CM योगी आज काशी समेत कई बाढ़ प्रभावित इलाकों का करेंगे हवाई सर्वेक्षण
Varanasi News in Hindi

CM योगी आज काशी समेत कई बाढ़ प्रभावित इलाकों का करेंगे हवाई सर्वेक्षण
CM योगी आज काशी समेत कई बाढ़ प्रभावित इलाकों का करेंगे हवाई सर्वेक्षण

प्रयागराज में तकरीबन 1 लाख लोग घर बार छोड़कर सुरक्षित जगहों पर चले गए हैं. तमाम मकान टापू बन गए हैं. सड़कें और रास्ते पानी में डूबने की वजह से कई जगहों पर लोगों का संपर्क बाकी जगहों से कट गया है.

  • Share this:
वाराणसी. उत्तर प्रदेश में गंगा और यमुना समेत कई नदियां उफ़ान पर हैं. इसी स्थिति को देखते हुए उत्तर प्रदेश (Uttar Pradesh) के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ (Yogi Adityanath) शुक्रवार को प्रयागराज, वाराणसी और गाजीपुर के बाढ़ प्रभावित इलाकों का हेलीकाफ्टर से हवाई सर्वेक्षण करेंगे. इसके बाद बाढ़ से प्रभावित लोगों को अपने हाथों से राहत सामग्री का भी वितरण करेंगे. सीएम योगी सबसे पहले प्रयागराज आएंगे. प्रयागराज में बाढ़ प्रभावित इलाकों का दौरा करने के दोपहर बाद वह बनारस आएंगे.

इस दौरान मुख्यमंत्री लंका स्थित सामने घाट, सरैया, कोनिया सहित अन्य इलाकों का निरीक्षण करेंगे. सीएम योगी आदित्यनाथ ने इससे पहले 17 सितंबर को बलिया जिले का दौरा किया था. जहां उन्होंने प्रशासनिक अधिकारियों को बाढ़ पीढ़ितों को हर संभव मदद करने का आदेश दिया था.

वाराणसी के स्कूलों में लगे राहत शिविर
कई गांवों के स्कूलों को बंद कर उनमें राहत शिविर बना दिए गए हैं. केंद्रीय जल आयोग के अनुसार, गंगा का जलस्तर फिलहाल 71.50 मीटर के ऊपर पहुंच गया. यह खतरे के निशान 71.26 मीटर से 24 सेंटीमीटर ज्यादा है. जबकि गंगा का जलस्तर बढ़ने की गति अब भी एक सेंटीमीटर प्रति घंटा है. हालांकि राहत की बात ये है कि पहले ये रफ्तार एक घंटे में तीन सेंटीमीटर थी. जल आयोग के अनुसार, 2016 में भी गंगा ने खतरे के निशान को पार किया था. उधर, गंगा का जलस्तर बढ़ने का असर इसकी सहायक नदियों पर भी पड़ा है और वरुणा व असि का पानी एक दर्जन से अधिक इलाकों में भर चुका है.
प्रयागराज में सभी स्कूल 3 दिन के लिए बंद



प्रयागराज में तकरीबन 1 लाख लोग घर बार छोड़कर सुरक्षित जगहों पर चले गए हैं. तमाम मकान टापू बन गए हैं. सड़कें और रास्ते पानी में डूबने की वजह से कई जगहों पर लोगों का संपर्क बाकी जगहों से कट गया है. बाढ़ प्रभावित इलाकों के 12वीं तक के सभी बोर्डों के स्कूलों को तीन दिन के लिए बंद कर दिया गया है. वैसे प्रयागराज के लोगों को इस भयंकर बाढ़ से फिलहाल निजात मिलती नहीं नजर आ रही है. यहां आने वाले दिनों में बाढ़ का और रौद्र रूप देखने को मिल सकता है.

अब तक 143 परिवार बेघर

गंगा और यमुना नदियों की बाढ़ से अब तक 143 परिवार बेघर हुए हैं और 143 परिवारों के 1474 लोगों ने नौ बाढ़ शिविरों में शरण ली है. डीएम ने गंगा और यमुना नदियों के पांच किलोमीटर के दायरे के 12वीं तक के स्कूलों में तीन दिन का अवकाश घोषित कर दिया है.

ये भी पढ़ें:

लॉ स्टूडेंट यौन शोषण मामला: आरोपी चिन्मयानंद को SIT ने आश्रम से किया गिरफ्तार

बेटी साक्षी बोलीं मां मुझे नहीं मरना, फिर दो बच्चों के साथ किया आत्महत्या...

3 हजार का चालान कटा तो जूनियर इंजीनियर ने कटवा दी चौकी और थाने की बिजली
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज

corona virus btn
corona virus btn
Loading