मुख्तार अंसारी गैंग के खिलाफ एक्शन: चंदौली में 120 किलो प्रतिबंधित थाई मांगुर मछली के साथ 2 गिरफ्तार
Jaunpur News in Hindi

मुख्तार अंसारी गैंग के खिलाफ एक्शन: चंदौली में 120 किलो प्रतिबंधित थाई मांगुर मछली के साथ 2 गिरफ्तार
मुख्तार अंसारी गैंग के दो सदस्य प्रतिबंधित मछली के साथ चंदौली में गिरफ्तार

चंदौली (Chandauli) के पुलिस अधीक्षक हेमन्त कुटियाल ने बताया कि वाराणसी (Varanasi) से गिरफ्तार सलीम की कॉल डिटेल में यह स्पष्ट हुआ था कि मुगलसराय में इन दोनों आरोपियों की मदद से प्रतिबंधित मछली के व्यवसाय को संचालित किया जा रहा था.

  • Share this:
चंदौली. कोरोना महामारी (COVID-19) के दृष्टिगत चल रहे अभियान के बीच चंदौली पुलिस (Chandauli Police) ने अपराधियों पर शिकंजा कसती नजर आ रही है. ताजा मामला मुगलसराय में सामने आया है. यहां पुलिस ने प्रतिबंधित थाई मछली के साथ अवैध कारोबार करने वाले 2 लोगो को गिरफ्तार किया है. गिरफ्तार लोग बाहुबली विधायक मुख्तार अंसारी गैंग (Mukhtar Ansari Gang) से ताल्लुक रखते हैं. पुलिस का कहना है कि मुनाफ़े का एक बड़ा हिस्सा मुख्तार अंसारी को जाता है.

दरअसल मुगलसराय पुलिस ने वाराणसी कैंट पुलिस द्वारा प्रतिबंधित मछलियों के अवैध व्यापार में गिरफ्तार किए गए सलीम से पूछताछ के आधार पर मुगलसराय मंडी से 2 लोगों को गिरफ्तार किया है. प्रतिबंधित मछलियों के व्यवसाय से होने वाली कमाई का हिस्सा मुख्तार अंसारी के पास भी जाता है. उसी की शह पर पूर्वांचल के विभिन्न जनपदों में यह व्यवसाय व्यापक पैमाने पर संचालित हो रहा था.

कोलकाता से चंदौली और यहां से पूरे पूर्वांचल में सप्लाई



कैंट पुलिस ने बीते दिनों प्रतिबंधित मछलियों के अवैध व्यापार में कार्रवाई करते हुए छावनी इलाके के बंगला नंबर-51 से मुख्तार अंसारी गैंग के सलीम सहित अन्य तीन को गिरफ्तार किया था. पूछताछ के दौरान सलीम ने बताया कि प्रतिबंधित मछली थाई मांगुर को कोलकाता से मंगवाकर पूर्वांचल के विभिन्न जनपदों में अपने सूत्रों के माध्यम से सप्लाई करता था.
इसके बाद पुलिस ने नायब तहसीलदार व खाद्य सुरक्षा अधिकारी को सूचित करने के उपरांत चंदौली के मुगलसराय मंडी से प्रतिबंधित थाई मांगुर मछलियों का व्यापार करने वाले अकबर अली निवासी कसाब मुहाल मुगलसराय व निजामुद्दीन निवासी गिधौली चंधासी को गिरफ्तार किया. पुलिस ने उनके पास से 120 किलो प्रतिबंधित थाई मछली बरामद की.

मुनाफे का हिस्सा मुख्तार को भी

पूछताछ में अभियुक्तों ने बताया कि इन प्रतिबंधित मछलियों को वे 300 रूपये प्रति किग्रा बेचते है और आधी रकम गिरफ्तार हुए सलीम को देते थे. जिसके मुनाफे का हिस्सा वह मुख्तार अंसारी के पास पहुंचाता था.

सलीम की कॉल डिटेल में हुआ खुलासा

पुलिस अधीक्षक हेमन्त कुटियाल ने बताया कि वाराणसी से गिरफ्तार सलीम की कॉल डिटेल में यह स्पष्ट हुआ था कि मुगलसराय में इन दोनों आरोपियों की मदद से प्रतिबंधित मछली के व्यवसाय को संचालित किया जा रहा था. दोनों आरोपियों के खिलाफ सुसंगत धाराओं में मुकदमा पंजीकृत कर लिया गया है. मुख्तार अंसारी से इनके संबंध की जांच की जा रही है.
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज

corona virus btn
corona virus btn
Loading