liveLIVE NOW
  • Home
  • »
  • News
  • »
  • uttar-pradesh
  • »
  • UP News Live Updates: मुलायम सिंह यादव जन्मदिन पर पहुंचे सपा मुख्यालय, अखिलेश ने लिया आशीर्वाद

UP News Live Updates: मुलायम सिंह यादव जन्मदिन पर पहुंचे सपा मुख्यालय, अखिलेश ने लिया आशीर्वाद

Uttar Pradesh News Live, November 22, 2021: तीन कानूनों को वापस लेने की मांग को लेकर पंजाब, हरियाणा और उत्तर प्रदेश के आंदोलनकारी किसान पिछले साल नवंबर से दिल्ली की सीमाओं पर तीन जगहों पर बैठे हैं. उनका कहना है कि जब तक उनकी मांगें पूरी नहीं हो जातीं, तब तक वे वापस नहीं जाएंगे.

  • News18 Uttar Pradesh
  • | November 22, 2021, 12:14 IST
    facebookTwitterLinkedin
    LAST UPDATED 10 DAYS AGO

    AUTO-REFRESH

    13:34 (IST)

    भाजपा के राष्ट्रीय अध्यक्ष जेपी नड्डा गोरक्षनाथ मंदिर पहुंचे और पूजन-दर्शन किया. गोरक्षनाथ मंदिर में सीएम योगी के साथ करेंगे भोजन.

    12:47 (IST)

    उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने अपने दो दिवसीय गौरखपुर दौरे में आज गोरखनाथ मंदिर परिसर में लगे जनता दरबार में सैकड़ों शिकायतकर्ताओं की समस्याओं को सुना और समाधान का आश्वासन दिया. गोरखनाथ मंदिर में सीएम योगी की दिनचर्या पूरी तरह से पारंपरिक रही. पूजा करने के बाद वह शिकायतकर्ताओं के बीच पहुंचे और सुबह से ही वहां मौजूद शिकायतकर्ताओं की समस्याएं सुनीं और इस संबंध में अधिकारियों को निर्देश भी दिए.

    12:09 (IST)

    समाजवादी पार्टी के संयोजक और यूपी के पूर्व मुख्यमंत्री मुलायम सिंह यादव जन्मदिन के मौके पर लखनऊ स्थित पार्टी मुख्यालय पहुंचे, जहां अखिलेश यादव ने शाल पहनाकर आशीर्वाद लिया. इसके अलावा राम गोपाल यादव ने भी शाल पहनाया.

    11:31 (IST)
    बीकेयू नेता राकेश टिकैत ने मीडिया से बातचीत में कहा कि केंद्रीय गृह राज्य मंत्री अजय मिश्रा टेनी को बर्खास्त किया जाए. MSP पर क़ानून बनाओ. 750 किसानों की मृत्यु हुई उनका ध्यान रखा जाए. दूध के लिए भी एक नीति आ रही है उसके भी हम ख़िलाफ़ है, बीज क़ानून भी है. इन सब पर बातचीत करना चाहते हैं. इसके साथ ही उन्होंने मांग की कि MSP पर कानून बने, जो किसान शहीद हुए उनकी जिम्मेदारी सरकार उठाए. वहीं पत्रकारों ने जब उनसे पूछा कि उन्होंने महापंचायत के लिए लखनऊ ही क्यों चुना? तो इस पर उन्होंने कहा, 'अजय टेनी यहीं का है, इसीलिए...'

    11:08 (IST)

    किसान महापंचायत में शामिल ऑल इंडिया किसान सभा के नेता हन्नान मुल्ला ने कहा, 'हमने पहले ही बताया था कि हमारी मांग का एक हिस्सा स्वीकार किया है. एमएसपी स्वीकार नहीं किया है, और भी कुछ मांग हैं, जब तक वो नहीं पूरा होगा वैसे ही आंदलोन जारी रहेगा.' इसके साथ ही उन्होंने कहा, 'पहले से ही तय है कि 26 तारिख को बार्डर पर हम सभी लोग राजधानी में रास्ते पर जाएंगे.'

    10:13 (IST)
     लखनऊ के बंगला बाजार इलाके में हो रही संयुक्त किसान मोर्चा के किसान महापंचायत में किसानों की भीड़ जुटने लगी है. किसान संगठनों ने घोषणा की है कि वे न्यूनतम समर्थन मूल्य (एमएसपी) की गारंटी देने संबंधी कानून के लिए दबाव बनाने के लिए अपने निर्धारित विरोध प्रदर्शनों पर अडिग हैं.

    9:31 (IST)
    किसानों के मुद्दों को लेकर लखनऊ के बंगला बाजार स्थित इको गार्डन (पुरानी जेल) में अब से थोड़ी देर में किसान महापंचायत शुरू होगी. इस महापंचायत में राकेश टिकैत, दर्शनपाल, बलबीर सिंह राजेवाल, जोगिंदर सिंह उगराहां समेत कई किसान नेता मौजूद रहेंगे. 

    Uttar Pradesh News Live, November 22, 2021: कृषि कानून (Farm Laws) की वापसी के ऐलान के बावजूद नरमी का कोई संकेत न दिखाते हुए किसान संगठन अब फसलों के न्यूनतम समर्थन मूल्य (MSP) की गारंटी देने संबंधी कानून के लिए दबाव बनाने के वास्ते आज लखनऊ में महापंचायत कर रहे हैं. किसान आंदोलन का नेतृत्व कर रहे संयुक्त किसान मोर्चा (एसकेएम) ने कहा कि वे अपने निर्धारित विरोध प्रदर्शन जारी रखेंगे, जिसमें कृषि कानून विरोधी प्रदर्शनों का एक साल पूरा होने के उपलक्ष्य में 29 नवंबर को संसद तक मार्च भी शामिल है.

    प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी द्वारा शुक्रवार को राष्ट्र के नाम अपने संबोधन में तीन कृषि कानूनों को निरस्त करने की घोषणा किए जाने के बाद अपनी पहली बैठक में आंदोलनकारी किसान संगठनों के निकाय ने यह निर्णय लिया. प्रदर्शन स्थलों में से एक सिंघू बॉर्डर पर संवाददाता सम्मेलन को संबोधित करते हुए किसान नेता बलबीर सिंह राजेवाल ने कहा, ‘हमने कृषि कानूनों को निरस्त किए जाने की घोषणा पर चर्चा की. इसके बाद, कुछ फैसले लिए गए. एसकेएम के पूर्व निर्धारित कार्यक्रम पहले की तरह ही जारी रहेंगे. 22 नवंबर को लखनऊ में किसान पंचायत, 26 नवंबर को सभी सीमाओं पर सभा और 29 नवंबर को संसद तक मार्च होगा.’

    संगठन ने कहा कि एसकेएम आगे की कार्रवाई पर विचार करने के लिए 27 नवंबर को फिर बैठक करेगा. इसने कहा कि वह अपनी मांगों को लेकर प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी को एक खुला पत्र भी लिखेगा.

    तीन कानूनों को वापस लेने की मांग को लेकर पंजाब, हरियाणा और उत्तर प्रदेश के आंदोलनकारी किसान पिछले साल नवंबर से दिल्ली की सीमाओं पर तीन जगहों पर बैठे हैं. उनका कहना है कि जब तक उनकी मांगें पूरी नहीं हो जातीं, तब तक वे वापस नहीं जाएंगे.

    किसान महापंचायत सहित यूपी की तमाम ताज़ा खबरों के लिए बने रहिये News18 Hindi के साथ…

    विज्ञापन

    राशिभविष्य

    मेष

    वृषभ

    मिथुन

    कर्क

    सिंह

    कन्या

    तुला

    वृश्चिक

    धनु

    मकर

    कुंभ

    मीन

    प्रश्न पूछ सकते हैं या अपनी कुंडली बनवा सकते हैं ।
    और भी पढ़ें
    विज्ञापन