अपना शहर चुनें

States

UP: ऊर्जा मंत्री श्रीकांत शर्मा बोले- आत्मनिर्भर बन रहा है प्रदेश, बढ़ेंगे रोजगार के नये अवसर

यूपी के ऊर्जा मंत्री श्रीकांत शर्मा नोएडा के इंडस्ट्रियल फीडर्स का निरीक्षण करते हुए.
यूपी के ऊर्जा मंत्री श्रीकांत शर्मा नोएडा के इंडस्ट्रियल फीडर्स का निरीक्षण करते हुए.

यूपी (UP) के ऊर्जा मंत्री श्रीकांत शर्मा (Shrikant Sharma) ने आज नोएडा (Noida) और ग्रेटर नोएडा के इंडस्ट्रियल और घरेलू फीडर्स का निरीक्षण किया. यहां ऊर्जा मंत्री ने उपभोक्ताओं से फोन पर विद्युत आपूर्ति के बारे में जानकारी ली. साथ ही उन्होंने उपभोक्ता की शिकायतों के त्वरित निस्तारण के निर्देश दिए.

  • News18Hindi
  • Last Updated: September 24, 2020, 7:37 PM IST
  • Share this:
नोएडा. उत्तर प्रदेश (Uttar Pradesh) के ऊर्जा और अतिरिक्त ऊर्जा स्रोत मंत्री श्रीकान्त शर्मा (Shrikant Sharma) ने गौतमबुद्ध नगर जिले में नोएडा और ग्रेटर नोएडा के इंडस्ट्रियल और घरेलू फीडर्स वाले उपकेंद्रों का निरीक्षण किया. ऊर्जा मंत्री ने कहा कि प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी के आत्मनिर्भर भारत के संकल्प के तहत प्रदेश में निवेश और रोजगार (Employment) के माहौल को बढ़ावा देने के लिये उद्योगों के साथ गांव और शहरों को भी निर्बाध बिजली दी जाएगी. मंत्री ने निरीक्षण के दौरान उद्योगों को ट्रिपिंग फ्री बिजली आपूर्ति की लगातार मॉनिटरिंग के निर्देश दिये.

ऊर्जा मंत्री ने दादरी स्थित कुड़ी खेड़ा विद्युत उपकेंद्र, नोएडा SEZ और नोएडा के सेक्टर 16-A फिल्म सिटी इंडस्ट्रियल फीडर्स वाले विद्युत उपकेंद्रों का निरीक्षण किया. इस दौरान उन्होंने इंडस्ट्रियल और कॉमर्शियल उपभोक्ताओं को फोन कर बिजली आपूर्ति की जानकारी ली. अधिकारियों को इज़ ऑफ डूइंग बिज़नेस के लिये निर्बाध आपूर्ति देने, नये कनेक्शन को पेंडिंग में ना रखने और उपभोक्ता शिकायतों के त्वरित निस्तारण के निर्देश दिए हैं. ऊर्जा मंत्री ने कहा कि प्रदेश में बीजेपी सरकार बनने के बाद से बिजली की कोई कमी नहीं है. पर्याप्त, निर्बाध और सस्ती बिजली आपूर्ति के लिये ट्रांसमिशन और डिस्ट्रीब्यूशन नेटवर्क को लगातार मजबूत किया जा रहा है. साथ ही मंत्री ने विभाग को सही और समय पर बिल देने के निर्देश दिये हैं.

तस्वीरों में देखिए आजमगढ़ में मूसलाधार बारिश ने बरपाया कहर, कच्चा मकान ढहने से 2 महिलाओं की मौत



इस दौरे के बाग मंत्री ने कहा कि प्रदेश विद्युत उत्पादन में आत्मनिर्भर बन रहा है. वर्ष 2022 तक ऊर्जा विभाग के राज्य तापीय विद्युत गृहों का उत्पादन 7,260 MW बढ़कर 12734 मेगावॉट हो जाएगा. इसमें से 1320 मेगावॉट विद्युत उत्पादन बढ़ जाएगा.लगातार सर्वाधिक मांग की सकल आपूर्ति के बारे में ऊर्जा मंत्री ने बताया कि प्रदेश में 16 सितंबर को अब तक की अधिकतम मांग 23,867 MW की आपूर्ति की गई. यह साढ़े तीन साल पहले तक की गई अधिकतम आपूर्ति से करीब 7 हजार मेगावाट अधिक है. निर्बाध आपूर्ति के लिये तीन साल में प्रदेश में ट्रांसमिशन क्षमता (टीसी) 16,500 से 8000 मेगावाट बढ़कर 24,500 मेगावाट हो गई है.
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज