होम /न्यूज /उत्तर प्रदेश /UP Chunav: BJP कैंडिडेट नीलकंठ ने मांगी हाथ जोड़कर माफी, कहा- ...तो गलती होती है; देखें VIDEO

UP Chunav: BJP कैंडिडेट नीलकंठ ने मांगी हाथ जोड़कर माफी, कहा- ...तो गलती होती है; देखें VIDEO

BJP कैंडिडेट नीलकंठ ने मांगी हाथ जोड़कर माफी है, जिसका वीडियो वायरल हो रहा है. (फाइल फोटो)

BJP कैंडिडेट नीलकंठ ने मांगी हाथ जोड़कर माफी है, जिसका वीडियो वायरल हो रहा है. (फाइल फोटो)

BJP Candidate Neelkanth Tiwari Video: उत्तर प्रदेश (Uttar Pradesh) में पांच चरण के चुनाव (UP Chunav) हो चुके हैं और आखि ...अधिक पढ़ें

वाराणसी: उत्तर प्रदेश (Uttar Pradesh) में पांच चरण के चुनाव (UP Chunav) हो चुके हैं और आखिरी दो चरण के चुनाव के लिए सियासी खींचतान तेज है. चुनाव में जीत हासिल करने के लिए नेता हर तिकड़म अपनाने को तैयार हैं. चुनाव के दौरान कोई जनता के सामने कान उठक-बैठक करता दिख रहा है तो सरेआम माफी मांग रहा है. यूपी चुनाव में जारी सियासी घमासान के बीच इस बार भाजपा विधायक और यूपी सरकार में मंत्री नीलकंठ तिवारी (Neelkanth Tiwari) का वीडियो सोशल मीडिया पर वायरल हो रहा है, जिसमें वह जनता से माफी मांगते दिख रहे हैं.

दरअसल, यूपी की वाराणसी दक्षिण विधानसभा सीट से भारतीय जनता पार्टी के उम्मीदवार और यूपी सरकार में मंत्री नीलकंठ तिवारी (Neelkanth Tiwari Video)का एक वीडियो वायरल हो रहा है, जिसमें वह हाथ जोड़ कर माफी मांगते नजर आ रहे हैं. वीडियो की मानें तो पांच साल तक क्षेत्र के लोगों के बीच न आने की वजह से वह माफी मांगते दिख रहे हैं. फेसबुक लाइव के जरिए उन्होंने जनता से माफी मांगी है. इस वीडियो को आप डा नीलकंठ तिवारी नाम के फेसबुक पेज पर देख सकते हैं.

आपके शहर से (वाराणसी)

वाराणसी
वाराणसी

सोशल मीडिया पर वायरल इस वीडियो में नीलकंठ तिवारी कहते हैं, ‘सामाजिक जीवन है, राजनीतिक जीवन है, जिम्मेदारियां बहुत हैं. प्रदेश भर में भ्रमण रहा. मैं इससे इनकार नहीं करता कि मैं मनुष्य हूं तो गलती होती है. यदि कोई गलती हुई हो जाने-अनजाने में, उसके लिए व्यक्तिगत रूप से मुझसे आप कुछ भी कह सकते हैं, बात कर सकते हैं औप मैं उसके लिए आपसे क्षमा भी मांगता हूं. क्षमाप्रार्थी भी हूं.’ बहरहाल, न्यूज18 इस वीडियो की पुष्टि नहीं करता है.

बता दें कि वाराणसी की शहर दक्षिणी सीट से भाजपा ने इस बार भी मंत्री नीलकंठ तिवारी को मैदान में उतारा है. जबकि सपा ने महामृत्युंजय मंदिर के महंत के बेटे और पुजारी किशन दीक्षित (Kishan Dixit) को अखाड़े में उतारा है. माना जा रहा है कि इस बार उन्हें कड़ी टक्कर मिल रही है. सपा उम्मीदवार किशन दीक्षित का यह पहला चुनाव है.

वाराणसी दक्षिणी सीट पर क्या है समीकरण

इस सीट पर लंबे वक्त से भाजपा का कब्जा रहा है. यहां से सात बार भाजपा के श्यामदेव राय चौधरी विधायक रहे हैं. पिछली बार उनका टिकट काटकर भाजपा ने नीलंकठ तिवारी को मैदान में उतारा था. नीलकंठ तिवारी ने सपा और कांग्रेस के संयुक्त प्रत्याशी और पूर्व सांसद राजेश मिश्रा को करीब 17000 हजार वोटों से हराया था. हार जीत का अंतर बहुत ज्यादा न होने से इस बार भी विपक्ष उत्साहित है. कांग्रेस ने मुदिता कपूर को टिकट दिया है. मुदिता भी पहली बार मैदान में हैं. हालांकि इस सीट पर किसकी जीत होगी, किसकी हार, ये तो 10 मार्च को ही पता चल पाएगा. जबकि शहर दक्षिणी सीट का रोमांच इस वक्त गंगा की लहरों की तरह उफान मार रहा है.

इस सीट पर क्या जातीय समीकरण

काशी की शहर दक्षिणी सीट पर का जातिगत समीकरण भी अहम है. यहां ब्राह्मण मतदाता 60 हजार, एक लाख मुसलमान , 20 हजार यादव, 90 हजार बनिया, 10 हजार पंजाबी, 10 हजार दलित, 25 हजार मल्‍लाह और 5 हजार गुजराती हैं.

Tags: Assembly elections, Uttar Pradesh Elections, Uttar pradesh news, Varanasi news

विज्ञापन

टॉप स्टोरीज

अधिक पढ़ें