Home /News /uttar-pradesh /

UP Chunav 2022: मांट विधानसभा सीट पर थमा सपा-आरएलडी का विवाद, जानें संजय लाठार का रास्ता कैसे हुआ साफ

UP Chunav 2022: मांट विधानसभा सीट पर थमा सपा-आरएलडी का विवाद, जानें संजय लाठार का रास्ता कैसे हुआ साफ

मांट विधानसभा सीट पर समाजवादी पार्टी और आरएलडी के गठबंधन के बीच पनपा विवाद अब थम गया है.

मांट विधानसभा सीट पर समाजवादी पार्टी और आरएलडी के गठबंधन के बीच पनपा विवाद अब थम गया है.

उत्तर प्रदेश के मथुरा जनपद की सबसे हॉट सीट माने जाने वाली मांट विधानसभा (Mant Assembly Seat) पर समाजवादी पार्टी और आरएलडी के गठबंधन (SP-RLD Alliance) के बीच पनपा विवाद अब थम गया है. रिटर्निंग ऑफिसर ने जांच के दौरान आरएलडी प्रत्याशी योगेश नौहवार का नामांकन निरस्त कर दिया है. जांच के दौरान योगेश नौहवार के 10 प्रस्तावक न होने पर अब वह निर्दलीय के रूप में भी चुनाव नहीं लड़ सकेंगे.

अधिक पढ़ें ...

मथुरा. उत्तर प्रदेश के मथुरा जनपद की सबसे हॉट सीट माने जाने वाली मांट विधानसभा (Mant Assembly Seat) पर समाजवादी पार्टी और आरएलडी के गठबंधन (SP-RLD Alliance) के बीच पनपा विवाद अब थम गया है. रिटर्निंग ऑफिसर ने जांच के दौरान आरएलडी प्रत्याशी योगेश नौहवार का नामांकन निरस्त कर दिया है. जांच के दौरान योगेश नौहवार के 10 प्रस्तावक न होने पर अब वह निर्दलीय के रूप में भी चुनाव नहीं लड़ सकेंगे. योगेश नौहवार के पर्चा निरस्त होने के बाद अब साफ है कि इस सीट से सपा-आरएलडी प्रत्याशी के रूप मे संजय लाठार चुनाव लड़ेंगे.

दरअसल मथुरा की मांट विधानसभा पर मथुरा जनपद के अलावा प्रदेश व केंद्रीय नेताओं की नजर टिकी हुई हैं. जनपद की जाट बाहुल्य मांट विधानसभा को आरएलडी का गढ़ माना जाता है. इस सीट पर आरएलडी का मुकाबला लगातार विधायक चुने जा रहे श्याम सुंदर शर्मा से रहता है. इस सीट से आठ बार के विधायक श्याम सुंदर शर्मा को आरएलडी कभी परास्त नहीं कर पाई.

जयंत चौधरी ने रचा था मांट से इतिहास
आरएलडी के युवराज जयंत चौधरी का जादू लोगों के सिर पर इस कदर चढ़ा कि सांसद रहते हुए जयंत ने मांट विधानसभा से चुनाव लड़ा और लगातार 6 बार के विधायक व पूर्व उच्च शिक्षा मंत्री को हराकर इतिहास रचा. हालांकि आरएलडी के सिर पर बंधा जीत का सेहरा ज्यादा दिन तक नहीं रह पाया और जयंत चौधरी को मनमोहन सरकार को मजबूती देने के लिए सांसद बने रहना पड़ा और विधानसभा से त्यागपत्र देना पड़ा.

ये भी पढ़ें- रूपाली दीक्षित: लंदन से MBA, दुबई में जॉब, परिवार पर आई मुसीबत तो लौटी भारत और 3 मिनट में ले लिया सपा से टिकट

सपा सरकार में हुए उपचुनाव में सपा से संजय लाठार को पटखनी देकर श्याम सुंदर शर्मा एक बार फिर विधायक बने और उसी का परिणाम है कि सपा के कद्दावर नेता एमएलसी संजय लाठार उस दर्द को आज तक नहीं भुला पाए और एक बार फिर सपा-आरएलडी गठबंधन में कूटनीति का सहारा लेकर योगेश नौहवार का पर्चा कैंसिल कराकर एक बार फिर श्याम सुंदर शर्मा के सामने ताल ठोकने को तैयार हैं.

यह बात अलग है कि सपा सरकार में हुए उपचुनाव मे संजय लाठार के प्रचार में अखिलेश सरकार के दिग्गज मंत्रियों से लेकर खुद अखिलेश यादव ने मांट सीट की जनता से तमाम वादे किए, लेकिन मांट की सरदारी ने श्याम सुंदर शर्मा को ही अपना नेता माना और आज भी श्याम सुंदर शर्मा उसी जनता के भरोसे नौवीं बार वैतरनी पार करने को तैयार हैं.

ये भी पढ़ें- यूपी चुनाव में क्या मायावती से तमग़ा छीनकर खुद दलित नेता बन पाएंगे चंद्रशेखर आजाद?

सियासी समीकरण ने बसपा की राह की आसान
मथुरा जनपद की 5 विधानसभा सीटों पर सबसे अधिक चर्चित मांट विधानसभा सीट पर बने समीकरण के बाद अब एक बार फिर बसपा प्रत्याशी श्यामसुंदर शर्मा की जीत आसान मानी जा रही है, क्योंकि इस सीट पर इस बार फिर दो जाट प्रत्याशी भाजपा से राजेश चौधरी और सपा से संजय लाठार आमने-सामने आ गए हैं. इसकी वजह से जाट वोट दो जगह बंटने का अनुमान है और बसपा के वोट बैंक के सहारे श्याम सुंदर शर्मा का रास्ता आसान होता दिखाई दे रहा है.

Tags: SP-RLD Alliance, Uttar Pradesh Assembly Elections, Uttar Pradesh Elections

विज्ञापन
विज्ञापन

राशिभविष्य

मेष

वृषभ

मिथुन

कर्क

सिंह

कन्या

तुला

वृश्चिक

धनु

मकर

कुंभ

मीन

प्रश्न पूछ सकते हैं या अपनी कुंडली बनवा सकते हैं ।
और भी पढ़ें
विज्ञापन

टॉप स्टोरीज

अधिक पढ़ें

अगली ख़बर