वाराणसी: अभिनेत्री सारा अली खान ने किए बाबा विश्वनाथ के दर्शन, शिवलिंग स्पर्श को लेकर मचा बवाल
Varanasi News in Hindi

वाराणसी: अभिनेत्री सारा अली खान ने किए बाबा विश्वनाथ के दर्शन, शिवलिंग स्पर्श को लेकर मचा बवाल
काशी विश्वनाथ मंदिर में दर्शन के दौरान सारा अली खान अपनी मां अमृता सिंह के साथ

पीतांबरा पीठाधीश्वर साध्वी गीतांबा तीर्थ ने कहा कि ये मंदिर परंपरा का अपमान है. निषेध समय में कैसे शिवलिंग स्पर्श दर्शन और पूजा हुई? इसकी अगर खबर ही मंदिर प्रशासन को नहीं है तो ये बड़ी चूक है. इस पूरे मामले की उच्चस्तरीय जांच होनी चाहिए.

  • Share this:
वाराणसी. अभिनेता सैफ अली खान (Saif Ali Khan) की बेटी और अभिनेत्री सारा अली खान (Sara Ali Khan) विवादों में घिर गई हैं. ये विवाद सारा अली खान के वाराणसी में बाबा विश्वनाथ मंदिर (Baba Vishwanath Mandir) में दर्शन पूजन और शिवलिंग स्पर्श को लेकर छिड़ गया है. अभिनेत्री सारा अली खान इन दिनों अपनी मां फिल्म अभिनेत्री अमृता सिंह के साथ वाराणसी में अपनी फिल्म की शूटिंग कर रही हैं. शूटिंग के बाद खाली समय में सारा ने पहले गंगा पूजन किया. फिर विश्व प्रसिद्ध गंगा आरती में शामिल हुईं. यहां तक तो सब ठीक था लेकिन उसके बाद विवाद तब छिड़ गया, जब ये खबर आई कि सारा अली खान ने बाबा विश्वनाथ का दर्शन करते हुए षोडशोपचार पूजन किया. साथ ही शिवलिंग को स्पर्श किया.

यही नहीं, ये पूजन और स्पर्श उस वक्त का बताया जा रहा है, जब मंदिर का गर्भगृह बंद रहता है. यानी निषेध समय में पूजन. इसको लेकर काशी के साधु संतों और विद्धानों ने आपत्ति दर्ज कराई है. काशी विद्वत परिषद के डॉ रामनारायण दिवेदी का कहना है कि अगर पुजारियों ने स्पर्श दर्शन कराया है तो ये गलत हुआ है. मंदिर प्रशासन को फौरन इस मामले का संज्ञान लेते हुए कार्रवाई करना चाहिए.

सारा ने इंस्टाग्राम पर शेयर किया वीडियो
उधर इंस्टाग्राम पर सारा अली खान ने जो वीडियो शेयर किया है, उसमें उनके माथे पर त्रिपुंड लगा है और गले में माला है. इसके साथ ही सारा ने विश्वनाथ मंदिर गली से यहां की खूबियां और आनंद का वर्णन करते हुए वीडियो में काशी का महत्व बताया है.
विवाद पर मंदिर प्रशासन ने साधी चुप्पी


फिलहाल विवाद छिड़ने के बाद मंदिर प्रशासन इस पर कुछ भी बोलने से बचता दिख रहा है. श्रीकाशी विश्वनाथ मंदिर के मुख्य कार्यपालक अधिकारी विशाल सिंह को तीन बार न्यूज-18 ने संपर्क करने की कोशिश की लेकिन दो बार फोन उठा नहीं और तीसरी बार स्टाफ ने कहा कि अभी वो बात नहीं कर पाएंगे. ऐसे में अटकलें तेज हैं कि मंदिर प्रशासन इस मामले को लेकर बैकफुट पर है.

पीतांबरा पीठाधीश्वर ने की जांच की मांग
वहीं पीतांबरा पीठाधीश्वर साध्वी गीतांबा तीर्थ ने कहा कि ये मंदिर परंपरा का अपमान है. निषेध समय में कैसे शिवलिंग स्पर्श दर्शन और पूजा हुई? इसकी अगर खबर ही मंदिर प्रशासन को नहीं है तो ये बड़ी चूक है. इस पूरे मामले की उच्चस्तरीय जांच होनी चाहिए.

ये भी पढ़ें:

कोरोना पीड़ितों को मुफ्त इलाज देगी योगी सरकार, स्कूल-कॉलेज 2 अप्रैल तक बंद

आजम खान डरेंगे तो कौम डरेगी, यही चाहती है सरकार: राम गोविंद चौधरी
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज

corona virus btn
corona virus btn
Loading