होम /न्यूज /उत्तर प्रदेश /अश्लील हरकत में घिरे BHU प्रोफेसर की बर्खास्तगी की मांग, धरने पर बैठीं छात्राएं

अश्लील हरकत में घिरे BHU प्रोफेसर की बर्खास्तगी की मांग, धरने पर बैठीं छात्राएं

अश्लील हरकत में घिरे BHU प्रोफेसर की बर्खास्तगी की मांग को लेकर छात्राएं धरने पर बैठ गई हैं.

अश्लील हरकत में घिरे BHU प्रोफेसर की बर्खास्तगी की मांग को लेकर छात्राएं धरने पर बैठ गई हैं.

अक्‍टूबर 2018 में जूलॉजी विभाग (Zoology Department) की छात्राओं को शैक्षणिक टूर पर पुणे ले जाया गया था. टूर से आने के ब ...अधिक पढ़ें

    वाराणसी. बीएचयू (BHU) में अश्लील हरकत के मामले में घिरे जंतु विज्ञान विभाग (Zoology Department) के प्रोफेसर शैल कुमार चौबे को बर्खास्त करने की मांग को लेकर साइंस डिपार्टमेंट के छात्र-छात्राओं ने शनिवार देर शाम बीएचयू (BHU) के गेट पर धरना शुरू कर दिया. दरअसल, प्रो. चौबे को फिर बहाल करने का विरोध करते हुए छात्र-छात्राएं तत्काल कार्रवाई की मांग कर रहे थे. नारेबाजी करते हुए छात्राओं ने विश्वविद्यालय प्रशासन पर प्रोफेसर को बचाने का आरोप लगाया है. चीफ प्रॉक्टर प्रो. ओपी राय ने छात्राओं को शांत करने का प्रयास किया, लेकिन छात्र देर रात तक कुलपति को बुलाने पर अड़े थे.

    धरने पर बैठी छात्राओं ने बताया कि पुणे टूर के दौरान प्रोफेसर चौबे ने छात्राओं की शारीरिक बनावट को लेकर अश्लील कमेंट करने के साथ अभद्रता भी की थी. इस मामले में दोषी पाए जाने के बाद भी विश्वविद्यालय प्रशासन उन्हें बचाने का प्रयास कर रहा है, यह समझ से परे हैं. ऐसा तब हो रहा है जब धरना-प्रदर्शन करने के साथ ही लिखित शिकायत भी की गई थी.

    पीड़ित छात्राएं
    प्रोफेसर शैल कुमार चौबे के खिलाफ आंदोलनरत छात्राएं.


    ये रहा पूरा मामला

    बता दें कि अक्तूबर 2018 में जूलॉजी विभाग की छात्राओं को शैक्षणिक टूर पर पुणे ले जाया गया था. टूर से आने के बाद छात्राओं ने प्रोफेसर चौबे पर अश्लील कमेंट का आरोप लगाते हुए शिकायत विश्वविद्यालय प्रशासन से की थी. इसके बाद उन्हें निलंबित कर दिया गया था और जांच चलने तक बाहर जाने पर रोक लगाई गई थी. जांच समिति गठित कर 25 अक्तूबर 2018 से 30 नवंबर 2018 तक मामले की जांच कराई गई.

    जांच में दोषी पाए गए थे प्रो. चौबे

    कमेटी ने छात्राओं के साथ ही विभागीय शिक्षकों के बयान दर्ज कर रिपोर्ट कुलपति को सौंपी थी. रिपोर्ट में जांच समिति ने छात्राओं के आरोप को सही बताया था. जून 2019 को हुई कार्यपरिषद की बैठक में कमेटी की रिपोर्ट के आधार पर प्रोफेसर को चेतावनी दी गई कि भविष्य में वह इस तरह के किसी भी टूर में नहीं जाएंगे. साथ ही भविष्य में उन्हें किसी तरह का कोई पद नहीं दिया जाएगा.

    (रिपोर्ट: रवि पांडेय)

    ये भी पढ़ें:

    चिन्मयानंद से SIT ने यौन शोषण, अश्लील VIDEO पर किए 150 सवाल, पढ़ें- स्वामी के जवाब

    ‘आजम खान’ के लिए कांग्रेस ने अपने इस नेता को पार्टी से 6 साल के लिए निकाला!

    सीएम योगी के चित्रकूट दौरे के बाद कई अफसरों पर एक्शन, CMO हटाए गए

     

     

    आपके शहर से (वाराणसी)

    वाराणसी
    वाराणसी

    Tags: For dgp up, Pm narendra modi, Up crime news, UP police, Uttar pradesh news, Varanasi news, Yogi adityanath

    विज्ञापन

    टॉप स्टोरीज

    अधिक पढ़ें