लाइव टीवी

उत्तर प्रदेश बजट: जेवर हवाई अड्डा के लिए मिले दो हजार करोड़ रुपए
Greater-Noida News in Hindi

भाषा
Updated: February 18, 2020, 9:51 PM IST
उत्तर प्रदेश बजट: जेवर हवाई अड्डा के लिए मिले दो हजार करोड़ रुपए
यह एयरपोर्ट 2023 तक चालू होना प्रस्तावित है. 5,000 हेक्टेयर में फैली इस परियोजना की लागत 29 हजार 560 करोड़ रुपए होने की संभावना है. एयरपोर्ट का पहला चरण 4,588 करोड़ रुपए की लागत से 1,334 हेक्टेयर में तैयार होगा.

यह एयरपोर्ट 2023 तक चालू होना प्रस्तावित है. 5,000 हेक्टेयर में फैली इस परियोजना की लागत 29 हजार 560 करोड़ रुपए होने की संभावना है. एयरपोर्ट का पहला चरण 4,588 करोड़ रुपए की लागत से 1,334 हेक्टेयर में तैयार होगा.

  • Share this:
नोएडा. उत्तर प्रदेश सरकार ने जेवर में बनने वाले इंटरनेशनल ग्रीन फील्ड हवाई अड्डे के लिए मंगलवार को पेश राज्य के बजट में दो हजार करोड़ रुपये का प्रावधान किया है जिससे इसका निर्माण समय पर पूरा होना लगभग तय हो गया है. प्रदेश सरकार द्वारा बजट में किए गए उक्त प्रावधान पर यमुना विकास प्राधिकरण के अधिकारियों ने कहा कि अब हवाईअड्डे के निर्माण में धन की कमी नहीं आएगी. मंगलवार को उत्तर प्रदेश विधानसभा में बजट पेश करते हुए वित्त मंत्री सुरेश खन्ना ने जेवर इंटरनेशनल ग्रीन फील्ड हवाई अड्डे के लिए 2 हजार करोड़ रुपए का बजट प्रस्तावित किया.

हवाई अड्डा 2023 तक चालू होना प्रस्तावित
यह हवाई अड्डा 2023 तक चालू होना प्रस्तावित है. 5,000 हेक्टेयर में फैली इस परियोजना की लागत 29 हजार 560 करोड़ रुपए होने की संभावना है. हवाई अड्डे का पहला चरण 4,588 करोड़ रुपए की लागत से 1,334 हेक्टेयर में तैयार होगा. अधिकारियों के मुताबिक इस परियोजना का प्रबंधन और संचालन नोएडा इंटरनेशनल एयरपोर्ट द्वारा किया जा रहा है, जो उत्तर प्रदेश सरकार द्वारा बनाई गई एक विशेष एजेंसी है. एनआईएएल में नोएडा प्राधिकरण की हिस्सेदारी 33.5 प्रतिशत है जबकि ग्रेटर नोएडा औद्योगिक विकास प्राधिकरण की 12.5 प्रतिशत और यमुना औद्योगिक विकास प्राधिकरण की 12.5 प्रतिशत. बाकी हिस्सेदारी उत्तर प्रदेश सरकार की है.

स्विस फर्म ज्यूरिक द्वारा जेवर हवाई अड्डे का निर्माण 



यमुना औद्योगिक विकास प्राधिकरण के सीईओ अरुण वीर सिंह ने बताया कि जेवर हवाई अड्डे का निर्माण स्विस फर्म ज्यूरिक द्वारा किया जाना है. उन्होंने बताया कि 29 नवंबर को उक्त कंपनी ने सबसे अधिक बोली लगाई थी. अडानी इंटरप्राइजेज, डीआईएएल और एन्कोरेज इंन्फ्रास्ट्रक्चर इन्वेस्टमेंट होल्डिंग जैसी कंपनियों ने भी बोली में हिस्साा लिया था. हवाईअड्डे के लिए 2 हजार करोड़ रुपये के प्रस्ताव से किसान भी खुश हैं. उनका कहना है कि सरकार द्वारा दी गई धनराशि की वजह से उनका मुआवजा तथा पुनर्वास आदि समय पर पूरा हो जाएगा.



सरकार के इस कदम की प्रशंसा
मालूम हो कि जेवर हवाईअड्डे के अधिग्रहण से प्रभावित किसानों के लिए यमुना विकास प्राधिकरण व जिला प्रशासन अलग से कॉलोनी विकसित करके उनका पुनर्वास कर रहा है. गौतम बुद्ध नगर से भारतीय जनता पार्टी के सांसद डॉ. महेश शर्मा ने कहा कि उत्तर प्रदेश सरकार ने जेवर हवाईअड्डे के लिए 2 हजार करोड़ रुपए का बजटीय प्रावधान कर क्षेत्र के विकास का रास्ता खोल दिया है. नोएडा से भारतीय जनता पार्टी के विधायक पंकज सिंह तथा जेवर से भाजपा विधायक ठाकुर धीरेंद्र सिंह ने भी सरकार के इस कदम की प्रशंसा की है.

ये भी पढ़ें: 

आधी-अधूरी तैयारी के साथ कुंभ की सुरक्षा में उतरेगी उत्तराखंड पुलिस...

डीजी पुलिस से कह लो चाहे... चौकी में नहीं दर्ज होगी तहरीर तक

News18 Hindi पर सबसे पहले Hindi News पढ़ने के लिए हमें यूट्यूब, फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करें. देखिए ग्रेटर नोएडा से जुड़ी लेटेस्ट खबरें.

First published: February 18, 2020, 9:51 PM IST
पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर
corona virus btn
corona virus btn
Loading