झांसी: किसान बिल का विरोध कर रहे पूर्व केंद्रीय मंत्री प्रदीप जैन को पुलिस ने किया नजरबंद

नजरबंद हुए पूर्व सांसद प्रदीप जैन.
नजरबंद हुए पूर्व सांसद प्रदीप जैन.

पूर्व सांसद प्रदीप जैन (Pradeep Jain) ने कहा है कि योगी सरकार (Yogi Government) ने भी ही हमें घर में नजरबंद कर दिया हो, लेकिन किसान बिल (Farmers Bill) का विरोध जारी रहेगा.

  • News18Hindi
  • Last Updated: September 27, 2020, 11:33 PM IST
  • Share this:
झांसी. किसान बिल (Kisan Bill) की खिलाफत कर रहे पूर्व केंद्रीय मंत्री प्रदीप जैन (Pradeep Jain) को आज उत्‍तर प्रदेश पुलिस (Uttar Pradesh Police) ने नजरबंद कर दिया है. इसकी जानकारी खुद पूर्व केंद्रीय मंत्री प्रदीप जैन ने ट्वीट कर दी है. अपनी ट्वीट में प्रदीप जैन ने बताया है कि वह किसान बिल के विरोध में वह अपने साथियों के साथ झाँसी (Jhansi) से लखनऊ (Lucknow) जा रहे थे. तभी पुलिस ने उन्‍हें उनके साथियों के साथ नजरबंद कर दिया है. उन्‍होंने स्‍पष्‍ट किया है कि योगी सरकार (Yogi Government) ने भी ही हमें घर में नजरबंद कर दिया हो, लेकिन किसान बिल का विरोध जारी रहेगा.









उल्‍लेखनीय है कि किसान बिल भले ही संसद के दोनों सदनों में पास हो गया है, लेकिन कांग्रेस इस बिल के विरोध में लगातार अपनी आवाज बुलंद कर रही है. इसी कड़ी में कांग्रेस के कार्यकर्ता लगातार पूरे देश में विरोध प्रदर्शन कर रहे हैं. इसी कड़ी में, 28 सितंबर को किसान बिल के विरोध में कांग्रेस के कार्यकर्ता लखनऊ में बड़ा विरोध प्रदर्शन करने जा रहे हैं. आपको बता दें कि किसान बिल के विरोध में कांग्रेस महासचिव प्र‍ियंका गांधी ने कहा था कि  किसानों से MSP छीन ली जाएगी. उन्हें कांट्रेक्ट फार्मिंग के जरिए खरबपतियों का गुलाम बनने पर मजबूर किया जाएगा. किसानों को न दाम मिलेगा, न सम्मान. किसान अपने ही खेत पर मजदूर बन जाएगा. भाजपा का कृषि बिल ईस्ट इंडिया कम्पनी राज की याद दिलाता है. हम ये अन्याय नहीं होने देंगे.
सीएम योगी ने बिल का विरोध करने वालों केा बताया किसान विरोधी
मुख्‍यमंत्री योगी आदित्‍यनाथ ने किसान बिल का विरोध करने वालों को किसान विरोध बताया है. उन्‍होंने कहा कि प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने किसानों की आय दोगुनी करने का जो वादा किया था, ये विधेयक उसी की कड़ी है. यह विधेयक किसानों को बिचौलियों के चंगुल से मुक्त कराएंगे और उन्हें अपनी पसंद के मुताबिक अपने उत्पाद बेचने का विकल्प देते हैं. उन्होंने विधेयकों का विरोध करने वालों को “किसान विरोधी” करार देते हुए कहा कि विपक्ष लोगों को गुमराह करने की कोशिश कर रहा है, लेकिन उन्हें सफल नहीं होने दिया जाएगा. उन्‍होंने कहा कि जिन लोगों ने किसानों का दोहन किया और प्रवासियों का उपहास किया, जो यह नहीं जानते कि गन्ना जमीन पर उगता है या पेड़ों पर, वे किसानों और श्रमिकों के लिए लड़ने का ढोंग कर रहे हैं.
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज