माफिया विरोधी मंच ने विधानसभा अध्यक्ष को दिया मुख्तार अंसारी की सदस्यता रद्द करने का पत्र, दी ये दलील

मुख्तार अंसारी कई सालों से जेल में बंद हैं.
मुख्तार अंसारी कई सालों से जेल में बंद हैं.

वाराणसी में माफिया विरोधी मंच चलाने वाले सुधीर सिंह (Sudhir Singh) ने विधायक मुख्तार अंसारी (MLA Mukhtar Ansari) की सदस्यता रद्द करने के लिए विधानसभा अध्यक्ष को याचिका पत्र दिया है.

  • Share this:
वाराणसी. माफिया विधायक मुख्तार अंसारी (Mafia MLA Mukhtar Ansari) की मुश्किलें लगातार बढ़ती जा रही हैं. इस बीच, वाराणसी में माफिया विरोधी मंच चलाने वाले सुधीर सिंह (Sudhir Singh) ने विधानसभा अध्यक्ष को विधायक मुख्तार अंसारी की सदस्यता रद्द करने के लिए याचिका पत्र दिया है. उन्‍होंने अपने याचिका पत्र में कहा है कि विधानसभा के किसी भी सत्र या संविधानिक चर्चा में वह नहीं शामिल हो रहे हैं. जबकि भारतीय संविधान के अनुसार लगातार 60 दिन तक सत्र में अनुपस्थित रहने वाले विधायक की सदस्यता रद्द करने का प्रावधान और इसलिए वह अंसारी की सदस्यता रद्द करने की मांग करते हैं.

सामाजिक कार्यकर्ता सुधीर सिंह ने मऊ की सदर सीट को खाली कर चुनाव कराने की मांग रखी है. आपको बता दें कि 10 सालों से जेल में बंद मुख्तार अंसारी मऊ सीट से चुने जाने के बाद भी संवैधानिक दायित्वों का निर्वाहन नहीं कर पा रहे हैं. जबकि पिछले कुछ समय से उत्तर प्रदेश की योगी सरकार के निर्देश के बाद आजमगढ़ जिले की पुलिस माफिया विधायक मुख्तार अंसारी पर लगातार शिकंजा कस रही है. एक तरफ मुख्तार और उनके गुर्गो की संपत्ति जब्ती की कार्रवाई चल रही है तो दूसरी तरफ मुख्तार के पुराने अपराधों का हिसाब किताब भी जारी है. आजमगढ़ पुलिस ने वर्ष 2014 में ठेकेदारी में वर्चस्व की लड़ाई में अत्याधुनिक हथियारों से की गई मजदूर की हत्या के मामले में 4 दिन पहले मुख्तार अंसारी और उसके 8 गुर्गों के खिलाफ गैंगेस्टर एक्ट में कार्रवाई की.

गौरतलब है कि अभी तक मुख्तार अंसारी के परिवार, करीबी रिश्तेदार और गुर्गों के खिलाफ वाराणसी, मऊ, जौनपुर, गाजीपुर और वाराणसी में ताबड़तोड़ कार्रवाई जारी है. अवैध तरीके से कब्जाई जमीनों की कुर्की से लेकर शस्त्र लाइसेंस तक निरस्त किए गए हैं. इतना ही नहीं जिल प्रशासंन ने मुख़्तार अंसारी गैंग को आर्थिक चोट पहुंचाने के लिए उसके गुर्गों के अवैध कारोबार पर भी अंकुश लगाया है.



मुख्तार अंसारी की पत्नी ने राष्ट्रपति को पत्र लिखकर परिवार के लिए मांगी थी सुरक्षा
बता दें कि दो दिन पहले मुख्तार अंसारी की पत्नी अफशां अंसारी ने राष्ट्रपति रामनाथ कोविंद को पत्र लिखकर अपने परिवार के लिए सुरक्षा की गुहार लगाई थी. पत्र में उन्होंने यह आशंका जताई थी कि बीजेपी सरकार के इशारे पर उनके परिवार के साथ कभी भी कोई अनहोनी हो सकती है. सोमवार को गाजीपुर से बहुजन समाज पार्टी (BSP) के सांसद और मुख्तार अंसारी के बड़े भाई अफजाल अंसारी ने अफशां अंसारी की ओर से राष्ट्रपति को लिखा गया पत्र मीडिया को जारी किया था.
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज