पाकिस्तान में जन्मी काशी की बेटियों ने डाला वोट, कहा- बेहतरीन है हिंदुस्तान

दरअसल, हिंदुस्तानी पिता और पाकिस्तानी मां की संतान माहेरुख और निदा का जन्म पाकिस्तान के कराची में हुआ, लेकिन कुछ दिन पहले ही प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी की वजह से उन्हें भारत की नागरिकता मिली.

News18 Uttar Pradesh
Updated: May 20, 2019, 11:26 AM IST
पाकिस्तान में जन्मी काशी की बेटियों ने डाला वोट, कहा- बेहतरीन है हिंदुस्तान
मतदान के बाद माहेरुख और निदा
News18 Uttar Pradesh
Updated: May 20, 2019, 11:26 AM IST
लोकसभा चुनाव के आखिरी चरण के मतदान में काशी की दो बेटियों को दुनिया की सबसे बड़ी ख़ुशी मिली. पाकिस्तान में जन्मी माहेरुख और निदा ने दुनिया के सबसे बड़े लोकतंत्र में अपना पहला वोट डाला तो ख़ुशी से फूली नहीं समाईं. दोनों ने कहा कि आज उन्हें सबसे बड़ी खुशी मिली है. हिंदुस्तान बेहतरीन है और हमें उस पर गर्व है.

दरअसल, हिंदुस्तानी पिता और पाकिस्तानी मां की संतान माहेरुख और निदा का जन्म पाकिस्तान के कराची में हुआ, लेकिन कुछ दिन पहले ही प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी की वजह से उन्हें भारत की नागरिकता मिली. जिसके बाद दोनों ने रविवार को आर्य महिला इंटर कॉलेज में अपने परिवार के साथ मतदान किया. मतदान के बाद दोनों बहनें बहुत खुश थीं. उन्होंने कहा, " यह सबसे बड़ी ख़ुशी है. हमें वोट देने का अधिकार मिला और अपनी सरकार चुनने के लिए हमने मतदान किया. हिंदुस्तान बेहतरीन है और हम अब गर्व से कह सकते हैं कि हम हिंदुस्तान की बेटियां हैं.



बता दें पान दरीबा निवासी नसीम की शादी 1989 में कराची की शाहीन से हुई थी. इस बीच नसीम और शाहिदा का भारत पाकिस्तान आना-जाना होता रहा. नसीम और शाहीन की दोनों बेटियों ने 1992 और 1995 में कराची में जन्म लिया. 2007 में शाहीन को तो भारत की नागरिकता मिल गई, लेकिन दोनों बेटियों का जन्म कराची में होने की वजह से नागरिकता नहीं मिल सकी. इसके बाद नसीम ने प्रधानमंत्री कार्यालय के जनसंपर्क ऑफिस से सम्पर्क किया. दो साल की कागजी कार्रवाई के बाद दोनों बेटियों को नागरिकता मिल गई.

इसी साल 23 मार्च को दोनों बहनों को भारत की नागरिकता मिल गई. आज ये दोनों बहनें प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी का धन्यवाद कर रही हैं. बड़ी बहन निदा नसीम बीएड की पढ़ाई कर रही हैं और शिक्षिका बनना चाहती हैं. इसके साथ ही माहरूख नसीम बीएचयू में एमकाम फाइनल ईयर की छात्रा हैं.

ये भी पढ़ें:

पीली साड़ी वाली महिला: पति की हो चुकी है मौत, बेटे के लिए फिल्मों का ऑफर ठुकराया

खुलासा: देवरिया जेल की बैरक नंबर-7 में सजता था अतीक अहमद का दरबार
Loading...

एक क्लिक और खबरें खुद चलकर आएंगी आपके पास, सब्सक्राइब करें न्यूज़18 हिंदी  WhatsApp अपडेट्स
Loading...
पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर
Loading...