाने के लिए एक-एक पन्ना अलग से जोड़ा जाता है, क्योंकि नामिनेशन पेपर में इतना स्पेस नहीं होता है. इतने बड़े अपराधी लोग ऐसे व्यक्ति के नेतृत्व में चल रही पार्टी को गुंडा पार्टी कहें, जिसके खिलाफ जीवन मे एक भी एफआईआर तक कायम ना हुई हो.’

‘हताशा में अनाप-शनाप बातें कर रही बीजेपी’
वह कहते हैं, ‘असल में फ्रस्ट्रेशन के चलते यह सब भाजपा नेताओं की ओर से बोला जा रहा है. जिस तरह का समर्थन अखिलेश और उनके सहयोगी दलों को मिल रहा है, भारतीय जनता पार्टी उसके आगे कहीं पर भी टिक नहीं पा रही है इसलिए उस फ्रस्ट्रेशन में इस तरह की बातें भारतीय जनता पार्टी के नेता कर रहे हैं. अब ना तो विकास की बात कर रहे हैं ना तो सुशासन की बात करते हैं, सिर्फ समाजवादी पार्टी और अखिलेश को गाली गलौज करते हैं, लेकिन उन्होंने इतिहास से कुछ नहीं सीखा है. गाली गलौज करने वाले लोगों को जनता रिजेक्ट कर देती है.

उन्होंने कहा कि अखिलेश यादव के 1 दिन के नोटिस पर लाखों लोग उनकी जनसभाओं में पहुंचने लगे, जबकि भारतीय जनता पार्टी के नेताओं के लिए उत्तर प्रदेश भर के डीएम सरकारी और गैर सरकारी गाड़ियां लगाकर सारी आशा बहुएं, आंगनबाड़ी कार्यकर्ती, सभी सरकारी लाभार्थियों की ड्यूटी लगा दी जाती थी, तब प्रधानमंत्री-गृहमंत्री की मीटिंग में लोग जाते थे, लेकिन आम जनता उनके कार्यक्रम से पूरी तरह से दूर रहती है.’

ये भी पढ़ें- दहेज के चलते बड़ी बेटी के दूल्हे ने किया आने से इनकार तो बारात लेकर पहुंच गया छोटी का दूल्हा

रामगोपाल यादव कहते हैं, ‘भारतीय जनता पार्टी के नेता कहीं पर भी चुनाव जीतते हुए नहीं दिखाई दे रहे हैं.’ उन्होंने कहा कि पश्चिम से लेकर के पूरब तक भाजपा का सफाया होने जा रहा है. एक भी सीट ऐसी नहीं कही जा सकती है, जिस पर भारतीय जनता पार्टी विश्वास के साथ कह रही हो कि हम जीतने जा रहे हैं.’ वह कहते हैं कि पहले और दूसरे राउंड में ही पश्चिम का चुनाव संपन्न हो जाएगा. भारतीय जनता पार्टी को एक-दो सीट मिल जाए तो मिल जाए अन्यथा एक भी सीट मिलती हुई नहीं दिखाई दे रही है.

‘बीजेपी उम्मीदवारों को पीटने पर आमादा हैं लोग’
सपा सांसद कहते हैं, ‘भारतीय जनता पार्टी के उम्मीदवार पश्चिम यूपी में जहां-जहां पर वोट मांगने के लिए जा रहे हैं, ना केवल उन्हें जनता के विरोध का सामना करना पड़ रहा है, बल्कि उनको लोग पीटने तक पर आमादा हो गए हैं. भाजपा के उम्मीदवार गांव में जाने की हिम्मत नहीं कर पा रहे हैं. जनता के आक्रोश को देखते हुए भारतीय जनता पार्टी के उम्मीदवार वोट नहीं मांग पा रहे हैं.

उन्होंने कहा कि देश के गृहमंत्री कैराना में वोट मागंने जाते हैं. उनके पीछे भीड़ चल रही थी, लेकिन कोई भी मास्क नही लगाए हुए था. उनके खिलाफ ना तो महामारी अधिनियम का मुकदमा दर्ज किया गया और ना ही आचार संहिता उल्लंघन का मामला दर्ज किया गया. जबकि अखिलेश और जयंत के खिलाफ मुकदमा दर्ज कर दिया गया है. वह कहते हैं कि समाजवादी सरकार बनते ही ये सारे मुकदमा खत्म कर दिए जाएंगे. उन्होंने कहा कि कन्नौज के इत्र को भाजपा ने बदबू का इत्र बोलकर बदनाम कर दिया है, यह कन्नौज का नहीं यूपी का अपमान है. यूपी की जनता भाजपा को सबक सिखाएगी.

Tags: Uttar Pradesh Assembly Elections, Uttar Pradesh Elections

अगली ख़बर