COVID-19: वाराणसी के मुस्लिम बहुल इलाकों में RSS की टीम पहुंचा रही राशन व भोजन...
Varanasi News in Hindi

COVID-19: वाराणसी के मुस्लिम बहुल इलाकों में RSS की टीम पहुंचा रही राशन व भोजन...
आरएसएस टीम के लोग सोशल डिस्टेंसिंग के नियमों का पालन करते हुए लोगों को मदद मुहैया करा रहे हैं

आरएसएस (RSS) प्रचारक विनोद सिंह का कहना है कि हमे संघ में अनुशासन के साथ ही राष्ट्रभक्ति सिखाई जाती हैं जिसमें न जात शामिल होता है और ना ही धर्म. हिन्दुस्तान में सभी नागरिक हिन्दुस्तानी हैं न कोई हिन्दू और न ही मुस्लिम ऐसे में हम सभी लोगों तक मदद पहुंचाते हैं.

  • Share this:
वाराणसी. महामारी कोरोना वायरस (Coronavirus Pandemic) प्रत्यक्ष और अप्रत्यक्ष रूप से सबको प्रभावित कर रहा है. जो न जाति देख रहा है और न ही धर्म सभी इसकी चपेट में हैं. इसी दौरान सामाजिक सौहार्द बिगाड़ने वाले कुछ वाकये भी सामने आ रहे हैं. लेकिन इस संकट के समय में धार्मिक रूढियों को परे रख मानवता के काम में उतरी आरएसएस (RSS) की टीम वाराणसी के मुस्लिम बहुल इलाकों में राशन के राहत पैकेट के साथ-साथ भोजन भी मुहैया कराते हुए सामाजिक सौहार्द कायम रखने का संदेश दे रही है. ऐसे नाजुक समय में आरएसएस के प्रचारक विनोद सिंह का ये कहना कि 'संघ में अनुशासन के साथ ही राष्ट्रभक्ति सिखाई जाती हैं जिसमें न जाति शामिल होती है और ना ही धर्म. हिन्दुस्तान में सभी नागरिक हिन्दुस्तानी हैं न कोई हिन्दू और न ही मुस्लिम' सुखद अहसास कराता है.

यही राष्ट्रधर्म है
दरअसल इस वायरस के संक्रमण को रोकने के लिए देशव्यापी लॉकडाउन है ऐसे में रोज कमाने-खाने वाले गरीब तबके के लोगों के सामने सबसे बड़ी समस्या भोजन की है फिर चाहे वो हिन्दू हो या मुस्लिम. सरकारी मशीनरी के साथ-साथ समाज सेवी संस्थाएं इन लोगों तक भोजन पहुंचा रही हैं इन्ही समाज सेवी संस्थाओं में से एक क्योंकि आरएसएस की छवि हिंदूवादी रही है लेकिन इस संकट की घड़ी में मानव सेवा को सर्वोपरि रखते हुए RSS की टीम मुस्लिम बहुल इलाकों में पहुंच कर जरूरतमंद लोगों को खाना खिला रही है और राशन वितरण कर रही है. आरएसएस टीम के लोग सोशल डिस्टेंस (Social distance) को मेंटेन कराते हुए मुस्लिम परिवारों को सूखे राशन के साथ-साथ भोजन की व्यवस्था करवा रही है.

बनारस में आरएसएस द्वारा ये सेवा लगातार जारी है. संघ द्वारा किये जा रहे इस कार्य को सूचना के आधार पर किया जा रहा है. जिस इलाके से भी सूचना आ रही है कि वहां भोजन की आवश्यकता है संघ के लोग वहां जाकर भोजन की व्यवस्था करवा रहे हैं फिर चाहे वो मुस्लिम इलाका हो या हिंदू. भोजन वितरित करने वाले आरएसएस प्रचारकों का कहना है कि उन्हें राष्ट्रधर्म सिखाया जाता है न कि हिन्दू-मुस्लिम. आरएसएस प्रचारक विनोद सिंह का कहना है कि हमे संघ में अनुशासन के साथ ही राष्ट्रभक्ति सिखाई जाती हैं जिसमें न जात शामिल होता है और ना ही धर्म. हिन्दुस्तान में सभी नागरिक हिन्दुस्तानी हैं न कोई हिन्दू और न ही मुस्लिम ऐसे में हम सभी लोगो तक मदद पहुंचाते हैं.
ये भी पढ़ें- Lockdown: मौलाना फरंगी महली की अपील- घर में पढ़ें तराबीह की नमाज, इफ़्तार के खाने को भूखों में बांटे


अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज

corona virus btn
corona virus btn
Loading