लाइव टीवी

BHU Admission: अगर नहीं भर पाए हैं फॉर्म तो है एक मौका, पढ़ें ये खबर
Varanasi News in Hindi

Upendra Dwivedi | News18 Uttar Pradesh
Updated: March 1, 2020, 7:49 PM IST
BHU Admission: अगर नहीं भर पाए हैं फॉर्म तो है एक मौका, पढ़ें ये खबर
बीएचयू की गिनती देश के बड़े विश्वविद्यालयों में होती है. (फाइल फोटो)

बीएचयू प्रशासन (BHU Administration) ने दाखिले के लिए आवेदन की डेट को आगे बढ़ा दिया है. अब यहां 12 मार्च तक एडमिशन के लिए आवेदन किया जा सकता है.

  • Share this:
वाराणसी. उन छात्र-छात्राओं के लिए एक बड़ी खबर है, जो बीएचयू (BHU) में पढ़ना चाहते हैं लेकिन दाखिले के लिए आवेदन करने से चूक गए हैं. ऐसे छात्र छात्राएं निराश न हों, इस बार बीएचयू प्रशासन ने दाखिले के लिए आवेदन की डेट को बढ़ा दिया है. अब यहां 12 मार्च तक एडमिशन के लिए आवेदन किया जा सकता है. बता दें कि आवेदन की प्रक्रिया 30 जनवरी से शुरू हुई थी. अब तक करीब चार लाख छात्र छात्राओं ने यहां के अलग अलग विभागों में एडमिशन के लिए आवेदन किया है.

सिर्फ ऑनलाइन हो सकते हैं आवेदन

इस बार खास बात ये है कि पहले जहां सभी पाठ्यक्रमों के लिए आवेदन की प्रक्रिया सिर्फ ऑनलाइन कराने का फैसला हुआ था, वहीं इस बार छात्र छात्राओं की सुविधा को ध्यान में रखते हुए वाराणसी में ही कुछ स्नातक पाठ्यक्रमों की परीक्षा ओएमआर शीट पर कराई जाएगी.



वेबसाइट पर ले सकते हैं जानकारी



प्रवेश प्रक्रिया से जुड़ी आप कोई जानकारी लेना चाहते हैं तो बीएचयू की वेबसाइट पर जा कर ले सकते हैं. इस बार अभ्यर्थियों की प्रवेश परीक्षा की प्रक्रिया की जानकारी के लिए प्रवेश परीक्षा पोर्टल पर एक कंप्यूटर बेस्ड टेस्ट है. जो अंग्रेजी और हिंदी दोनों माध्यम में है. इसके अलावा पोर्टल पर ही मॉक टेस्ट लिंक भी दिया गया है. इच्छुक छात्र छात्राएं प्रवेश परीक्षा पोर्टल पर उपलब्ध लिंक के जरिए भी अभ्यास कर सकते हैं.

कई पाठ्यक्रम हैं यहां

गौरतलब है कि बीएचयू में कई ऐसे विभाग और पाठ्यक्रम है जो दुनिया के दूसरे विश्वविदयालयों में नहीं है. बनारस हिंदू विश्वविदयालय में स्नातक के लिए 25, मास्टर्स के लिए 131 पाठयक्रमों के लिए प्रवेश परीक्षा होनी है.

1916 में मदन मोहन मालवीय ने की थी स्थापना

बनारस हिंदू विश्वविद्यालय पूर्व में सेंट्रल हिंदू कॉलेज के नाम से जाना जाता ता. इसकी स्थापना 1916 में मदन मोहन मालवीय ने की थी. केंद्रीय विश्वविद्यालय बीएचयू के कैम्पस में करीब 15000 से अधिक छात्र पढ़ाई करते हैं. देश के इस प्रसिद्ध विश्वविद्यालय से कई विचारक, वैज्ञानिक और दिग्गज राजनेताओं ने पढ़ाई की है. भारतीय संस्कृति के प्रचार प्रसार में भी बीएचयू की बड़ी भूमिका रही है.

काशी के राजा ने किया था जमीन दान

देश का प्रसिद्ध विश्वविद्यालय बीएचयू को माना जाता है कि लगभग 1,300 एकड़ एरिया में फैला हुआ है. इसके लिए काशी के राजा ने जमीन दान किया था. इसका एक और कैम्पस मिर्जापुर जिले में भी है.

ये भी पढ़ें: UP Assembly Election 2022: चुनावी मैदान में उतरेगी भीम आर्मी, होगी घोषणा

मां ने ही 7 माह की मासूम को जमीन में पटक कर मार डाला, Video Viral

 

 

News18 Hindi पर सबसे पहले Hindi News पढ़ने के लिए हमें यूट्यूब, फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करें. देखिए वाराणसी से जुड़ी लेटेस्ट खबरें.

First published: March 1, 2020, 7:33 PM IST
पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर
corona virus btn
corona virus btn
Loading