चंदौलीः भारी बारिश में बर्बाद हुआ हजारों कुंतल अनाज, विभागीय लापरवाही का आरोप

खाद्य विभाग ने क्रय केन्द्रों को संचालित करने वाली एजेंसियों को किसानों से खरीद गए गेहूं के उचित रख रखाव का निर्देश दिया था, बावजूद इसके क्रय केंद्रों पर लापरवाही बरती गई और जिले के कई क्रय केन्द्रों पर खुले आसमान में रखा गेंहू बारिश की भेंट चढ़ गया

  • Share this:
चंदौली में विभागीय लापरवाही के चलते हजारों कुंतल गेहूं बारिश की पानी में बर्बाद होने का मामला सामने आया है. लगातार हो रही बारिश के चलते खुले आसमान में रखा हजारों कुंतल गेहूं भीगकर सड़ चुका है. इस बाबत जब विभागीय अधिकारियों से सवाल पूछा गया तो उन्होंने गेहूं की खरीद करने वाली एजेंसी के खिलाफ जांच और कार्यवाही करने की बात कही है.



यह भी पढ़ें-VIDEO: मंडी प्रशासन की लापरवाही से 'पानी' हुआ किसानों का 'सोना'



रिपोर्ट के मुताबिक जिले के बरहनी में खुले पीसीएफ क्रय केंद्र में किसानों से खरीदा गया हजारों कुंतल गेहूं खुले आसमान में रख दिया गया था, लेकिन बरसात के मौसम को देखते हुए गेहूं के भंडारण का इंतजाम नहीं किया, जिससे हजारों कुंतल गेहूं पूरी तरह से बर्बाद हो गया. ऐसा ही कुछ हाल नियमताबाद के बरहुली गांव के साधन सहकारी समिति में रखे अनाज का है, जहां बारिश में भीगने के कारण सैकड़ों बोरी अनाज सड़ रही है.





उल्लेखनीय है कमोबेश जिले के सभी क्रय केन्द्रों पर अनाजों का यही हाल है. इनमें बरहनी, नियमताबाद, चन्दौली सदर, शहाबगंज, चकिया, नौगढ़, सकलडीहा, धानापुर और चहनियां ब्लाक में शामिल है. बताया जाता है चंदौली में मौजूदा वर्ष में कुल 66 हजार 600 मीट्रिक टन गेहूं की खरीद का लक्ष्य रखा गया था, इसके सापेक्ष भारतीय खाद्य निगम और यूपी को-ऑपरेटिव सोसाइटी समेत तमाम एजेंसियों के माध्यम से 72, 493 मीट्रिक टन गेहूं की खरीद की गई, लेकिन गेहूं को भण्डारण के लिए एफ़सीआई के जिस गोदाम में भेजा जाना था उस गोदाम की क्षमता महज 38, 800 मीट्रिक टन है, जिसके चलते खरीदे गए पूरे अनाज को भंडारण के लिए एफसीआई नहीं भेजा जा सका और हजारों कुंतल अनाज बाहर खुले में छोड़ दिया गया.
यह भी पढ़ें-फसल खरीद को लेकर भड़के किसान, खरीद एजेंसियों पर लगाए आरोप



बताया जाता है खाद्य विभाग ने क्रय केन्द्रों को संचालित करने वाली एजेंसियों को किसानों से खरीद गए गेहूं के उचित रख रखाव का निर्देश दिया था, बावजूद इसके क्रय केंद्रों पर लापरवाही बरती गई और जिले के कई क्रय केन्द्रों पर खुले आसमान में रखा गेंहू बारिश की भेंट चढ़ गया. बहरहाल, अब विभाग के अधिकारी जांच और कार्यवाही की बात कह रहें है जबकि प्रशासनिक अधिकारी अपनी जिम्मेदारी से पल्ला झाड़ते हुए चिर निद्रा में सोए हुए हैं.



(रिपोर्ट-नितिन गोस्वामी, चंदौली)
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज