चंदौली में जय श्री राम न बोले पर जिंदा जलाने का मामला, इलाज के दौरान तोड़ा दम

दरअसल चंदौली जिले के सैयदराजा का रहने वाला खालिद (16 साल) आज भोर में घर से बाहर निकला था. कुछ ही देर बाद वह जली हुई हालत में वापस घर लौटा. युवक द्वारा बताया गया कि उसे कुछ लोगो ने केरोसिन तेल डालकर जलाने की कोशिश की है.

News18 Uttar Pradesh
Updated: July 30, 2019, 11:33 AM IST
चंदौली में जय श्री राम न बोले पर जिंदा जलाने का मामला, इलाज के दौरान तोड़ा दम
चंदौली में जय श्री राम न बोले पर जिंदा जलाने का मामला
News18 Uttar Pradesh
Updated: July 30, 2019, 11:33 AM IST
उत्तर प्रदेश के चंदौली में कथित रूप से जय श्री राम न बोलने पर एक नाबालिग युवक को जिंदा जला दिया गया था. गंभीर हालत में युवक को इलाज के BHU के ट्रामा सेंटर में भर्ती कराया गया था. जहां मंगलवार को इलाज के दौरान उसकी मौत हो गई. हालांकि पुलिस का कहना है कि पीड़ित नाबालिग युवक बार-बार बयान बदल रहा है. घटना के बाद खालिद के पिता ने न्यूज18 से बातचीत में कहा था कि जयश्री राम न बोलने पर चार युवकों ने मेरे बेटे को आग के हवाले किया था. लिहाजा पूरे पुलिस महकमे में हड़कंप मच गया है.

इस मामले में चंदौली के एसपी संतोष सिंह ने बताया कि 2016 में सुनील और खालिद के परिवार के बीच  विवाद हुआ था. वहीं सुनील समेत चार युवकों ने मिलकर खालिद को जलाया था. एसपी के मुताबिक सुनील को हिरासत में पूछताछ की जा रही है.

केरोसिन तेज डालकर जलाने की कोशिश की
दरअसल चंदौली जिले के सैयदराजा का रहने वाला खालिद (16 साल) आज भोर में घर से बाहर निकला था. कुछ ही देर बाद वह जली हुई हालत में वापस घर लौटा. युवक द्वारा बताया गया कि उसे कुछ लोगो ने केरोसिन तेल डालकर जलाने की कोशिश की है. तत्काल पुलिस को सूचना दी गई. मौके पर पहुची पुलिस ने युवक को जिला अस्पताल में इलाज के लिए भर्ती कराया. इसके बाद युवक को वाराणसी के लिए रेफर कर दिया गया.

परिजनों की माने तो रोज की भांति आज सुबह शौच के लिए युवक गया था. लेकिन आधे घंटे से ज्यादा बीतने के बाद तक घर नहीं पहुंचा, तो परिजन उसे देखने के लिए निकले. तभी अचानक पीड़ित युवक खालिद अंसारी भागते हुए घर पहुंचा. जिससे परिजनों में कोहराम मच गया. परिजनों ने आननफानन में पुलिस को सूचना दी.

अलग-अलग घटना स्थल का जिक्र कर रहा युवक
मौके पर पहुंची पुलिस ने उसे जिला अस्पताल में भर्ती कराया. जहां प्राथमिक उपचार के बाद उसे वाराणसी रेफर कर दिया है. घायल युवक लगातार अपना बयान बदल रहा है. साथ ही अलग-अलग घटनास्थल का जिक्र भी कर रहा है. युवक नेशनल इंटर कालेज में कक्षा 9 का छात्र है. परिजन मामले में जांच की मांग कर रहे है.
Loading...

स्थानीय ने बताई अलग कहानी
वहीं घटना की गंभीरता को देखते हुए पुलिस छानबीन में जुटी हुई है. जले युवक के बदलते बयानों के आधार पर चार घंटे तक क्राइम सीन खोजने जुटी पुलिस को स्थानीय अखबार विक्रेता ने पहली लीड दी. अखबार विक्रेता के अनुसार, उसने युवक को सुबह उसके घर के सामने मजार से आग लगाकर भागते हुए जाते देखा था.

पुलिस को मौके से नहीं मिले एविडेन्स
पुलिस जब मौके पर पहुंची तो मजार के बाहर युवक के कपड़े और व्यवस्थित रूप में उतारी गई चप्पल भी मिली है. मौके पर किसी तरह के विरोध के एविडेन्स भी नहीं मिले हैं. शुरुआती छानबीन के अनुसार युवक ने जिस घटना स्थल के बारे में बताया है, उसके एकदम उल्टी दिशा में चार किलोमीटर दूर एक मजार के पास से उसके कपड़े मिले हैं.

गहनता से जांच में जुटी पुलिस
अब पुलिस इस मामले की तह तक पहुचने के लिए विधि विज्ञान प्रयोगशाला की टीम को बुलाकर फॉरेंसिक सबूतों को बटोर रही है. पुलिस के अनुसार प्रथम दृष्टया यह मामला अंधविश्वास या सामाजिक सौहार्द बिगाड़ने की साजिश नजर आ रही है. दोनों बिंदु पर पुलिस गहनता से जांच कर रही है.

मामला संदिग्ध, मॉब लिंचिंग की घटना नहीं
पुलिस के अनुसार अभी तक कि जांच में पूरा मामला संदिग्ध लग रहा है और मॉब लिंचिंग जैसी किसी भी घटना से पुलिस ने सिरे से खारिज कर दिया है. अब पुलिस इलेक्ट्रॉनिक और फॉरेंसिक स्केचों को जोड़कर इस पहेली को सुलझाने में लगी है कि इस वारदात के पीछे का असली कारण क्या है?

(रिपोर्ट: उपेंद्र द्विवेदी)

ये भी पढ़ें:

एक्शन में योगी सरकार, हटाए जा सकते हैं यूपी के प्रमुख सचिव गृह अरविंद कुमार

सऊदी अरब में बंधक भारतीयों ने जारी किया वीडियो, मोदी-योगी से लगाई गुहार

उन्नाव रेप पीड़िता एक्सीडेंट: चाची-मौसी के अंतिम संस्कार को पैरोल का इंतजार...
First published: July 30, 2019, 11:31 AM IST
Loading...
पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर
Loading...