लाइव टीवी

BHU मुस्लिम प्रोफेसर का विरोध: 14वें दिन छात्रों के बीच पहुंचे चीफ प्रॉक्टर, बोले, डॉ फिरोज खान की नियुक्ति जायज

News18 Uttar Pradesh
Updated: November 21, 2019, 12:44 PM IST
BHU मुस्लिम प्रोफेसर का विरोध: 14वें दिन छात्रों के बीच पहुंचे चीफ प्रॉक्टर, बोले, डॉ फिरोज खान की नियुक्ति जायज
बीएचयू के चीफ प्रॉक्टर ओपी राय आज आंदोलित छात्रों से मिले

डॉ फिरोज की नियुक्ति यूजीसी नियमों के मुताबिक हुई है. लिहाजा बीएचयू प्रशासन डॉ फिरोज की नियुक्ति को सही मानता है.

  • Share this:
वाराणसी. बनारास हिंदू यूनिवर्सिटी (BHU) के संस्कृत धर्म संकाय में मुस्लिम प्रोफ़ेसर (Muslim Professor) डॉ फिरोज खान (Dr Feroz Khan) की नियुक्ति का विरोध गुरुवार को 14वें दिन भी जारी है. इस बीच बीएचयू के चीफ प्रॉक्टर ओपी राय (BHU Chief Proctor OP Rai) आज आंदोलित छात्रों के बीच पहुंचे और उन्हें समझाने की कोशिश की. इस दौरान मीडिया से बातचीत में उन्होंने कहा कि डॉ फिरोज की नियुक्ति यूजीसी गाइडलाइन्स (UGC Guidelines) के मुताबिक हुई है और जायज है.

चीफ प्रॉक्टर ओपी राय ने कहा कि आजादी से पहले इस यूनिवर्सिटी की स्थापना मालवीय जी के सिद्धांतों पर हुई थी. आजादी के बाद इस केंद्रीय यूनिवर्सिटी पर देश के संविधान का नियम लागू होता है. डॉ फिरोज की नियुक्ति यूजीसी नियमों के मुताबिक हुई है. लिहाजा बीएचयू प्रशासन डॉ फिरोज की नियुक्ति को सही मानता है. उन्होंने कहा कि छात्रों से बातचीत हो रही है. यह छात्रों और बीएचयू प्रशासन के बीच का मामला है. आज मामले को सुलझा लिया जायेगा.

धार्मिक व सियासी लोग भी देने लगे दखल

उधर, मामले में अब राजनीतिक लोग और धर्म गुरु भी दखल देने लगे हैं. कांग्रेस नेता अजय राय आज डॉ फ़िरोज खान के समर्थन में कुलपति से मिलने बीएचयू पहुंचे. कांग्रेस के नेता अजय राय ने फ़िरोज खान की नियुक्ति का समर्थन किया. दूसरी तरफ धर्म गुरुओं ने फ़िरोज खान की नियुक्ति विरोध किया. गंगा महासभा के महामंत्री जितेन्द्रानंद और शंकराचार्य के शिष्य ने धरने पर बैठे छात्रों का समर्थन किया. उन्होंने कहा कि छात्रों के आंदोलन को समर्थन देने शुक्रवार को संत पहुंचेंगे.

BHU Students protest over appointment of muslim professor in sanskrit department
बीएचयू में छात्रों का प्रदर्शन 14वें दिन भी जारी है.


छात्रों में भी दो फाड़

बीएचयू के संस्कृत विद्या धर्म विज्ञान संकाय के साहित्य विभाग में असिस्टेंट प्रोफेसर पद पर डॉ. फिरोज खान की नियुक्ति का विरोध थमने का नाम नहीं ले रहा है. आंदोलित छात्रों ने जहां अब न्यायालय जाने का ऐलान किया है तो वहीं बीएचयू के कुछ छात्रों ने फिरोज खान का समर्थन कर दिया है. डॉ फिरोज का समर्थन कर रहे छात्रों का कहना है कि प्रोफेसर की नियुक्ति  को धर्म या जाति के नाम पर नहीं देखना चाहिए.
Loading...


दरअसल, 7 नवंबर से छात्र संस्कृत विद्या धर्म विज्ञान संकाय के साहित्य विभाग में सहायक प्रोफेसर पद पर डॉ. फिरोज खान की नियुक्ति के खिलाफ धरने पर बैठे हैं. छात्र बुधवार को भी धरने पर रहे. लिहाजा, संकाय का ताला नहीं खुल सका और शिक्षक बाहर मैदान में बैठे रहे. आंदोलित छात्रों ने अब कोर्ट जाने का ऐलान किया है. उन्होंने कहा है कि उनकी लड़ाई फिरोज खान से नहीं, बल्कि बीएचयू प्रशासन से है. वहीं, बीएचयू के कुछ छात्रों ने सिंहद्वार पर फिरोज खान का समर्थन कर दिया.

(इनपुट: उपेंद्र द्विवेदी/रवि पांडेय)

ये भी पढ़ें:

BHU विवाद पर गोरखपुर यूनिवर्सिटी में 32 साल संस्कृत पढ़ाने वाले असहाब अली बोले- टीचर को क्लास के अन्दर करें जज

वाराणसी: ABVP और समाजवादी छात्रसभा के कार्यकर्ताओं में जमकर पथराव, एसओ घायल

News18 Hindi पर सबसे पहले Hindi News पढ़ने के लिए हमें यूट्यूब, फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करें. देखिए वाराणसी से जुड़ी लेटेस्ट खबरें.

First published: November 21, 2019, 12:44 PM IST
Loading...
पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर
Loading...