Home /News /uttar-pradesh /

40 women of kashi got employment from cow dung pm narendra modi nodark

Varanasi News: गाय के गोबर से चमकी किस्मत! जानिए कैसे आत्मनिर्भर बन रहीं वाराणसी की महिलाएं

Varanasi News: वाराणसी में गाय के गोबर (Cow Dung) से ग्रामीण महिलाओं की किस्मत चमक रही है. शहर से लगभग 40 किलोमीटर दूर रामेश्वर गांव में स्थित गौशाला में स्वयंसेवी संस्था की मदद से 40 ग्रामीण महिलाओं को गोबर से लकड़ी बनाने की ट्रेनिंग दी जा रही है.

अधिक पढ़ें ...

रिपोर्ट-अभिषेक जायसवाल

वाराणसी. गाय का गोबर (Cow Dung) आमतौर पर कंडे (उपले) बनाने के काम आता है, लेकिन प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी (PM Narendra Modi) के संसदीय क्षेत्र वाराणसी में इसी गोबर से ग्रामीण महिलाओं की किस्मत चमक रही हैं और उन्हें आत्मनिर्भर बनाया जा रहा है. वाराणसी शहर से लगभग 40 किलोमीटर दूर रामेश्वर गांव में स्थित गौशाला में स्वयंसेवी संस्था की मदद से ग्रामीण महिलाओं को गोबर से लकड़ी बनाने की ट्रेनिंग दी जा रही है. इस काम के जरिए गांव की 40 से अधिक महिलाओं को रोजगार मिला है.

इस रोजगार से हर दिन महिलाएं घर के काम काज के बाद 4 से 5 घण्टे काम कर 200 से 300 रुपये प्रतिदिन कमा रही हैं. गोबर से लकड़ी बनाने वाली रिंकी देवी ने बताया कि पहले हर रोज वो घर के काम काज में ही व्यस्त रहती थीं, लेकिन सरकार के इस प्रयास से उन्हें काम भी मिला है और वो अच्छी कमाई भी कर पा रही हैं. इससे घर चलाने में भी उन्हें मदद मिल रही है. 15 दिनों में उन्होंने 4 हजार रुपये की कमाई की है.

शवों का होगा अंतिम संस्कार
यूपी की योगी सरकार ने गोबर को लेकर खास प्लान तैयार किया है, जिसके तहत इससे लकड़ी, दीए और धूप के साथ ही अन्य जरूरत के सामान तैयार किये जायेंगे. इसी के तहत पीएम के संसदीय क्षेत्र वाराणसी में इसकी शुरुआत हुई है. सेवापुरी ब्लॉक के पशु चिकित्सा अधिकारी धमेंद्र कुमार ने बताया कि आने वाले समय में काशी के महाश्मशान घाट पर इसी गोबर की लकड़ी से शवों का अंतिम संस्कार किया जाएगा, जिससे न सिर्फ पर्यावरण को नुकसान से बचाया जा सकेगा बल्कि इसके साथ ही बड़ी संख्या में महिलाओं को रोजगार का अवसर भी मिलेगा.

महिलाओं को मिल रहा रोजगार
स्वयंसेवी संस्था से जुड़ी अंशु जायसवाल ने बताया कि अभी हम लोग गांव की महिलाओं को इसकी ट्रेनिंग दे रहे हैं. इसमें हम लोग गोबर को 20 से 25 दिनों तक रखते हैं जिससे उसकी सभी प्रकार की गैस रिलीज हो जाती है. ऐसे में उसे जलाने से पर्यावरण को भी किसी तरह का नुकसान नहीं होता और महिलाओं को रोजगार भी मिल जाता है. बता दें कि प्रशासन के सहयोग सभी गौशालाओं से गोबर को रामेश्वर स्थित गौशाला में भिजवाया जा रहा है जिससे महिलाएं आत्मनिर्भर बन रही हैं.

Tags: UP Government, Varanasi news, Yogi adityanath

विज्ञापन

राशिभविष्य

मेष

वृषभ

मिथुन

कर्क

सिंह

कन्या

तुला

वृश्चिक

धनु

मकर

कुंभ

मीन

प्रश्न पूछ सकते हैं या अपनी कुंडली बनवा सकते हैं ।
और भी पढ़ें
विज्ञापन

टॉप स्टोरीज

अधिक पढ़ें

अगली ख़बर