Assembly Banner 2021

वाराणसी में भी लगा नाइट कर्फ्यू, स्कूल-कॉलेज के साथ ही कोचिंग संस्‍थान रहेंगे बंद

यूपी के चार शहराें में आज से नाइट कर्फ्यू शुरू हो रहा है.

यूपी के चार शहराें में आज से नाइट कर्फ्यू शुरू हो रहा है.

Night Curfew in Varanasi: मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने सभी जिलों के जिलाधिकारी को निर्देश दिए हैं कि अगर उनके यहां रोजाना 500 से अधिक मामले आ रहे हैं तो वे नाइट कर्फ्यू लगाने का फैसला ले सकते हैं.

  • Share this:
वाराणसी. कोरोना (COVID-19) के बढ़ते संक्रमण के मद्देनजर लखनऊ और कानपुर के बाद अब वाराणसी (Varanasi) में भी गुरुवार से नाइट कर्फ्यू (Night Curfew) लगाया जाएगा. कोविड 19 संक्रमण पर प्रभावी नियंत्रण के लिए महामारी अधिनियम के तहत 7 अप्रैल से एक सप्ताह के लिए कुछ प्रतिबंध लगाए जाएंगे. रात 9 बजे से पाबन्दी लागू होगी. हालांकि, सुबह कितने बजे तक यह लगू रहेगा इसका समय तय किया जा रहा है. बताया जा रहा है कि सुबह 6 बजे तक पाबंदियां अमल में रहेंगी. नाइट कर्फ्यू सिर्फ नगर निगम क्षेत्र में ही लागू रहेगी.

नाइट कर्फ्यू के अलावा चिकित्सा, नर्सिंग एवम् पैरा मेडिकल संस्थानों को छोड़ कर समस्त सरकारी, गैरसरकारी अथवा निजी विद्यालय, महाविद्यालय, शैक्षणिक संस्थान और कोचिंग संस्थान बंद किए जाएंगे. केवल परीक्षा और प्रैक्टिकल परीक्षा के समय विद्यालय या महाविद्यालय खोलने की छूट होगी. सभी पार्क, स्टेडियम आदि सुबह और शाम कुछ घंटे ही खुलेंगे.

Youtube Video




कार्यक्रमों और आयोजनों पर भी पाबंदी
इसके अलावा पारिवारिक सामाजिक आयोजनों और पारंपरिक धार्मिक आयोजनों को छोड़ कर 5 व्यक्तियों से अधिक लोगों को किसी भी राजनैतिक, सामाजिक और अन्य कार्यक्रमों की अनुमति नहीं दी जाएगी. घाटों पर आरतियां बहुत ही कम स्‍तर पर की जाएंगी और इनमें जनसामान्य को हिस्‍सा नहीं लेने दिया जाएगा.

इन्हें मिलेगी रियायतें
दूध, सब्जी मंडी, दवा की दुकानों के लिए रियायत रहेगी. यात्रियों, रात्रि शिफ्ट के कर्मचारियों और मालवाहक गाड़ियों के आवागमन हेतु भी रियायत रहेगी. विस्तृत आदेश 8 अप्रैल को दिन में जारी किए जाएंगे, उसी में सभी समयावधि और निर्देशों का उल्लेख किया जाएगा.

गौरतलब है कि लखनऊ और कानपुर के साथ ही वाराणसी में भी लगातार 500 से ज्यादा संक्रमित मरीज मिल रहे हैं. मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने उन सभी जिलों में सख्ती बढ़ाने के निर्देश दिए हैं, जहां रोजाना 500 से अधिक मरीज मिल रहे हैं.
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज