Home /News /uttar-pradesh /

यूपी चुनाव: केंद्रीय मंत्री अनुप्रिया पटेल की बहन पल्लवी बोलीं- भाजपा को हराने के लिए सभी दलों से गठबंधन पर करुंगी विचार

यूपी चुनाव: केंद्रीय मंत्री अनुप्रिया पटेल की बहन पल्लवी बोलीं- भाजपा को हराने के लिए सभी दलों से गठबंधन पर करुंगी विचार

UP: भाजपा से मुकाबले के लिए पिछड़ों को एकजुट होकर लड़ना होगा.

UP: भाजपा से मुकाबले के लिए पिछड़ों को एकजुट होकर लड़ना होगा.

Varanasi News: बता दें कि अपना दल का गठन सोनेलाल पटेल ने किया था, जिसकी कमान उनके निधन के बाद अनुप्रिया पटेल ने संभाली. 2012 में अनुप्रिया पटेल पहली बार विधायक चुनी गई और 2014 में बीजेपी से गठबंधन कर सांसद बनी.

वाराणासी. आगामी विधानसभा 2022 (UP Assembly Election 2022) चुनाव से पहले अपना दल (पल्लवी गुट) की राष्ट्रीय नेता और केंद्रीय मंत्री अनुप्रिया पटेल की बहन पल्लवी पटेल (Pallavi Patel) ने कहा कि भागीदारी संकल्प मोर्चा की जल्द बैठक होगी. जिसमे मोर्चे से जुड़े सभी दलों के नेताओं के बीच इस विषय पर मंथन होगा कि अब किस दिशा में आगे बढ़ना है. रविवार को वाराणसी पहुंची पल्लवी पटेल ने मीडिया से बातचीत में कहा कि भाजपा से मुकाबले के लिए पिछड़ों को एकजुट होकर लड़ना होगा. सुहेलदेव भारतीय समाज पार्टी के मुखिया ओमप्रकाश राजभर और सपा के राष्ट्रीय अध्यक्ष अखिलेश यादव के बीच हुए समझौते के बाद उनकी अभी ओपी राजभर से कोई बात नहीं हुई है.

उन्होंने कहा है कि मोर्चा पिछड़ों के हक की लड़ाई लड़ने के लिए बना है. किसी पार्टी के साथ गठबंधन पर पल्लवी पटेल ने कहा कि भाजपा को हराने के लिए हर किसी को उनकी जरूरत होगी तो बेशक विचार करेंगी. वहीं दो दिन पहले भाजपा के राष्ट्रीय उपाध्यक्ष बेबी रानी मौर्या के पुलिस थानों पर दिए गए विवादित बयान पर उन्होंने भाजपा पर हमला बोला. उन्होंने कहा कि इतनी वरिष्ठ नेता यूं ही बयान नहीं दे सकतीं. उनके बयान पर विपक्ष की बात को बल मिलता है.

Ghazipur News: दिनदहाड़े फर्नीचर व्यापारी को बदमाशों ने मारी गोली, मौत

किस मोर्चे पर सरकार विफल हैं, ये बीजेपी के नेता ही बोल रहे हैं. पल्लवी पटेल ने कहा कि भाजपा की करनी और कथनी में बहुत फर्क है. बता दें कि अपना दल नेता पल्लवी पटेल दो दिनों से वाराणसी में सक्रिय है. एक दिन पहले वाराणसी से प्रयागराज, फतेहपुर, बांदा के रास्ते मिर्जापुर तक यात्रा निकालने को लेकर जब पुलिस ने उन्हें अनुमति न होने का हवाला देते हुए रोका तो वे धरने पर बैठ गईं थीं.

अपना दल दो धड़ों में बंटी हुई है
बता दें कि अपना दल का गठन सोनेलाल पटेल ने किया था, जिसकी कमान उनके निधन के बाद अनुप्रिया पटेल ने संभाली. 2012 में अनुप्रिया पटेल पहली बार विधायक चुनी गई और 2014 में बीजेपी से गठबंधन कर सांसद बनी. इसके बाद मोदी सरकार में मंत्री बनने के बाद अनुप्रिया पटेल और उनकी मां कृष्णा पटेल के बीच सियासी वर्चस्व की जंग छिड़ गई.

Tags: Akhilesh yadav, Anupriya Patel, Apna Dal, BJP Allies, CM Yogi, Om Prakash Rajbhar, UP Election 2022, Varanasi news

विज्ञापन
विज्ञापन

राशिभविष्य

मेष

वृषभ

मिथुन

कर्क

सिंह

कन्या

तुला

वृश्चिक

धनु

मकर

कुंभ

मीन

प्रश्न पूछ सकते हैं या अपनी कुंडली बनवा सकते हैं ।
और भी पढ़ें
विज्ञापन

टॉप स्टोरीज

अधिक पढ़ें

अगली ख़बर