अपना शहर चुनें

States

फ्रांस के राजदूत इमैनुएल लेनन ने गोरखनाथ मंदिर में की पूजा-अर्चना, गायों को खिलाया गुड़

फ्रांस के राजदूत इमैनुएल लेनन ने गोरखपुर मंदिर में पूजा-अर्चना की.
फ्रांस के राजदूत इमैनुएल लेनन ने गोरखपुर मंदिर में पूजा-अर्चना की.

फ्रांस के राजदूत (Ambassador of France) इमैनुएल लेनन ने गुरुवार सुबह वैदिक मंत्रोच्चार और शंखध्वनि के बीच गोरखनाथ मंदिर (Gorakhnath Temple) में बाबा गोरखनाथ का दर्शन और पूजन किया. इसके बाद उन्होंने नगर का भ्रमण किया.

  • News18Hindi
  • Last Updated: November 26, 2020, 12:07 PM IST
  • Share this:
गोरखपुर. भारत में फ्रांस के राजदूत (Ambassador of France) इमैनुएल लेनन ने गुरुवार सुबह वैदिक मंत्रोच्चार और शंखध्वनि के बीच गोरखनाथ मंदिर (Gorakhnath Temple) में बाबा गोरखनाथ का दर्शन और पूजन किया. डेढ़ घंटे मंदिर परिसर में रहने के दौरान उन्होंने नाथ संप्रदाय के इस विश्व विख्यात पीठ की विशेषताओं की जानकारी ली. साथ ही इमैनुएल ने मंदिर की गोशाला (Cow Shed) में जाकर गाय को अपने हाथों से गुड़ खिलाया. इमैनुएल गोशाला में आकर खुश नजर आए. फ्रांस के राजदूत को मंदिर प्रबंधन ने गीता प्रेस और गोरखनाथ मंदिर की धार्मिक सांस्कृतिक पुस्तकें की भेंट कीं.

फ्रांस के राजदूत इमैनुएल लेनन बुधवार रात गोरखपुर पहुंचे. यहां जिलाधिकारी विजयेंद्र पांडियन ने उनका स्वागत किया. मोहद्दीपुर स्थित एक होटल में रात्रि विश्राम के बाद गुरुवार सुबह 7:25 बजे लेनन गोरखनाथ मंदिर पहुंचे. उन्होंने वैदिक मंत्रोच्चार और शंखध्वनि के बीच बाबा गोरखनाथ का विधि-विधान से दर्शन और पूजन किया. मंदिर की अलौकिक छटा देखकर लेनन काफी खुश नजर आए.

यूपी में शादी के लिए नहीं लेनी होगी अनुमति, कोरोना गाइडलाइन के नाम पर परेशान नहीं करेगी पुलिस



उन्होंने मंदिर परिसर स्थित सभी देवालयों, अखंड धूनी, ब्रह्मलीन महंतजन की समाधि स्थली पर शीश नवाया. मंदिर परिसर में भ्रमण के दौरान वह महाराणा प्रताप पीजी कॉलेज के प्राचार्य डॉ. प्रदीप राव से इस विश्व प्रसिद्ध पीठ की विशेषताओं के बारे में जानकारी ली. उन्होंने भीम सरोवर समेत तमाम स्थलों पर खुद फ़ोटो भी खींची. मंदिर परिसर स्थित गोशाला में जाकर फ्रांस के राजदूत ने गाय को गुड़ भी खिलाया.
इस गोशाला को लेकर मुख्यमंत्री और गोरखधाम पीठाधीश्वर योगी आदित्यनाथ की गोसेवा और गोवंश को लेकर उनके द्वारा संचालित योजनाओं के बारे के विस्तार से जानकारी ली. करीब डेढ़ घंटे मंदिर में रहने के दौरान उन्होंने जलपान किया. विदाई के वक्त गोरखनाथ मंदिर प्रबंधन की तरफ से उन्हें अंग्रेजी और फ्रेंच भाषा में प्रकाशित गीता प्रेस व गोरखनाथ मंदिर की धार्मिक व सांस्कृतिक पुस्तकें भेंट की. गोरखपुर मंदिर के दर्शन के बाद फ्रांस के राजदूत ने गोरखपुर शहर का भ्रमण किया और शहर को नजदीकी से देखा. शहर के विकास को देखकर फ्रांस के राजदूत ने कहा कि वह पांच साल बाद एक बार फिर गोरखपुर आएंगे.
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज