Home /News /uttar-pradesh /

amazing work of students of bhu necessities prepared from junk demand till delhi mumbai

Varanasi News:-BHU के स्टूडेंट्स का कमाल,कबाड़ से तैयार किया जरूरत का सामान,दिल्ली मुंबई तक है डिमांड

X

वाराणसी:-आम तौर पर घर पर इस्तेमाल नहीं होने वाले जिन सामानों को लोग कबाड़ समझ कर फेंक देंते हैं उसी कबाड़ से बीएचयू के होनहारों ने खास तरह के सामानों को तैयार किया है.विश्वविद्यालय के विजुअल आर्ट्स फैकल्टी के छात्रों ने पुराने ऑटो पार्ट्स,लकड़ी, प्लास्टिक के कचरे से घरेल?

अधिक पढ़ें ...

    रिपोर्ट-अभिषेक जायसवाल,वाराणसी
    वाराणसी:-आम तौर पर घर पर इस्तेमाल नहीं होने वाले जिन सामानों को लोग कबाड़ समझ कर फेंक देंते हैं उसी कबाड़ से बीएचयू के होनहारों ने खास तरह के सामानों को तैयार किया है.विश्वविद्यालय के विजुअल आर्ट्स फैकल्टी के छात्रों ने पुराने ऑटो पार्ट्स,लकड़ी, प्लास्टिक के कचरे से घरेलू सजावट के साथ ही रोजमर्रा के जिंदगी में उपयोग होने वाले सामानों को भी तैयार किया है.खास बात ये है कि जिस किसी ने भी बीएचयू (BHU) के होनहार छात्रों के कबाड़ से जुगाड़ का ये फॉर्मूला देखा वो हैरान रह गया.

    बीएचयू के शोध छात्र सौरभ सिंह ने बताया कि बीएचयू के इस सेंटर में छात्र खराब पड़े समानों से ऐसी-ऐसी चीजें तैयार करते हैं जिसकी डिमांड दिल्ली,मुंबई और हैदराबाद तक होती है.हम लोग अपने यहां कबाड़ को लाते हैं और उनमें से अपनी जरूरत के चीज निकाल कर टेबल लैम्प,वॉल लैम्प, वॉल हैंगिंग और दूसरे घरेलू सजावट के समानों को तैयार करते हैं.

    बड़े शहरों में है डिमांड
    कबाड़ से बने इन समानों की बड़े शहरों में खूब डिमांड है.बड़े शहरों के आर्टिटेक हमसे संपर्क करते है और इन सामानों को ख़रीदते है जिससे छात्रों को उनके मेहनत के पैसे भी मिल जाते हैं.अभी हाल में ही हम लोगों ने कबाड़ से 40 तरह का आर्ट वर्क तैयार किए है. जिनकी गैलरी 27 अप्रैल को इंटरनेशनल डिजाइन डे पर संस्थान में लगाई जाएगी और आम सभी लोग भी इस गैलरी में इन सामानों को देख सकेंगे.बताते चले कि बीएचयू के विजुअल आर्ट्स फैकल्टी में स्थित इस स्क्रैप शाला में मौजूदा समय में 40 बच्चे काम कर रहे हैं.

    विज्ञापन

    राशिभविष्य

    मेष

    वृषभ

    मिथुन

    कर्क

    सिंह

    कन्या

    तुला

    वृश्चिक

    धनु

    मकर

    कुंभ

    मीन

    प्रश्न पूछ सकते हैं या अपनी कुंडली बनवा सकते हैं ।
    और भी पढ़ें
    विज्ञापन

    टॉप स्टोरीज

    अधिक पढ़ें

    अगली ख़बर