होम /न्यूज /उत्तर प्रदेश /

Varanasi News: 50 हजार की फिरौती को लेकर मासूम की अपहरण के बाद हत्‍या, पुलिस पर आक्रोश

Varanasi News: 50 हजार की फिरौती को लेकर मासूम की अपहरण के बाद हत्‍या, पुलिस पर आक्रोश

50 हजार की फिरौती को लेकर मासूम की अपहरण के बाद हत्‍या

50 हजार की फिरौती को लेकर मासूम की अपहरण के बाद हत्‍या

पीड़ित परिजनों (Victim Family) का आरोप है कि पुलिस (Police) ने अगर तत्काल तेजी दिखाई होती तो मासूम को बरामद कर लिया गया होता.

वाराणसी. गोंडा और गोरखपुर में मासूमों के अपहरण की घटना के बाद पीएम मोदी के संसदीय क्षेत्र वाराणसी (Varanasi) से बुरी खबर आई है. जहां सारनाथ इलाके से अगवा 9 साल के मासूम की हत्या कर दी गई है. मासूम का शव सोमवार की सुबह एक स्कूल के पीछे मिला. मासूम की गला दबाकर हत्या की गई है. 29 जनवरी के दिन से मासूम घर से लापता था. परिजनों को पत्र भेजकर 50 हजार रुपये की फिरौती मांगी गई थी. फिरौती मांगते ही पुलिस को सूचना दी गई. पुलिस ने परिजनों की तहरीर पर अपरहरण का केस दर्ज किया था. पुलिस की लापरवाही के कारण लोगों में आक्रोश है.

घटना सारनाथ के वैष्णो नगर कॉलोनी की है. जानकारी के मुताबिक बारात में सजावट का काम करने वाले  वैष्णो नगर कॉलोनी निवासी मंजे कुमार का बेटा विशाल कुमार (9) पैगम्बरपुर प्राथमिक विद्यालय में कक्षा चार का छात्र था. 29 जनवरी की दोपहर करीब दो बजे विशाल हाथी देखने के लिए घर से निकला. इसके बाद वह घर नहीं आया. अगले दिन शनिवार को बच्चे के घर पर एक पत्र किसी ने फेंका. उस पर लिखा था कि 50 हजार रुपया चौबेपुर में लेकर आओ वरना विशाल को मार दिया जाएगा. इसके बाद पिता मंजे कुमार परिवार व रिश्तेदार के साथ चौबेपुर पहुंचे. लेकिन वहां पैसे लेने कोई नहीं आया.

Auraiya News: प्रेमी-युगल ने जुदाई से पहले चुना मौत का रास्ता, फांसी लगाकर दे दी जान

इसी बीच आज सुबह विशाल की लाश एक स्कूल के पीछे मिलने से हड़कंप मच गया. रोते-बिलखते परिवार के लोग मौके पर पहुंचे. लोगों में पुलिस के प्रति जबरदस्त आक्रोश दिखाई दिया. पीड़ित परिजनों का आरोप है कि पुलिस ने अगर तत्काल तेजी दिखाई होती तो मासूम को बरामद कर लिया गया होता. पुलिस ने शव को कब्जे में लेकर आगे की कार्रवाई कर रही है.

Tags: BJP, CM Yogi, Kidnapping Case, PMO, UP crime, Up crime news, UP police, Varanasi news, Yogi adityanath, Yogi government

विज्ञापन

विज्ञापन

टॉप स्टोरीज

अधिक पढ़ें

अगली ख़बर