Varanasi: पद्म विभूषण पंडित छन्नूलाल से अचानक मिले CM योगी, बेटी की मौत पर दिया न्याय का भरोसा

पंडित छन्नूलाल से अचानक मिले CM योगी (File photo)

पंडित छन्नूलाल से अचानक मिले CM योगी (File photo)

बता दें कि 29 अप्रैल को पंडित छन्नूलाल मिश्रा (Pandit Chhannulal Mishra) की बड़ी बेटी संगीता मिश्रा की मेडविन हॉस्पिटल में मौत हो गई थी, जिसके बाद पंडित छन्नूलाल ने आरोप लगाया कि डॉक्टरों ने इलाज में लापरवाही बरती है.

  • Share this:

वाराणसी. बनारस घराने के शास्त्रीय संगीतज्ञ पद्म विभूषण पंडित छन्नूलाल मिश्र (Pandit Chhannulal Mishra) की बेटी की कोरोना से मौत हो गई. मंगलवार की सुबह वाराणसी के सर्किट हाउस में पंडित छन्नूलाल ने मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ से मुलाकात की. इस मौके पर पंडित छन्नूलाल की बेटी नम्रता मिश्रा भी मौजूद थीं. इस मौके पर मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने पंडित छन्नूलाल से अपने स्वास्थ्य का खयाल रखने को कहा. इसके साथ ही विश्वास दिलाया कि उनकी बेटी की मौत की जांच होगी. उन्होंने पंडित छन्नूलाल से कहा कि आप काशी ही नहीं पूरे देश की शान है, ऐसे में हमे आपके दुख सुख का पूरा ख्याल है. इस दौरान लगभग 40 मिनट की मुलाकात हुई.

इस बारे में और जानकारी देते हुए पंडित छन्नू लाल मिश्रा की छोटी बेटी डाॅ नम्रता मिश्रा ने बताया कि आज सर्किट हाउस में सीएम योगी से मुलाकात हुई. मुलाकात में अपनी फाइल दिखाई और सीएम योगी ने खुद फाइल पढ़ी और आश्वासन दिया कि पूरे मामले की दोबारा निष्पक्ष जांच कराई जाएगी और बकायदा एक नई टीम भी गठित होगी जो जांच करेगी. अब मिलकर काफी संतुष्टि हुई है. नम्रता ने बताया कि अपना पक्ष रखकर काफी संतोष मिला है और अब भरोसा है कि अब जो जांच होगी वह पूरी तरह से निष्पक्ष होगी.

UP: 26 मई को किसानों के ‘विरोध दिवस’ को समर्थन देगी BSP, मायावती ने की अपील- केंद्र सरकार निकाले हल

सीसीटीवी फुटेज की भी मांग सीएम के सामने रखी गई. जिसपर उनका भी यहीं कहना था कि अस्पताल में सीसीटीवी होना चाहिए. तो वहीं पंडित छन्नू लाल मिश्रा ने बताया कि सीएम योगी से मुलाकात हुई है और उन्होंने भरोसा दिलाया है कि दोबारा जांच होगी. अब उम्मीद है कि न्याय मिलेगा.
मेडविन हॉस्पिटल में हुई थी बेटी की मौत

बता दें कि 29 अप्रैल को पंडित छन्नूलाल मिश्रा की बड़ी बेटी संगीता मिश्रा की मेडविन हॉस्पिटल में मौत हो गई थी, जिसके बाद पंडित छन्नूलाल ने आरोप लगाया कि डॉक्टरों ने इलाज में लापरवाही बरती है. डीएम कौशल राज शर्मा ने इस मामले की जांच के लिए तीन मेंमर का मेडिकल बोर्ड बनाया. बाद में अस्पताल को क्लीन चिट दे दी गई. पंडित छन्नूलाल और उनकी छोटी बेटी का आरोप है कि जांच के लिए अस्पताल का सीसीटीवी फुटेज देखना चाहिए. जांच सिर्फ दिखाने के लिए की गई है.

अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज